ठेकेदार की मनमर्जी का खामियाजा भुगतने को मजबूर जनता

IMG-20180110-WA0005ठेकेदार के रहमो करम पर चांग गेट की खुदी हुई सड़क, 15 दिन से सड़क खोद कर रख दी जिस कारण दिन भर जाम में वाहन फस रहे है । उसकी सुध लेने के लिए किसी के पास समय नही है ।
पाली बाजार का नाला भी 10 दिनों तक ख़ोद कर रख दिया और कई दुर्घटना घटने के बाद मीडिया ओर सोशियल मीडिया में जब मामला आया तब जाकर ठेकेदार पर दबाव बना तब कही जाकर उसे सही किया गया । जबकि ब्यावर भाजपा के कई वरिष्ठ अधिकारी ओर संगठन के सदस्य यही पर दिन भर व्यापार करते है ओर दिन भर में कई भाजपा, कांग्रेस काम अनेक सामाजिक संगठनों के सदस्य और कार्यकर्ता इसी सड़क पर आंख मूंद कर निकलते है । लेकिन जनता की इस समस्या पर किसको परवाह है ।
ब्यावर में एक रवैया हो गया है कि पहले जनता की सहन शक्ति तक उसे परेशान होने के लिये छोड़ दे, उसके बाद जनता जब हाथ जोड़ कर विनती करे तब उसके लिए अपनी कॉलर ऊंची करते हुए उस शिकायत पर कार्यवाही करो ओर वाह वाही लूटो ।
ऐसे कई मामले है जैसे रोडवेज बस स्टैंड, मसूदा रोड़, देलवाड़ा रोड की सड़क, हाउसिंग बोर्ड की सड़क, बच्चो की ट्रेन ऐसे कुछ उदाहरण है जहां 3 से 4 वर्षो तक शहर की जनता परेशान हो कर के बार बार शिकायत करके थक गई, ना जाने कितनी बार मीडिया में यहां की खबरे आई उनके वाद कही जा कर कार्य चल रहा है । लेकिन अभी भी शहर का अतिव्यवस्तम चांग गेट की सड़क की हालात पर जनता आंसू बहाने पर मजबूर है । शहर ओर चांग गेट का दुर्भाग्य इससे बढ़ कर ओर क्या होगा की जिस चांग गेट से शहर की राजनीति की धुरी घूमती है, चांग गेट शहर के नेताओ का जमावड़ा ओर अखाड़ा है वही चांग गेट अपने हालात पर खून के घुट पीने को मजबूर है , जिस चांग गेट पर देश के संविधान निर्माता अम्बेडकर, महात्मा गांधी, स्वामी कुमारानंद, लोढा जी आदि की मूर्तिया जरूर अपने इलाके की इस हालात पर सोचने पर मजबूर होती होगी ।
ब्यावर को जिला और रानी खेत ट्रैन रोकने की समस्या तो जनता कभी नही भूल सकती ।
जनता का धैर्य कब जवाब दे जाए उनके धैर्य की परीक्षा लेना किसी दिन खतरनाक हो सकता है । क्योकि पिछले दिनों मध्य प्रदेश के धार जिले में निकाय चुनाव में एक भाजपा प्रत्याशी को अपने पूर्व कार्यकाल में वार्ड की समस्या की शिकायत पड़ने पर उसने वार्ड की महिलाओं के खिलाफ थाने में FIR दर्ज करा दी और जिस कारण वार्ड की महिलाओं को रात्रि में थाने जाना पड़ा जिससे खफा होकर मोहल्ले वासियो ने उसे सरेआम जूतों की माला पहनाई ओर बदला लिया ओर उसका वीडियो सोशियल मीडिया पर ओर देश के राष्ट्रीय और क्षेत्रीय टी वी चेनल पर प्रमुखता से वाइरल हुवा ।
शहर के नेताओ को तो आपस में जूतम पैजार से ही फुरसत नही मिलती । ऐसे में शहर के विकास और जनता की मूलभूत सुविधाओं का क्या होगा ।
आने वाला वर्ष चुनावी वर्ष है इसका जनता भी बेसब्री से इंतजार कर रही है क्योकि वोट मांगने के लिए आना तो इन्हें जनता के दरबार मे ही है । देखने वाली बात यह होगी कि जनता इस बार उन्हें कैसा जवाब देती है ।
*हेमेन्द्र सोनी @ BDN जिला ब्यावर*

Leave a Comment