न्यूज चैनलों पर बहस का बवंडर

देवेन्द्रराज सुथार
इन दिनों टेलीवीजन के न्यूज चैनलों पर बहस का क्रेज बढ़ता ही जा रहा है। बिलकुल इसी तरह बढ रहा है, जिस तरह सरकारी दफ्तरों में हाथ गरम करने का क्रेज परवान चढ रहा है। यहीं कारण है कि इन चैनलों पर होने वाली बहस बड़ी गर्मागर्म होती है। जितनी बहस गर्म नहीं होती उससे कई अधिक तो फीमेल ए Read more

नौकरशाहों पर नकेल कसना भी जरूरी है

lalit-garg
इन दिनों नौकरशाहों की कार्यशैली पर विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं की टिप्पणियां सामने आ रही है, नौकरशाही पर इस तरह की टिप्पणियां कोई नई बात नहीं है, अधिकांश राजनीतिज्ञ उन पर टिप्पणियां करते आए हैं। प्रश्न राजनेताओं की टिप्पणियों का नहीं है, बल्कि प्रश्न नौकरशाहों के चरित्र Read more

देश पर जीएसटी के काले साये से मोदी का जादू खत्म !

डॉ. मोहनलाल गुप्ता
अभी उन बातों को अधिक समय नहीं बीता है जब देश की जनता राजनैतिक रैलियों में मोदी-मोदी चिल्लाती थी। जनता को आशा थी कि नरेन्द्र मोदी, समाज के निचले आर्थिक वर्ग से आए हैं, उन्होंने गरीबी तथा उसके दुःखों को निकट से देखा है, इसलिए वे देश की जनता को राहत पहुंचाएंगे। पिछली कांग्रेस स Read more

मनरेगा को धीमा जहर दे रही है सरकार

बाबूलाल नागा
बाबूलाल नागा देश के लोकतांत्रिक तरीके से चुनी हुई केंद्र सरकार अपने बहुमत के बूते महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी कानून (मनरेगा) को गारंटी से योजना की तरफ मोड़ रही है। मनरेगा के कानूनी प्रावधानों का बेरहमी से उल्लंघन किया जा रहा है। मनरेगा के अधिकारों का विस्तार Read more

क्या खत्म हो रहा है मोदी का जादू?

modi1
क्या है इलाहाबाद यूनिवर्सिटी छात्र संघ चुनावी नतीजों का संकेत? इलाहाबाद (प्रदीप कुमार, बीबीसी संवाददाता)। देश के अधिकतर विश्वविद्यालयों के छात्रसंघ चुनावों में लगातार हार का मुंह देख रहे भारतीय जनता पार्टी के छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद को अब इलाहाबाद विश्वविद्य Read more

अच्छे दिनों का मायालोक एवं जीएसटी का काला जादू

डॉ. मोहनलाल गुप्ता
कहा नहीं जा सकता कि विगत लोकसभा चुनावों में श्री नरेन्द्र मोदी द्वारा दिया गया नारा- ‘अच्छे दिन आएंगे’ से उनका क्या आशय था किंतु जैसे दिन आए हैं उनका कड़वा अनुभव मुझे अच्छी तरह हो रहा है। एक बैंक शाखा में हमारा पारिवारिक लॉकर है जिसके लिए इस सरकार के आने से पहले बैंक द्वारा 1 Read more

क्या सती, सावित्री एवं सीता कमजोर स्त्रियों की प्रतीक हैं ?

डॉ. मोहनलाल गुप्ता
‘‘सती, सावित्री, सीता और अनुसुइया भारतीय नारियों का गौरव हैं, जिनसे प्रेरणा लेकर भारतीय नारियां हजारों वर्षों से एक सहज-सुलभ जीवन-पथ का अनुसरण करती आई हैं, इन पौराणिक नारी चरित्रों पर आघात करके देश की नारियों को दिग्भ्रमित करने का कुत्सित प्रयास भारतीय नारियों को स्वीकार्य न Read more

अब एक नयी सम्पूर्ण क्रांति हो

lalit-garg
आजादी के आंदोलन से हमें ऐसे बहुत से नेता मिले जिनके प्रयासों के कारण ही यह देश आज तक टिका हुआ है और उसकी समस्त उपलब्धियां उन्हीं नेताओं की दूरदृष्टि और त्याग का नतीजा है। ऐसे ही नेताओं में जीवनभर संघर्ष करने वाले और इसी संघर्ष की आग में तपकर कुंदन की तरह दमकते हुए समाज के सा Read more

कितनी उचित प्रदेश में बिजली कटौती?

हेमेन्द्र सोनी
और कटौती क्यो, कटौती तक पहुचे हालात जिसका जिम्मेदार कौन प्रदेश में बिजली विभाग ने अलग अलग इलाके के हिसाब से विद्युत कटौती का प्रोग्राम जनता के सामने रख दिया । यह कितना उचित है । जबकि पावर प्लांट के अधिकारियों ने कोयले कि कमी के लिए पिछले 15 दिनों से उच्च अधिकारियों और सरकार Read more

बदलते उत्तर प्रदेश में बेचारे बछड़े ….!!

तारकेश कुमार ओझा
कहते हैं यात्राएं अपनी मर्जी से नहीं होती। ये काफी हद तक संयोग पर निर्भर हैं। क्या यही वजह है कि लगातार छह साल की अनुपस्थिति के बाद नवरात्र के दौरान मुझे इस साल तीसरी बार उत्तर प्रदेश जाना पड़ा। अपने गृहजनपद प्रतापगढ़ से गांव बेलखरनाथ पहुंचने तक नवरात्र की गहमागहमी के बीच Read more

अब राष्ट्रगान पर विवाद स्वीकार्य नहीं

lalit-garg
हमारे देश में राष्ट्रगान और राष्ट्रगीत को लेकर तथाकथित कट्टर ताकतें विरोधी स्वर उठाती रही है, इनके सार्वजनिक स्थलों पर गायन का दायरा क्या हो और वह किसके लिए सहज या असहज है, इस सवाल पर कई बार बेवजह विवाद उठे हैं। लेकिन इलाहाबाद हाईकोर्ट ने बुधवार को दिए अपने एक आदेश में साफ क Read more