ब्यावर के वार्ड 39 की सीट भाजपा के लिए बनी प्रतिष्ठा का प्रश्न

*त्रिकोणीय मुकाबले में फंसी वार्ड 39 की सीट*

हेमेन्द्र सोनी
हेमेन्द्र सोनी
भाजपा की पूर्व पार्षद ने वार्ड 39 से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में दावा ठोका, भाजपा के बैनर पर पूर्व में पार्षद रही सुरेन्द्र कौर ने भाजपा के प्रत्याशी राधेश्याम प्रजापति उर्फ बंटी भाई को हराने के लिए वार्ड 39 से निर्दलीय उम्मीदवार के रूप में नामांकन दाखिल कर भाजपा प्रत्याशी को हराने के लिए कमर कस ली है ओर विधायक, सभापति ओर भाजपा को सीधी खुली चुनोती दे डाली है ।
बस यही बात भाजपा के लिए सिरदर्द बन गई है । जहां वार्ड 39 के दिवंगत भाजपा पार्षद गोपाल प्रजापति के निधन से खाली हुई सीट को भाजपा आसानी से अपनी झोली में समझने की जो भूल की थी उसको चुनोती मिल चुकी है और वो भी उससे जो पूर्व में भाजपा के बैनर पे पार्षद का चुनाव जीत चुकी है ओर सबसे बड़ी बात एक ओर यह है कि निर्दलीय प्रत्याशी सुरेन्द्र कौर के पति मंगत सिंह मोनू भाई खुद भी वर्तमान में भाजपा से पार्षद है, ओर वोभी उसी वार्ड से है जहां से उनकी पत्नी पहले चुनाव जीती थी । उसके उपरांत भी अपनी पत्नी को वार्ड 39 के पार्षद के उपचुनाव में निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में पर्चा भराने के पीछे कही ना कही कोई बड़ी कहानी जरूर है जरूर उसके पीछे जरूर कोई दमदार मुद्दा है इसके बिना वो भी इतनी बड़ी रिश्क नही लेंगे ।
पर्दे के पीछे की कहानियां अलग होती है, क्योकि राजनीति में जो दिखाई देता है वो होता नही है ।
अब देखना है कि विधायक, सभापति ओर भाजपा मंडल नाम वापस लेने के समय के पहले कोई समझौता या मान मनवार कर इन्हें मनाने में कामयाब होती है या नही । यह आने वाला समय बताएगा ।
*कुल मिलाकर बात यह है कि यह शह ओर मात का खेल बन चुका है ।*
*इसमें सभी अपने अपने मोहरे ओर पासो का कितना बेखूबी इस्तेमाल करते है, आने वाला वक्त क्या कहानी लिखेगा यह देखने वाली बात होगी ।*
*हेमेन्द्र सोनी @ BDN जिला ब्यावर*

Leave a Comment