महामहिम और विवाद

sohanpal singh
वैसे तो राष्ट्रपति, लोकसभा के अध्यक्ष, राज्यं सभा के सभापति और प्रदेशों के राज्यपाल अक्सर विभिन्न राजनितिक दलों के सदस्य या कट्टर समर्थक ही होते हैं जिनकी निष्ठां राष्ट्र के प्रति काम और अपनी पार्टी के प्रति अधिक होती है और यह स्वाभाविक भी है क्योंकि जीवन भर निष्ठां का Read more

घमण्ड और व्यापार ले डूबेंगे चीनी बौनों को!

डॉ. मोहनलाल गुप्ता
चीन जिस तरह से विश्व भर के देशों के साथ घमण्ड भरा व्यवहार कर रहा है, वह चीनी बौनों के लिए तो घातक सिद्ध होने वाला है ही, साथ ही पूरी दुनिया को तबाही की ओर ले जाने वाला है। यह ठीक वैसा ही है जैसे हिटलर का घमण्ड जर्मनी को तथा नेपोलियन बोनापार्ट का घमण्ड फ्रांस को ले डूबा था कि Read more

वैचारिक हिंसा का प्रायोजित प्रदर्शन #NotInMyName

ravish-kumar
ये बदहवास सा वक्‍त हमारी रूहों के गिर्द कुछ इस तरह चस्‍पा किया जा चुका है कि तमाम कोशिशें नाकाफी मालूम पड़ती हैं, बावजूद इसके हम मायूस नहीं हैं, कतई नहीं। ऐसा लगता है कि हम जितना आगे जाने की कोशिश करते हैं, उतनी ही हमारी टांगें पीछे की ओर खींचने वाले पहले से ताक लगाए बैठे Read more

कपड़ा मार्केट पर बंद की बारिश, भीगे पापड़ संभाल रही महिलाएं

मोहन थानवी
– मोहन थानवी – जीएसटी अब लागू होने को है। जीएसटी के समर्थकों द्वारा खूब ढोल बजाया जा रहा है कि इसके लागू होने से आमजन को और व्यापार-उद्योग जगत को सहूलियत रूपी लाभ मिलेगा। जबकि बीकानेरी पापड़ उद्योग की रीढ, पापड़ बटाई कर परिवार चलाने वाली हजारों महिलाएं अपनी मेहनत स Read more

लो जी कर लो सच्चाई केे दर्शन

रजनीश रोहिल्ला
रजनीश रोहिल्ला। अजमेर साल 2014 में जनता के अपार समर्थन से मोदी सरकार अस्तित्व में आई तो इस सरकार से लोगों में अपार आशाएं जन्म लेने लगी थी। लोगों में आशाएं थी कि, मोदी सरकार बनी है अब भारत जापान बन जायेगा, पाकिस्तान और चीन को दुनिया के नक़्शे से मिटा देगा। दरअसल मोदी सरकार बनन Read more

यह आंदोलन , वह आंदोलन ….!!

तारकेश कुमार ओझा
तारकेश कुमार ओझा इसे संयोग ही मानता हूं कि मध्य प्रदेश के मंदसौर में जिस दिन पुलिस फायरिंग में छह किसानों की मौत हुई, उसी रोज कभी मध्य प्रदेश का हिस्सा रहे छत्तीसगढ़ से मैं अपने गृहप्रदेश पश्चिम बंगाल लौटा था। मानवीय स्वभाव के नाते शुक्र मनाते हुए मैं खुद को भाग्यशाली समझने Read more

धार्मिक ग्रंथों का अपमान क्यों …?

dipak das gupta
दीपक कुमार दासगुप्ता हम बचपन से देखते आ रहे हैं कि अदालती कार्रवाई के दौरान कठघरे में खड़ा व्यक्ति किसी न किसी धार्मिक ग्रंथ पर हाथ रख कर कहता है कि मैं जो भी कहूंगा , सच कहूंगा … सच के सिवा कुछ नहीं कहूंगा। अदालतों में इस तरह के हजारों मामले चलते रहते हैं और उनका निप Read more

लोकतंत्र में चतुर बनिया शब्द का पदार्पण और ममता बनर्जी की अमित शाह को शिक्षा

डॉ. मोहनलाल गुप्ता
लोकतंत्र में चतुर बनिया शब्द का पदार्पण और ममता बनर्जी की अमित शाह को शिक्षा! जिस ममता बनर्जी ने 2014 के आम चुनावों से पहले भाजपा के प्रधानमंत्री पद के प्रत्याशी नरेन्द्र मोदी के लिए वक्तव्य दिया कि वे मोदी की कमर में रस्सी बांध कर उसे बांगला देश भेज देंगी, आज वही ममता बनर्ज Read more

भीड़तंत्र की हिंसा से जख्मी होता समाज

lalit-garg
उत्तर प्रदेश के आगरा में भाजपा नेता की हत्या के बाद भीड़ ने ही दो हमलावरों में से एक को पीट-पीटकर मार डाला। दिल्ली में खुलेआम दो लड़कों को पेशाब करने से रोकने पर गतदिनों एक ई-रिक्शा चालक की पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। कुछ दिनों पहले आनंद विहार इलाके में कवि देवीप्रसाद मिश्र को Read more

तो बेजुबान गाय पर ही कर रहे है अत्याचार ••

राकेश भट्ट
◆ *कुछ जानवर से भी गए गुजरे लोगो का बस इंसानो पर नहीं चल रहा है तो बेजुबान गाय पर ही कर रहे है अत्याचार •••* ◆ *कोटा और बूंदी में असामाजिक तत्वों ने की हैवानियत की सारी हदे की पार •••* *एक दिन पहले जहाँ कोटा में कुछ असामाजिक तत्वों ने गाय पर पेट्रोल डालकर उसे ज़िंदा जलाने की Read more

पूरा भारत हिंदुत्व की प्रयोग शाला

sohanpal singh
स्वर्ग से भी सूंदर इस धरा यानि भारत वर्ष को पाकिस्तान की तर्ज पर हिंदुस्तान बनाने के प्रयोग में जिनती ताकत से जोगी ,भोगी, योगी , रोगीं ,तेली, तमोली , चाय वाला , पाँव वाला, भजिया वाला डब्बे वाला और न जाने केतने कितने “वालों” का उपयोग इस प्रयोग को करने में स्व Read more