About Jugal Kishor

Date of Birth----17th May, 1943, Academic Qualification---M.sc (chemistry, Ph.D (Chemistry) Research Publication----20 Research Papers in various International and National Journals Presented many research papers in various National and Inter National conferences. Teaching Experience------- Degree classes----------------33 years P. G. Classes------------------31 years Worked as Lecturer in Chemistry, Selection Grade Lecturer, Head Of Department of Chemistry at GOVT COLLEGE Ajmer from 1969 to 1998. Work Vice Principal At Govt College, Ajmer Work as Principal Govt Girls College, Ajmer and Govt College Kekari. Retired as Joint Director of College Education, Rajasthan, Jaipur, Worked as subject expert for selection of Lecturers in various colleges. Address----2-Ga-16, Vaishali Nagar Ajmer--305006 Phone---0145-2641020 Mobile---9413879635

भगवान विष्णु के हर अवतार में माता लक्ष्मी भी अवतरित हुयी

डा. जे.के.गर्ग
श्री लक्ष्मी का अर्थ है सभी प्रकार के धन, साधारणतया शास्त्रों में 8 प्रकार की धन लक्ष्मी का वर्णन किया जाता है यानि आदि लक्ष्मी , धान्य लक्ष्मी, धैर्य लक्ष्मी , गज लक्ष्मी, संतान लक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, विद्या लक्ष्मी एवं धनलक्ष्मी | शास्त्रों के अन्दर माता लक्ष्मी के सैक Read more

पाँच दिन का पर्व हैं —— दीपावली भाग 1

डा. जे.के.गर्ग
दीवाली कार्तिक महीने में कृष्ण पक्ष की तेरस से कार्तिक शुक्ला दूज (5दिन) यानि धनतेरस, नरक चतुर्दशी, अमावस्या (दीपावली), कार्तिक सुधा पधमी एवं यम द्वितीया या भाई दूज | तक हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इन सभी दिनों के बारे में कई किंवदंतियॉं और पोराणिक गाथायें प्रचलित है। Read more

कार्तिक महीने की अमावस्या को ही दीपावली क्यों मनायी जाती है? भाग 1

डा. जे.के.गर्ग
भगवान राम का लंका विजय के बाद अयोध्या में आगमन:—-जब भगवान राम अहंकारी राक्षसराज रावण का वध करने के बाद लंका का राज्य विभीषन को सोंप कर माता सीता और अनुज लक्ष्मण के साथ अपने ग्रह राज्य अयोध्या में 14 वर्ष का वनवास पूर्ण कर वापस लोटे तो उस वक्त अयोध्या के समस्त नर-नारी उन सभी Read more

ऐसे थे बापू—-जानिये राष्ट्रपिता बापू के जीवन की अविस्मरणीय घटनायें Part 2

डा. जे.के.गर्ग
जीवित व्यक्ति की मूर्ति बनाकर उसकी पूजा करना बेढंगा कार्य है उसके स्थान पर उनकी शिक्षाओं और सद्गुणों को अपनायें—- एक बार गांधीजी को एक पत्र मिला, जिसमें लिखा था कि शहर में गांधी मंदिर की स्थापना की गई है, जिसमें रोज उनकी मूर्ति की पूजा-अर्चना की जाती है। यह जानकर गांधी Read more

ऐसे थे बापू—-जानिये राष्ट्रपिता बापू के जीवन की अविस्मरणीय घटनायें Part 1

डा. जे.के.गर्ग
नकल करना गलत है—–स्कूल के पहले ही वर्ष की, परीक्षा के समय की एक घटना उल्लेखनीय हैं। शिक्षा विभाग के इन्सपेक्टर जाइल्स विद्यालय की निरीक्षण करने आए थे। उन्होंने विद्यार्थियों से अंग्रेजी के पांच शब्द लिखने को कहा उनमें एक शब्द ‘केटल’ (kettle) था। गां Read more

विजयादशमी को मनाये तामसी प्रवतियों पर सात्विक प्रवतियों के विजय दिवस के रूप में पार्ट 1

डा. जे.के.गर्ग
(जीवन में काम,क्रोध,लोभ,मद,मोह,मत्सर,अहंकार,आलस्य,हिंसा, अधर्म एवं चोरी को त्याग कर स्नेह,विनम्रता,सोहार्द को अपनाने का संकल्प लेने का पर्व–दशहरा) संस्कृत भाषा के शब्द ’दश’ व’ हरा’ से मिलकर “दशहरा” बना है | दशहरा का अर्थ भगवान राम के द्वारा रावण के दसों सिरों यानि दसों Read more

नवदुर्गा के नो रूप यानि नारी के नो स्वरूप

डा. जे.के.गर्ग
सच्चाई तो यही कि नवदुर्गा नारी के नो स्वरूप महिलाओं के पूरे जीवनचक्र का प्रतिबिम्ब ही है यानि “शैलपुत्री” जन्म ग्रहण करती हुई कन्या कास्वरूप है, “ब्रह्मचारिणी” नारी का कौमार्य अवस्था प्राप्त होने तक का रूप है, वहीं नारी शादी से पूर्व तक चंद्रमा के समान निर्मल हो Read more

नवरात्रों के महत्व का वैज्ञानिक आधार

डा. जे.के.गर्ग
पृथ्वी द्वारा सूर्य की परिक्रमा करते समय एक साल में चार संधियां होती हैं जिनमें से मार्च व सितंबर माह में पड़ने वाली गोल संधियों में साल के दो मुख्य नवरात्र उत्सव आते हैं । ध्यान रखिये कि इसी समय हमारे शरीर पर रोगाणुओं के आक्रमण की प्रबल संभावना होती है । ऋतु संधियों में अक् Read more

देवी शक्ति की आराधना का पर्व—-नवरात्रा

डा. जे.के.गर्ग
पहला नवरात्रा बालिकाओं को, दूसरा नवरात्रा युवतियों तथा तीसरा नवरात्रा महिलाओं के चरणों में समर्पित है | देवी अम्बा उर्जा (प्राक्रतिक शक्तियों) की प्रतीक है | नवरात्री के चोथे, पांचवें एवं छठे दिन माता लक्ष्मी यानि सुख-सम्पन्नता,शांति एवं वैभव के दिन है | जीवन में धन-दोलत एक Read more

आईये देखें क्यों हमारे अधिकतर धार्मिक पर्व रात में ही मनाये जाते हैं ?

डा. जे.के.गर्ग
क्या हमने इस सच्चाई पर ध्यान दिया है कि क्यों प्रमुख धार्मिक पर्व यथा दीपावली, होली, शिवरात्रि, नवरात्रा आदि हमारे देश में रात में ही मनाये जाते है ? मन में सवाल उठता है कि हम शिवरात्री या नवरात्री को शिवदिन या नवदिन क्यों नहीं कहते हैं? इससे स्पष्ट प्रतीत होता है कि अगर रा Read more

क्‍या भगवान श्रीराम ने की थी नवरात्रि की शुरूआत ?

डा. जे.के.गर्ग
नवरात्रि का पर्व विनाशकारी ,तामसी ,अनिष्टकारी, अधार्मिक एवं अमानवीय प्रव्रत्तियों पर सात्विकता, कल्याणकारी प्रव्रत्तियों, मानवीयता, धर्म एवं सत्य की विजय का पर्व है | नवरात्रा का पर् साल में दो बार यानि चैत्र और आश्विन माह में मनाया जाता है, हालाँकि चैत्र माह में मनाई जाने व Read more