आम आदमी पार्टी को भी तलाश है उम्मीदवार की

aam aadmi parti thumbअजमेर में आगामी लोकसभा उपचुनाव के लिए एक ओर जहां कांग्रेस व भाजपा कमर कस रहे हैं और संभावित प्रत्याशियों के नामों पर चर्चा शुरू हो गई है, वैसे ही आम आदमी पार्टी भी किसी ऐसे प्रत्याशी की तलाश कर रही है तो कांग्रेस व भाजपा से विमुख मतदाताओं के वोट हासिल कर पार्टी की उपस्थिति दर्शा सके। जानकारी के अनुसार इस सिलसिले में अन्ना हजारे आंदोलन की धूम मचा चुकी व वर्तमान में यूनाइटेड अजमेर नामक संस्था के जरिए सामाजिक कार्यों में जुटी श्रीमती कीर्ति पाठक का मन टटोला गया है, हालांकि वे बहुत पहले ही कह चुकी हैं कि वे कभी चुनावी राजनीति में नहीं आएंगी।
ज्ञातव्य है कि अन्ना हजारे आंदोलन के दौरान कीर्ति पाठक बहुत सक्रिय रहीं व उनका नाम खूब चमका और उन्हीं की बदौलत बाद में आम आदमी पार्टी का वजूद पैदा हुआ। मगर जैसे ही पार्टी में जूतपैजार वाली स्थिति आई और उन पर झूठे आरोप लगे तो उन्होंने पार्टी से टाटा बाय बाय करने में ही भलाई समझी। अगर वे इस वक्त तक पार्टी में होतीं तो कदाचित सम्मानजनक उपस्थिति दर्ज करवा पातीं। हालांकि उनके मैदान से हटने के बाद में भी आम आदमी पार्टी सक्रिय रही, मगर उसका वजूद कभी कायम नहीं हो पाया। असल में इस पार्टी की स्थानीय इकाई को लेकर सदा विवाद ही रहे। पिछले चुनाव में तो पार्टी के घोषित प्रत्याशी के ऐन वक्त पर चुनाव मैदान से हटने पर पार्टी की उग्र कार्यकर्ता किरण शेखावत ने उनका मुंह काला कर दिया। बड़ा बवाल हुआ। कुल मिला कर वर्चस्व की लड़ाई के चलते पार्टी में आस्था रखने वाले कार्यकर्ता धीरे-धीरे छिटकते गए। ऐसी कमजोर स्थिति में ही मंगलवार को महावीर सर्किल स्थित बाबा जी की नसियां में कथित प्रदेश स्तरीय सम्मेलन कामयाब नहीं हो पाया। दावे के मुकाबले दस प्रतिशत भी कार्यकर्ता नहीं जुटे। उसकी एक वजह ये भी रही कि पार्टी की अजमेर लोकसभा पीओसी जयश्री शर्मा ने पहले ही विरोध दर्ज करवा दिया था।
बहरहाल, पार्टी के कर्ताधर्ताओं ने हिम्मत नहीं हारी है। वे किसी ऐसे पुराने कांग्रेस या भाजपा नेता की तलाश में हैं, जो कि अपना थोड़ा-बहुत जातीय समीकरण रखता हो, संपन्न हो और कांग्रेस व भाजपा से अलग हो चुके कार्यकर्ताओं को एकजुट कर सके। हालांकि पार्टी जानती है कि इस उपचुनाव में जीतना नितांत असंभव है, मगर यदि अन्ना हजारे व अरविंद केजरीवाल के नाम से वोट हासिल किए जा सकें व पार्टी का थोड़ा-बहुत भी प्रदर्शन ठीक ठाक हो तो उससे आगामी विधानसभा चुनाव के लिए मैदान तैयार किया जा सकेगा।
-तेजवानी गिरधर
7742067000

Leave a Comment