वसुंधरा झूठी वाहवाही लूटने का प्रयास कर रही हैं

IMG_20171011_162018_Burst01अजमेर 11 अक्टूबर। अजमेर शहर कांग्रेस अध्यक्ष ने आरोप लगाया कि अजमेर में बीस साल भाजपा का सांसद रहने के बावजूद एयरपोर्ट नहीं बनावा पाऐ थे। सचिन पायलट के प्रयासों से बनने पर अब मुख्यमंत्री वसुंधरा इसका उद्घाटन करके झूठी वाहवाही लूटने का प्रयास कर रही हैं। कांग्रेस का दावा है कि किशनगढ़, अजमेर में हवाई अड्डा सिर्फ सचिन पायलट की ही देन है आज पायलट का सपना पूरा हुआ है उन्होने ही केंद्र सरकार से नियम बदलवाकर स्वीकृत कराया था हवाई अड्डा इसलिये यह अजमेर वासियों को पायलट की सौगात माना जाएगा।
स्थानीय इन्डिोर स्टेडियम के सभा भवन में आयोजित संवाददाता सम्मेलन में शहर कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने पत्रकारों को बताया कि भारतीय जनता पार्टी के सांसद के रूप में रासासिंह रावत अजमेर लोकसभा क्षेत्र से नवंबर 1989 से लेकर 17 मई 2009 तक लगातार लोकसभा में पांच बार भाजपा के टिकट पर विजयी होकर सांसद बने और उन्होने 20 साल अजमेर संसदिय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया, हर बार भाजपा ने अपने घोषणपत्र में अजमेर में हवाई अड्डा बनवाने के झूठे वादे किये और लगातार 20 वर्षों तक अजमेर की जनता भाजपा के छल का षिकार होती रही और अजमेर एयरपोर्ट की सेवाओं से वंचित रहा।
कांग्रेस अध्यक्ष जैन ने कहा कि सचिन पायलट ने अजमेर को अपनी राजनीतिक कर्मभूमि बनाने के साथ ही अजमेर की जनता से वादा किया था कि वे यहां हवाई अड्डा बनाने का सपना पूरा करेंगे, और उन्होने किशनगढ़ में हवाई अड्डा स्थपित करवाने के लिये केन्द्र सरकार से करीब 145 करोड़ स्वीकृत करवा कर 745 एकड़ में इसकी स्थापना के लिये देष के तत्कालीन प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से इसका शीलान्यास करवाया। किशनगढ़ एयरपोर्ट आधुनिक एवं कम लागत में तैयार एयरपोर्ट है, जिस पर देश के दूसरे राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों जैसी सुविधाएं विकसित की गई हैं।
सचिन पायलट के प्रयासों से बने हवाई अड्डे का आज मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे और केन्द्रीय नागरिक उड्डयन राज्य मंत्री जयंत सिन्हा द्वारा उद्घाटन करके श्रेय लेने की सियासत की जा रही है। जबकी सचिन पायलट ने अजमेर में सेन्ट्रल युनिर्वसिटी की स्थापना इसी लिये करवाई थी कि उन्हे विष्वास था की वह अजमेर मे हवाई अड्डा स्थापित करवाने मे कामयाब होंगे क्योंकि केन्द्रीय विष्वविद्यालय वहीं बनाया जाता है जहा हवाई यात्रा की सुविधा हो।
उन्होने कहा कि अजमेर हवाई अड्डे में सबसे बड़ी अड़चन इसकी जयपुर हवाई अड्डे से दूरी थी। एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ इंडिया के नियम थे कि दो हवाई अड्डों के बीच की दूरी 130 किलोमीटर से अधिक होनी चाहिए। किशनगढ़ जयपुर हवाई अड्डे से मात्र 100 किलोमीटर दूरी पर है। सचिन पायलट ने अपने प्रभाव का इस्तेमाल कर केंद्र सरकार से यह नियम बदलवा दिया। पायलट ने इस मामले में अटॉर्नी जनरल ऑफ इंडिया से