इन मौतों का जिम्मेदार कौन

ओम माथुर
जिस देश मे नेताओं की आवभगत पर करोड़ों रुपए खर्च हो जाते हैं, उस देश में चंद पैसों के कारण ऑक्सीजन की सप्लाई रुक जाने की वजह से 60 बच्चों की मौत पूरे सिस्टम पर करारा तमाचा हैं और वो भी उत्तरप्रदेश के उस शहर गोरखपुर में, जो खुद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का कार्यक्षेत्र हैं। जो Read more

हामिद अंसारी की अभिव्यक्ति पर गौर हो

सत्य किशोर सक्सेना
उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी जी ने दस वर्ष के कार्यकाल के अंतिम दिन राज्य सभा टी.वी.को दिये साक्षात्कार में संवेदनशील अभिव्यक्ति की स्वीकार्यता के माहौल का अभाव व मुस्लिमों में असुरक्षा की भावना की व्याप्ति ने बहस छेड़ दी जो आरोप प्रत्यारोप में उलझती प्रतीत हो रही हैं जब कि वस् Read more

रात भर मैं कानून बना देते हैं फिर बैठ कर रोते है ?

राजेश टंडन एडवोकेट
भारत मैं जैसे रोज संविधान मे संशोधन होते हैं , वैसे ही अब देश के कानून मैं भी होने लगे , कुल जमा खर्च चार या पांच कानून बनाये थे आजादी के बाद , उन पर भी कोई लोक सभा मैं बहस नहीं होती ये उसी का परिणाम है , बेचारा लार्ड मेकाले भी ऊपर बैठा रोता होगा की मैं इनको कितनी अच्छी I P Read more

मोदी जी के नीति निर्माता भी बढ़ती बेरोजगारी से डरे, भागे अमरीका

modi
जिनको मोदी जी ने देश के लिये नीति बनाने का जिम्मा दिया था वो भी लगता है देश में बढ़ती बेरोज़गारी से बुरी तरह डर गये तभी तो नीति आयोग के उपाध्यक्ष अरविंद पनगढ़िया ने इस्तीफा दे दिया 65 साल की उम्र के इस पड़ाव में खुद के लिये उन्हें अमेरिका में सुरक्षित नौकरी तलाशनी पड़ी क्योंकि भा Read more

मोदी जी! कब सुनोगे ‘बेरोजगारों’ के मन की बात

lalit-garg
बेरोजगारों को रोजगार का सपना दिखाकर भारी बहुमत से सत्ता में आये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अच्छे दिन के वादे शिक्षित बेरोजगारों के लिये शेखचिल्ली के ख्वाब साबित हुए हैं। चपरासी की 5 पास नौकरी के लिये जहां एमबीए, बीटेक, एमटेक, ग्रेजुएट युवा लाइनों में लगे हुए हैं वहीं दूसर Read more

मोदी जी! कब सुनोगे ‘बेरोजगारों’ के मन की बात

मफतलाल अग्रवाल
बेरोजगारों को रोजगार का सपना दिखाकर भारी बहुमत से सत्ता में आये प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अच्छे दिन के वादे शिक्षित बेरोजगारों के लिये शेखचिल्ली के ख्वाब साबित हुए हैं। चपरासी की 5 पास नौकरी के लिये जहां एमबीए, बीटेक, एमटेक, ग्रेजुएट युवा लाइनों में लगे हुए हैं वहीं दूसर Read more

गुड़ियाएं कब तक नौंची जाएंगी?

lalit-garg
हिमाचल की शांत, शालीन एवं संस्कृतिपरक वादियां गुड़िया के साथ हुए वीभत्स एवं दरिन्दगीपूर्ण कृत्य से न केवल अशांत है बल्कि कलंकित हुई है। एक बार फिर नारी अस्मिता एवं अस्तित्व को नौंचने वाली घटना ने शर्मसार किया है। देवभूमि भी धुंधली हुई है क्योंकि उस पवित्र माटी की गुड़िया जैसी Read more

राजनीति की शतरंज पर नेता पुत्रों की बिछती बिसात

डा.लक्ष्मीनारायण वैष्णव
परिवारवाद के चलते कार्यकर्ताओं में कहीं खुशी कहीं गम उठते अंदरूनी विरोध के स्वरों में समय का इंतजार क्या दिल्ली का प्रयोग प्रदेश में भी करेगी भाजपा? डा.लक्ष्मीनारायण वैष्णव भोपाल/यह बात अलग है कि अभी लोकसभा,विधानसभा,नगरीय निकाय हों या फिर अन्य चुनाव होने में काफी समय बाकी है Read more

वसुन्धरा राजे कभी भी सामाजिक आन्दोलनों से निपटने में सफल नहीं रही

राजेश टंडन एडवोकेट
राजस्थान में राजे के कार्यकाल में जब भी कोई सामाजिक आन्दोलन हुआ तो राजे सदैव उससे निपटने में असफल रहीं, चाहे गुर्जर आन्दोलन हो, चाहे मीणा समाज का आन्दोलन हो या फिर रावला घडसाना हो, चाहे भरतपुर का जाट आन्दोलन हो, चाहे किसान आन्दोलन हो या मेवाड़ का आदिवासी आन्दोलन हो या जयपुर Read more

महिलाओं की FOP Leave: फेमिनिस्‍ट की इतनी हायतौबा क्‍यों ?

First day paid leave
डिजिटल प्रगति अब हमारे समय का सच है इसलिए अब इसके बिना सामाजिक या आर्थिक प्रगति के बारे में सोचा भी नहीं जा सकता। नित नए प्रयोग हो रहे हैं, नया क्षेत्र होने के कारण इसके साथ आने वाली बाधाओं से निपटा भी जा रहा है, यथासंभव बदलाव भी किए जा रहे हैं। फिलहाल ये बाधा एक बहस के रूप Read more

मरते किसान-मजदूर, मालामाल होते सांसद-विधायक

मफतलाल अग्रवाल
बुधवार को राज्यसभा में सपा सांसद नरेश अग्रवाल ने एक बार फिर सांसदों के वेतन-भत्ते मुख्य सचिव के बराबर करने की मांग को जोरदार तरीके से उठाया तो वहीं दूसरी तरफ तमिलनाडु में खराब फसल और कर्जे से त्रस्त होकर मौत को गले लगाने पर मजबूर हो रहे तथा आत्महत्या कर चुके किसानों के कंकाल Read more