“प्रशासन गावों के संग” कैंप जनता के साथ छलावा

कैंप बने लोगों की परेशानी का सबब

अजमेर 11/10/2017, अजमेर जिला कांग्रेस कमेटी के सीए प्रकोष्ठ के जिलाध्यक्ष सीए विकास अग्रवाल, प्रदेश राजीव गाँधी यूथ फेडरेशन के प्रदेश संयोजक कमल गंगवाल व पूर्व लोक अभियोजक विवेक पाराशर ने आज मुख्यमंत्री व जिला कलेक्टर को पत्र लिखकर जानकारी देते हुए बताया कि अभी कुछ महीनो पूर्व जो प्रशासन ने गाँव गाँव में करोड़ों रूपये पूरे करके जनता की परेशानी का समाधान तुरंत करने के लिए जो कैंप लगाये थे वे लोगों की परेशानी का सबब बन चुके हैं |
सीए विकास अग्रवाल ने पत्र में उल्लेख करते हुए बताया कि कैंपो में जनता से कागजों में दुरुस्तीकरण, त्रुटी दूर करने के लिए आवेदन लियें गये और उनका तुरंत समाधान करने के लिए कैंप लगाये गए किन्तु कैंप की फाइले आज भी कई महीने निकलने के बाद भी दफ्तरों में धूल खा रही है और कैंपो में लिए गए आवेदनों पर आज तक कोई कार्यवाही नहीं हुई है | लोग दफ्तरों, तहसील के चक्कर लगा रहे है, जनता आहत है और दफ्तरों में बाबु राज हो रखा है | कैंपो में लगी हुई फ़ाइलो का काम साधारण प्रक्रिया में भी नहीं हो रहा है इसलिए जनता खुद को ठगा सा महसूस कर रही है | कैम्पों में लगे आवेदनों पर जब तहसील या अन्य दफ्तरों में जानकारी मांगने पर बाबुओं द्वारा यही जवाब दिया जाता है कि अधिकारीयों या तहसीलदार के दस्तखत होंगे तभी तो त्रुटि दूर करने की कार्यवाही होगी | आखिर कब होंगे अधिकारियों के दस्तखत ये एक विचारणीय विषय है ………???? |
अग्रवाल ने लिखे पत्र में बताया कि अधिकारियों के मनमाना व लालफीताशाही रवैये के कारण कैंप में लिए गये आवेदनों पर आज तक कोई समस्या या त्रुटी का निदान नहीं हुआ है और अधिकारीगण कैम्पों की सफलता के सरकार को फर्जी आंकड़े प्रस्तुत जनता व सरकार को गुमराह करते हैं ऐसे अधिकारियों की उच्च स्तरीय जांच करवाए जाने की मांग करते हुए इन पर कानूनी कार्यवाही करने की मांग भी पत्र में की गयी है |

Leave a Comment