बात कर जमीन अधिग्रहण के संबंधित प्रकरणों में शीघ्र पैरवी करवाई। उन्होने कहा कि भारत के अटॉर्नी जनरल ऑफ इंडिया ने सुप्रीम कोर्ट में पैरवी की। स्टे हटा, निर्माण का रास्ता साफ हुआ। पायलट के प्रयासों से विस्थापित होने वाले किसानों का भी पूरा ध्यान रखा गया और जमीन अधिग्रहण में मुआवजा राशि को कई गुना बढ़वाया। इसके अलावा क्षेत्र से गुजरने वाली हाई टेंशन लाइन भूमिगत कराने के लिए विशेष बजट दिलवाया, पर्यावरण स्वीकृति जारी कराई।
जैन ने कहा कि यह पूर्व केन्द्रीय मंत्री सचिन पायलट की कोषिषों का नतीजा है कि अजमेर जिले के किशनगढ़ में बने हवाई अड्डे पर जल्द ही विमानों का आवागमन शुरू हो जाएगा। अब जब एयरपोर्ट बनकर तैयार हो चुका है तो लोकसभा उप चुनाव के मद्देनजर भाजपा और उसकी सरकार इसका श्रेय लेने की होड़ में लगी है। मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने किशनगढ़ के हवाई अड्डे का उद्घाटन करके यह साबित भी कर दिया है, लेकिन अजमेर जिले के लोग अच्छी तरह जानते है कि इस हवाई अड्डे के लिए पूर्व केन्द्रीय मंत्री सचिन पायलट ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।
कांग्रेस नेताओं का कहना था कि भूमि के अधिग्रहण और फिर अदालती विवाद को निपटाने में भी पायलट की सक्रिय भूमिका रही। यह पायलट का प्रभाव ही था कि तत्कालीन सीएम अशोक गहलोत ने सरकारी भूमि तो निःशुल्क दी ही साथ ही खातेदारों की भूमि के अधिग्रहण में भी सहयोग किया वे जानते थे कि किसी भी काम में निजी रूचि लेकर ही उसे निश्चित समय सीमा में पूरा किया जा सकता है। यही वजह थी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह व मुख्यमंत्री गहलोत समेत अन्य नेताओं ने पायलट के प्रयासों को सराहना की थी। पायलट तो चाहते थे कि उन्हीं के कार्यकाल में हवाई अड्डे पर विमानों का आवागमन शुरू हो जाए, लेकिन तकनीकी कारणों के चलते यह नहीं हो पाया था। अब जब किशनगढ़ हवाई अड्डे से व्यावसायिक उड़ाने शुरू होने जा रही हैं तो सचिन पायलट की भूमिका को नजर अंदाज किया जा रहा है यह भाजपा की ओछी राजनीति की मानसिकता को दर्षा रहा है।
कांग्रेस अध्यक्ष विजय जैन ने कहा कि ताज्जुब इस बात पर है कि एयरपोर्ट बनाने में कांग्रेस प्रदेषाध्यक्ष सचिन पायलट के इतने साकारात्मक प्रयासों के बावजूद मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे अपने भाषणों में कह रहीं है कि कांग्रेस ने एयरपोर्ट का पत्थर लगाने के सिवाय कुछ नहीं किया। मुख्यमंत्री का यह कहना हास्यपद है कि भाजपा के शासन में एयरपोर्ट के लिए भूमि अधिग्रहण का काम राज्य सरकार द्वारा किया गया। जबकी सच्चाई यह है कि भूमि के अधिग्रहण और फिर अदालती विवाद को निपटाने में भी पायलट की सक्रिय भूमिका रही यह पायलट का प्रभाव ही था कि तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने सरकारी भूमि तो निःशुल्क दी। संवाददाता सम्मेलन में जिला कांग्रेस के पदाधिकारी एवं वरिष्ठ कांग्रेसजन मौजूद थे।
विजय जैन
अध्यक्ष
9414002529

Print Friendly

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>