सृष्टि के रचियता ब्रह्माजी—ब्रह्मा मन्दिर—–पुष्कर Part 1

डा. जे.के.गर्ग
पोराणिक मान्यताओं के मुताबिक आदिकाल में सृष्टि रचना के पूर्व संसार अंधकारमय था। सनातन परमब्रह्म्र परमात्मा ने सगुण रूप से सृष्टि की रचना की एवं समस्त ब्रम्हाण्ड का निर्माण हुआ। स्थूल सृष्टि की रचना पंच महाभूतों यथा आकाश, वायु, अग्नि, जल, एवं पृथ्वी से हुई। विराट पुरूष नाराय Read more

समय के दो पाट: कहां ये और कहां वो

girija-devi
समय के दो पाटों में से एक पाट पर हैं शास्‍त्रीय संगीत की पुरोधा गिरिजा देवी की प्रस्‍तुतियां और दूसरे पाट पर हैं ढिंचक पूजा जैसी रैपर की अतुकबंदी वाली रैपर-शो’ज (जिसे प्रस्‍तुति नहीं कहा जा सकता)। समय बदला है, नई पीढ़ी हमारे सामने नए नए प्रयोग कर रही है, अच्‍छे भी और Read more

शनि के 26 अक्तूबर से शनि धनु राशि मे परिवर्तन का आपकी राशि पर प्रभाव

दयानन्द शास्त्री
शनिदेव 26 अक्टूबर 2017 को धनु राशि में प्रवेश करेंगे। 26 अक्तूबर को शनि धनु राशि मे परिवर्तन कर रहें हैं और 24 जनवरी 2020 तक बने रहेंगे # इस बदलाव से 6 राशियों के किस्मत बुलंद होने और बाकी के 6 राशियां सतर्क रहें # शनि देव इन्सान के कर्मो के अनुसार ही फल देते है , शनि बुरे क Read more

लाभ पंचमी 25 अक्टूबर 2017 को

दयानन्द शास्त्री
शुभ फलों और धन-धान्य से संपन्न होने का महापर्व हैं लाभ पंचमी— प्रिय पाठकों/मित्रों, दिवाली के बाद गुजरात में एक बेहद महत्वपूर्ण पूजा होती है जिसका नाम है लाभ पंचमी |कार्तिक शुक्ल पंचमी को लाभ पंचमी मनाई जाती है। इसे सौभाग्य पंचमी, सौभाग्य लाभ पंचमी या लाभ पंचम भी कहते Read more

जानिये उन जगहों को जहाँ माता लक्ष्मी निवास करना पसंद करती है—पार्ट2

डा. जे.के.गर्ग
याद रखे सच्चा सुख केवल सत्य से ही मिलता है, यह भी संभव है की इस प्रक्रिया मे आपको दुःख का भी सामना करना पड़े | यह भी सत्य है कि जहां पर बुद्धीजीवी का अपमान होता है उस स्थान पर लक्ष्मीजी निवास नहीं करती है | माता लक्ष्मी वहीं निवास करती है जहाँ गरीबों की मदद करने ओर उनकी सेवा Read more

तभी दिवाली मेरी होगी

नटवर विद्यार्थी
जिस दिन सारा देश जगेगा , आरक्षण का भूत भगेगा , नीर – क्षीर मूल्यांकन होगा , प्रतिभा सिर्फ कसौटी होगी , तभी दिवाली मेरी होगी । कोई भूखा नहीं रहेगा , तन ढकने को वस्त्र मिलेगा , सबको घर , सबमें शौचालय , मूलभूत सुविधाएँ होगी , तभी दिवाली मेरी होगी । निर्भयता का दीप जलेगा , Read more

स्वच्छता व प्रकाश की प्रतीक दीपावली

ब्रह्मानंद राजपूत
दिवाली या दीपावली हिंदुस्तान में मनाया जाने वाला एक प्राचीन पर्व है जो कि हर साल कार्तिक मास की अमावस्या को मनाया जाता है, इसके पीछे पौराणिक मान्यता है कि दीपावली के दिन हिंदुओं के आराध्य अयोध्या के राजा श्री रामचंद्र अपने चैदह वर्ष का वनवास काटकर अयोध्या वापस लौटे थे। इससे Read more

प्रिया वच्छानी उल्हासनगर की दीपावली पर विशेष कविता

प्रिया वच्छानी
क्यूं न इस दीवाली इक प्यार का दीप जलाया जाये किसी के घर के बुझे दीप को रोशन कर अपने दीप से उसके घर को भी रोशनी से नहलाया जाए क्यों न इस दीवाली इक प्यार का दीप जलाया जाये ब्रांड भले न पहने हम पर गरीब बच्चों को दिलाकर कपडे व पटाखे उसकी मासूम मुस्कराहट संग मुस्कुराया जाये भुला Read more

मिट्टी के दीये !

देवेन्द्रराज सुथार
हर अंगना हर देहरी हर हिये ! ज्योर्तिमय हो जग में मिट्टी के दीये ! अमावस्या के श्यामपट्ट पर फैलायें प्रकाश ! ज्योतिकलश बन जो सारा तम पियें ! आशाओं के अगनित स्वरों को लियें ! हर दिशा में प्रकाशमान हो मिट्टी के दीये ! वायु के विप्लव वेग से न भयभीत हो ! प्रखर प्रज्वलित ज्योति बन Read more

जानिये उन जगहों को जहाँ माता लक्ष्मी निवास करना पसंद करती है—पार्ट1

डा. जे.के.गर्ग
दीपावली पर धन,सम्पन्नता,सुख- खुशी की कामना रखने वाले सभी व्यक्ति माता लक्ष्मी जी पूजा करते है | साधारणतया हम अपने-अपने घरों की बाहरी सफाई करते हैं, रंग रोशन भी करवाते हैं, घरों को सजाते भी हैं | हम दीपावली पर अपने आप से सवाल पूछें क्या हमारा दिल सभी अवगुणों यानि क्रोध,इर्ष्य Read more

दीपावली भीतर से जागृति का सन्देश देता है

lalit-garg
दीपावली का त्यौहार भारतीय संस्कृति का गौरव है, क्योंकि दीपावली रोशनी का पर्व है और दीया प्रकाश का प्रतीक है और तमस को दूर करता है। यही दीया हमारे जीवन में रोशनी के अलावा हमारे लिये जीवन की सीख भी है, जीवन निर्वाह का साधन भी है। दीया भले मिट्टी का हो मगर वह हमारे जीने का आदर् Read more