The 4th GPM Session, Peace Candles for Kashmir will be held on 16th April

Gulshaa Begum
Gulshaa Begum
The 4th GPM Session, Peace Candles for Kashmir will be held on 16th April at Hotel Merwara Palace Ajmer at 9:30 am. The roundtable conference is organized by Divine Abode Foundation and Kamaluddin Charitable Trust in association with World Metaphysics Research Foundation.

Kashmir is a Intergral part of India and every Indian must speak for Kashmir. Fear should not blind us and we must fearlessly work towards peace and harmony. The aim of the conference is to awaken the people of India so that together we can enlighten the lives of our brothers and sisters in Kashmir said Gulsha Begum President Global Peace Mission

Dewan Saheb the spiritual head of Ajmer Dargah & Mehant Sompuri the spiritual head of Brahma Mandir in pushkar will light the lamp at the auspicious occasion.

Scholars, Doctors, Academicians, Spiritualist, Philanthropist from Kashmir, Delhi and London will participate in the ground breaking topic and will light candles of peace.

Guest of Honour and Media person from Kashmir Komal Singh will open the session by highlighting the current scenario , conflicts and highlight the issues in the valley.

Keynote speakers will be Sudhir Bhargav Former Principal DAV College , Dr Meghna Sharma from Maharaja Ganga Singh University, Bikaner, Dr Sandeep Awasti Sufi & Vedanta Scholar , Professor TK Mathur and Komal Singh

DL Tripati, Rajkumari Dhandwal, SP Mittal, Ras Bihari Gaur, Col Rakesh Sharma, Dr Brijesh Mathur, Prakash Jain, Haji Insaaf Ali, Sabah Khan, Mahendra Singh Ralawta, Dr Sudeep Rai , Nitin Sharma, SN Chishty , Dr Sathish Arora, BK yogini , Sophia Barta Di Albufera will participate in the ground breaking question and answer session

The aim of the conference is to address the misery with solutions for the people who are suffering in the valley said Atul Agarwal PRo Divine Abode Foundation

This is a very good initiative for Kashmir. Its been over a decade that anyone has had the courage to speak for Kashmir and understand the truth of our suffering. This is a great opportunity for us to now speak of the issues of Kashmir where every common man must come forward and participate. Further it’s a great platform created by Gulsha Begum where we can fearlessly address the issues of our homeland said Komal Singh.

दिनांक 16 अप्रैल, रविवार प्रातः 9.30बजे हेाटल मेवाडा पैलेस अजमेर में कांफ्रेंस आयोजित की जायेगी। यह कांफ्रेंस डिवाईन अबोर्ड फाउंडेशन एवं कमालुद्दिन चेरेटेबिल ट्रस्ट और ॅवतसक डमजंचीलेपबे त्मेमंतबी थ्वनदकंजपवद के सहयोग से आयोजित की जायेगी। कश्मीर भारत का एक स्वर्ग है और महत्वपूर्ण हिस्सा है और हम सभी भारतीयों को खुलकर कश्मीर मुद्दे पर बात करनी चाहिए। हम भारतीयों को निडर होकर शांति सद्भावना की दिशा में काम करना चाहिए।
चैयरपर्सन गुलशा बेगम ने बताया कि हम सब भारतीय जागरूक होकर कश्मीर समस्या का समाधान कर कश्मीर के सभी भाई-बहनों की रक्षा एकजुट होकर करें। प्रवक्ता अतुल अग्रवाल ने बताया कि इस सम्मेलन में मुख्य अतिथि अजमेर दरगाह शरीफ से दरगाह दीवान जेनुअल आबेदीन एवं मंहत सोमपुरी, बह्मा मंदिर पुष्कर से होंगे। यह द्वीप प्रजवल्लित कर कांफ्रेंस का शुभारम्भ करेंगे।
गेस्ट ऑफ ओनर कोमल सिंह कश्मीर से कश्मीर मुद्दे पर विशेष प्रकाश डालेंगी एवं सोफिया वार्ता दी अलबुफिरा सूफी रिसर्च एण्ड राईटर/फोटोग्राफर लंदन, विद्धानों, प्रेस मिडीया , डाक्टर, शिक्षकों, संतों द्वारा इस कार्यक्रम में भाग लेकर अपने विचार प्रस्तुत करेंगे।
इस कार्यक्रम में स्पीकर डा. सुधीर भार्गव, रिटायर्ड प्रिंसिपल डीएवी कालेज, डा. मेघना शर्मा, महाराजा गंगासिंह यूनिवर्सिटी बिकानेर, डा. संदीप अवस्थी, सूफी एवं वेदान्ता स्कालर, प्रो. टी.के.माथुर, डी.एल. त्रिपाठी, राजकुमारी ढंडवाल, प्रेस क्ल्ब अध्यक्ष एस.पी. मित्तल, राजबिहारी गौड, कर्नल राकेश शर्मा, डा. बृजेश माथुर, प्रकाश जैन, हाजी इंसाफ अली, पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष महेन्द्र सिंह रलावता, महिला कांग्रेस अध्यक्ष शबा खान, डा. सुदीप राय, एस.एन. चिश्ती, डा. सतीश अरोडा, ब्रह्मा कुमारी, बी.के. योगिनी, डा. ए.के. रेना, नीरू गर्ग, नितिन शर्मा, प्रवक्ता ब्रह्मा मंदिर अरूण जी पाराशर होगे ।
कोमल सिंह ने बताया कि जो कश्मीर घाटी के लो पीडित हैं उनकी सहायता करनी चाहिए और समस्या का समाधान करग देश में एकजुट होकर भाईचारे का संदेश जनगण तक पहुंचाना है। यह कि एक दशक से ज्यादा हो गया है कि कश्मीर समस्या पर बोलने का साहस किसी ने नहीं किया। यह पहला महान अवसर है कि हम कश्मीर मुद्दे पर बात करने के लिए आगे आकर निडर होकर अपनी मात्र भूमि के मुद्दे का समाधान कर सकते हैं। यह कश्मीर के लिए बहुत गर्व की बात होगी। गुलशा बेगम द्वारा बनाया गया शांतिवार्ता करने का यह एक बडा मंच है।

अतुल अग्रवाल
प्रवक्ता डिवाईन अबोर्ड
9351728335

Leave a Comment