होली के दिन ख़ास : क्या करें क्या न करें

होली बसंत ऋतु में मनाया जाने वाला उत्साहपूर्ण पर्व है| इस वर्ष होली पर ग्रहों के कई दुर्लभ योग बन रहे हैं। वर्तमान में शनि वक्री है और यह राहु के साथ तुला राशि में स्थित है। शनि के अलावा मंगल भी वक्री हो गया है। इस प्रकार होली पर चार ग्रह वक्री रहेंगे, शनि, … Read more

सबमे हटकर है डीडवाना की होली

वैसे तो रंगों का त्यौहार होली भारतीय संस्कृति के लिहाज से दुनिया भर में अपनी अलग पहचान रखती है लेकिन भारत के अलग अलग हिस्सों में होली का त्यौहार माने के अलग अलग तरीके हैं । बहुतायत तो होली अबीर और गुलाल जैसे विभिन्न रंगों से खले जाने वाला मुख्य त्यौहार है लेकिन भारत के … Read more

नारी मन से पूछे

महिला दिवस पर विशेष त्रस्त हुई मानवता कितनी, कोई नारी मन से पूछे हद है कितनी दानवता की, कोई नारी मन से पूछे बेघर निर्वासित सी जैसे, फिरती क्यों है मारी-मारी बाहर-भीतर क्यों है भटकी, कोई नारी मन से पूछे दिखता है वो मानुष लेकिन, उसमें छुपा है एक अमानुष कैसी उसकी नीयत खोटी, कोई … Read more

फिर भी मुझे स्त्री होने का गर्व है !

हर कदम पर मुझे दबाने का प्रयास किया जा रहा है फिर भी मुझे स्त्री होने का गर्व है! सुरक्षित मेहसूस नहीं करती हूँ मैं इस सभ्य समाज में फिर भी मुझे स्त्री होने का गर्व है! मुझे इस पुरुष प्रधान समाज में उपभोग कि वस्तु समझा जा रहा है फिर भी मुझे स्त्री होने … Read more

धन्य धन्य गुरु दादूरामा, भक्तन हितकारक अभिरामा

संतप्रवर श्री दादू दयाल जी महाराज की जयंती (8 मार्च 2014) पर विशेष भारतवर्ष के गुजरात राज्य में अहमदाबाद के निवासी श्री लोधीरम नागर एक धनी व यशस्वी व्यापारी थे। अधेड़ आयु के उपरांत भी उनके पुत्र नहीं था जिसकी उन्हें सदा लालसा रहती थी । एक दिन उन्हें एक सिद्ध संत के दर्शन हुए और उन्होंने अपनी … Read more

बीकानेर अभिलेखागार : समृद्ध व सुव्‍यवस्थित

बीकानेर स्थित राजस्थान राज्य अभिलेखागार देश के सबसे अच्‍छे और विश्‍व के चर्चित अभिलेखागारों में से एक है. इस अभिलेखागार की स्‍थापना 1955 में हुई और यह अपनी अपार व अमूल्‍य अभिलेख निधि के लिए प्रतिष्ठित है. यहां संरक्षित दुर्लभ दस्‍तावेजों की सुव्‍यवस्थित व्‍यवस्‍था काबिलेतारीफ है. अपने समृद्ध इतिहास स्रोतों और उनके बेहतर प्रबंधन, रखरखाव के … Read more

बिश्नोईयों का मुक्ति धाम मुकामः शाश्वत है श्री गुरू जभेश्वर भगवन के नियम

भारत आध्यात्मिक गुरूओं, सूफी-संतो की तपोभूमि है। जिन्होंने अलग-अलग कालखण्ड में इस धरा में जन्म लेकर अपने आध्यात्मिक चिंतन, वाणी और शिक्षाओं से समाज और देश को समृद्ध किया है। राजस्थान की मरूभूमि में भी बिरले व्यक्तित्व के धनी, प्रकृति उपासक संत के रूप में बिश्नोई धर्म के प्रवर्तक जाभोजी का प्रादुर्भाव हुआ। गुरू जभेश्वर … Read more

महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक का बहुत महत्त्व

शिवरात्रि अथवा महाशिवरात्रि हिन्दुओं का एक प्रमुख त्योहार है। फाल्गुन मास के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को शिवरात्रि पर्व मनाया जाता है। महाशिवरात्रि पर रुद्राभिषेक का बहुत महत्त्व माना गया है और इस पर्व पर रुद्राभिषेक करने से सभी रोग और दोष समाप्त हो जाते हैं। शिवरात्रि से आशय:-शिवरात्रि वह रात्रि है जिसका शिवतत्त्व से … Read more

सर्वधर्म संभाव का प्रतीक बराड़ा का महाशिवरात्रि उत्सव

-निर्मल रानी- हमारा देश भारतवर्ष स्वयं में अनेकानेक ऐसेे धार्मिक त्यौहारों, सामाजिक आयोजनों तथा परंपराओं को समेटे हुए हैं जो समय-समय पर हमें अपनी प्राचीन संस्कृति व सत्यता की याद दिलाती रहती हैं। इसमें कोई शक नहीं कि भारतवर्ष दुनिया का अकेला एक ऐसा देश है जहां विभिन्न धर्मों, संप्रदायों, आस्थाओं, विश्वासों, विभिन्न समुदायों व जातियों के … Read more

23 फरवरी की ग्रहस्थिति महत्‍वपूर्ण है .. लग्‍न राशिफल

मनुष्य का लग्न बहुत ही प्रभावी होता है , इसलिए गत्यात्मक ज्योतिष की सारी भविष्यवाणियां इसपर आधारित होती है। सूर्योदय के ग्रहों के हिसाब से ही हर लग्नवालों के हर दिन की परिस्थितियां निश्चित होती है , जानकारी रहने से उस हिसाब से कार्यक्रम बनाए जा सकते हैं। आपका रूटीन सामान्य दिनों की तरह का … Read more

राजस्थान की राजनीति के लौह पुरूष परसराम मदेरणा

परसराम मदेरणा (23 जुलाई 1926-16 फ़रवरी 2014) राजस्थान से भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के नेता थे। वे राजस्थान के जोधपुर जिले के लक्ष्मण नगर ग्राम के निवासी थे। उनके पुत्र महिपाल मदेरणा भी राजनीतिज्ञ हैं। किसान मसीहा व राजस्थान की राजनीति के लौह पुरूष कहे जाने वाले श्री परसराम मदेरणा का जन्म जोधपुर जिले के फलौदी … Read more