न्याय में विलम्ब क्यों

प्रिय वन्धु हम यह नहीं समझ पाते की न्याय में विलम्ब क्यों होता है क्योंकि न्याय में जितना भी विलम्ब होता है उसका फायदा अपराधी को ही अधिक मिलता है , इस लिए केवल और केवल नाबालिग से बलातक़ार के केस में अपराधी को तुरांत सजा मिलनी चहिये उसके लिए प्राथमिकता के आधार पर किसी … Read more

मोदी-शाह की जोड़ी तोड़ेगी सपा-बसपा गठबंधन का तिलिस्म

संजय सक्सेना, लखनऊ उत्तर प्रदेश को लेकर संघ (राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ) और बीजेपी आलाकमान सक्रिय हो गया है. यूपी की 80 लोकसभा सीटे जिसके बल पर कोई भी सरकार बना सकता है, 2014 में मोदी सरकार का बनान इस बात का प्रत्यक्ष प्रमाण था। 2019 में भी मोदी-शाह की जोड़ी इसी पर काम कर … Read more

बचपन की स्मृतियों पर पेश है खांटी खड़गपुरिया तारकेश कुमार ओझा की नई कविता

मामूली हैं मगर बहुत खास है… बचपन से जुड़ी वे यादें वो छिप छिप कर फिल्मों के पोस्टर देखना मगर मोहल्ले के किसी भी बड़े को देखते ही भाग निकलना सिनेमा के टिकट बेचने वालों का वह कोलाहल और कड़ी मशक्कत से हासिल टिकट लेकर किसी विजेता की तरह पहली पंक्ति में बैठ कर फिल्में … Read more

बीजेपी ने 2019 के आम चुनाव का बिगुल बजाया

.संजय कुमार, लखनऊ. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने ‘नरक का दरवाजा’ कहे जाने वाले मगहर (जिला संतकबीरनगर) से 2019 के लोकसभा चुनाव के लिये बिगुल फूंक दिया है. जनसभा के दौरान मोदी पूरी तरह से चुनावी मूड में दिखे.यहां उन्होंने क्या कहा और इसके क्या राजनैतिक निहितार्थ निकाले जायें,यह जानने-समझने से पूर्व यह जान लेना जरूरी … Read more

रामायाण सर्किट का निर्णय एक सार्थक दिशा

धार्मिक-आध्यात्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के मकसद से उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार ने देश में रामायण सर्किट बनाने की दिशा में पहल की है। यह राजनीति में नया सकारात्मक प्रचलन है जिससे हिन्दू पयर्टन को प्रोत्साहन मिलेगा। भारतीय जनता पार्टी और उनकी सरकार न केवल उत्तर प्रदेश बल्कि समूचे देश में हिन्दू मतदाताओं … Read more

तुर्की में लोकतंत्र के सूरज का अस्त होना

तुर्की एक लोकतांत्रिक राष्ट्र हैं, जहां हाल में सम्पन्न हुए चुनावांे ने लोकतंत्र को कमजोर कर दिया है, इन चुनावों ने एक झकझोरने वाला सवाल खड़ा किया है कि क्या व्यक्ति-विशेष को सर्वशक्तिमान बनाकर लोकतंत्र की नींव को जर्जर नहीं किया गया है? सच्चे लोकतंत्र में व्यक्ति-विशेष नहीं बल्कि जनता को शक्तिशाली बनाने का उपक्रम … Read more

सऊदी में नारी अस्मिता की एक नयी सुबह का होना

रूढ़िवादी एवं जड़तावादी देश सऊदी अरब में उदारता और आधुनिकता लाने की शाहजादा मोहम्मद बिन सलमान की कोशिशों के तहत तीस वर्षों से चला आ रहा महिलाओं के वाहन चलाने पर लगे प्रतिबंध के कानून में ऐतिहासिक सुधार वहां के महिला समाज के लिये एक नयी सुबह का आगाज है। इस विषयक ताजा फैसले में … Read more

मोदी शासन के चार साल

नमस्कार मित्रों, काफी दिनों से कोई मोदी जी का विरोध इस हद तक कर रहा है जैसे मानो तो वो मोदी जी को देखना भी नहीं चाहता निश्चित ही वह मोदी विरोधी हो सकता है लेकिन कई भाजपाई भी है, कोई मोधी जी को देवतुल्य समझकर इस प्रकार उपासना में लगे हैं कि उनसे बढकर … Read more

भगवान सरकारी बंगला किसी से न खाली करवाए… .!!

तारकेश कुमार ओझा मैं जिस शहर में रहता हूं इसकी एक बड़ी खासियत यह है कि यहां बंगलों का ही अलग मोहल्ला है। शहर के लोग इसे बंगला साइड कहते हैं। इस मोहल्ला या कॉलोनी को अंग्रेजों ने बसाया था। इसमें रहते भी तत्कालीन अंग्रेज अधिकारी ही थे। कहते हैं कि ब्रिटिश युग में किसी … Read more

एक स्वप्निल शहर

जिन्दगी की डगर, एक स्वप्निल शहर, चाहता हूँ मैं जो, मिल जाये कही अगर, हम कहे, वो भी हो, जो चाहे, वो भी हो, हो वो सब, जो जरुरत, कोशिश उसी की हो, जिन्दगी की डगर, एक स्वप्निल शहर, स्वस्थ सब ही रहे, सद्भाव भी हो, लोग आगे बढे, वैसा काम भी हो, जिन्दगी की … Read more

कभी सोचा न था

भाषा इतनी बदल जाएगी, कभी सोचा न था। सोच इतना नीचे आ जाएगी, कभी सोचा न था। आज सबको बस, खुद को, सही साबित करने की होड है। होड इस हद तक बढ जाएगी, कभी सोचा न था। जिस तरह आज, मानवीय मूल्यों का पतन हो रहा है, ऐसा भी होगा, कभी सोचा न था। … Read more