सरकार के लचीले रवैये का शिकार सूचना का अधिकार

-बाबूलाल नागा- देशभर में सबसे पहला राज्य राजस्थान है, जहां सबसे पहले सूचना का अधिकार कानून लागू हुआ लेकिन आज उसी राजस्थान का सूचना आयोग पंगू साबित हो रहा है। राज्य की सरकार आज इस अधिनियम को मूर्त रूप देने के लिए बनाए गए मूल प्रावधानों को क्रियांवित नहीं कर पा रही है। साथ ही … Read more

राजस्थान में मनरेगा पर बढ़ता गंभीर संकट

-बाबूलाल नागा- गरीब व हाशिए पर रहने वाले व्यक्ति के लिए बनी महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना (मनरेगा) को 2 फरवरी को 7 वर्ष पूरे हो गए हैं। इस कार्यक्रम के लिए राज्य सरकारों को केंद्रीय सरकार से लगभग 90 प्रतिशत पैसा मिलता है। पूरी दुनिया में इस महत्वाकांक्षी कानून का कोई मुकाबला … Read more

मेवाड़ के शेर का कद अब मेवाड़ में बढ़ेगा या घटेगा!

लो साहब, हो गया चुनाव 2013 की तैयारियों का आगाज। भाजपा में प्रदेशाध्य्क्ष मैडम को बना दिया गया और मेवाड़ के शेर को विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष का पद देकर ठण्डा किया गया। क्या मायने हैं इन नियुक्तियों के..। क्या रंग दिखाएंगी ये नियुक्तियां.. ये तो भविष्य ही बताएगा लेकिन राजनीतिक पंडित इसे कहीं मेवाड़ … Read more

सत्ता का पेठा, मां खाए या बेटा

वह जमाना मोबाइल सर्विस का था न केवल खाती, धोबी, लुहार इत्यादि घर-घर जाकर अपनी सर्विस दिया करते थे, बल्कि फेरी वाले भी तेल, घी, मिठाई इत्यादि कॉलोनियों में आकर तरह-तरह की आवाजें लगा कर बेचा करते थे। उन्हीं दिनों की बात है। गंगू नामक एक हट्टा-कट्टा नौजवान फेरीवाला हमारी कॉलोनी में तेल बेचने आया … Read more

बर्फ की चादर से निकल कर पहुंचे रेगिस्तान का जहाज देखने

बीकानेर। अंतरराष्ट्रीय ऊंट उत्सव में राजस्थानी, विशेष रूप से मरुनगरी के लोक रंग में देश विदेश से पहुंचे सैलानियों को अपनापन दिखा। लोकवाद्यों ने सुकून दिया। रेत के लहरदार धोरों पर दिन में मुस्कराती धूप और ठंडी रातों में थिरकती चांदनी। फेस्टीवल के आखिरी दिन स्टेडियम में परंपरागत रूप से सजेधजे ऊंट। उमंग-उल्लास और उत्साह से गाते-नाचते लोक कलाकार। इन … Read more

विकास पत्रकारिता : बाधाएं व संभावनाएं

जब हम विकास पत्रकारिता को एक विद्या के रूप में देखते हैं तो उसका अर्थ भौतिक विकास के साथ जुड़ जाता है। विकास पत्रकारिता से तात्पर्य उन समाचारों से जुड़ा हुआ है जो विकास से संबंधित हो। समाचार पत्रों में विकास समाचारों को प्रमुखता से छापना ही विकास पत्रकारिता है। देष के विभिन्न क्षेत्रों में … Read more

जख्मी जूतों का अस्पताल

एक बार राह चलते फुटपाथ पर जख्मी जूतों का अस्पताल का बोर्ड देख कर मैं चौंक पड़ा। जनता के अनुभव में अधिकांश शिक्षण संस्थानों एवं अस्पतालों के मौजूदा हालातों के प्रति हाई इमेज नहीं है। खासकर सरकारी अस्पतालों के लिए, लेकिन यह कोई सरकारी अस्पताल नहीं था, प्राइवेट अस्पताल था। वैसे भी ज्यादातर प्राइवेट अस्पताल … Read more

राजस्‍थान में महारानी के लिए मुखौटे की तलाश

-निरंजन परिहार-राजस्थान में बीजेपी नए अध्यक्ष के लिए मशक्कत कर रही है। कहा तो यही जा रहा है कि ऐसा अध्यक्ष चाहिए, जो अगले विधानसभा चुनाव में न केवल कांग्रेस के सर पर सवार हो सके। बल्कि बीजेपी को भी सत्ता के करीब लाने में सक्षम हो। पर, सच यह है कि राजस्थान में बीजेपी … Read more

कुम्भ मेला : अन्यत्र दुर्लभ एक नजारा

~लालकृष्ण आडवाणी~ चालीस वर्षों से अधिक समय से मैं संसद में हूं। एक समय था जब मिलने आने वाले लोग कोई न कोई काम कराने के लिए आते थे। उनमें से अधिकांश ऐसे थे जो टेलीफोन कनेक्शन चाहते थे। उनमें से अधिकतर का कहना रहता था कि उनका नाम प्रतीक्षा सूची में वर्षों से दर्ज … Read more

अब प्रशासन घर की ओर आयेगा

वाकई यह सही खबर है। हो सकता है कि आपने अभी तक न सुनी हो लेकिन यह सौलह आने सही खबर है और अगली कड़ी के रूप में इसके अभ्यास के लिए अभी से ही एक राज्य में तो अभियान भी शुरू हो गया है। वैसे आपको पता ही है कि गांवों में जाने से … Read more

दलितों पर अत्याचारों के मामलों में हुई बढ़ोतरी

अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निवारण) अधिनियम 1989 एवं नियम 1995 को पूरे 23 वर्ष हो गए हैं। इसके बावजूद अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति पर अत्याचारों की बढ़ती दर तथा अपराधियों को दोषी करार दिए जाने की दर बहुत कम है जो कि चिंता का विषय है। साथ ही राज्य एवं जिला स्तर … Read more