हामिद अंसारी की अभिव्यक्ति पर गौर हो

सत्य किशोर सक्सेना
सत्य किशोर सक्सेना
उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी जी ने दस वर्ष के कार्यकाल के अंतिम दिन राज्य सभा टी.वी.को दिये साक्षात्कार में संवेदनशील अभिव्यक्ति की स्वीकार्यता के माहौल का अभाव व मुस्लिमों में असुरक्षा की भावना की व्याप्ति ने बहस छेड़ दी जो आरोप प्रत्यारोप में उलझती प्रतीत हो रही हैं जब कि वस्तुत: आत्मनिरिक्षण, विश्लेषण , चितंन किया जाना चाहिये कि उक्त अभिव्यक्ति एक मुस्लिम ने नहीं बल्कि उपराष्ट्रपति की होने से राजनैतिक प्रतिबद्धता के दृष्टिकोण से न होकर राष्ट्रीय परिपेक्ष में की जानी चाहिये क्योंकि लोकतंत्र में अल्पसंख्यक में सुरक्षा की भावना व्याप्ति बहुसंख्यक वर्ग व सरकार का उत्तरदायित्व है लेकिन अल्पसंख्यक वर्ग की राष्ट्रीयता व राष्ट्रहित सर्वोपरि भी अविवादित हो।राजनैतिक प्रतिबद्धा व विचारधारा केउपरांत भी राजधर्म का पालन सर्वोपरि होना चाहिये ।

सत्य किशोर सकसेंना ,एडवोकेट,अजमेंर। M-9414003192

Leave a Comment