गोप्रेमियों ने चेताया, मुख्यमंत्री के नाम सौंपा ज्ञापन

अजमेर। गोवंश संवर्धन एवं संरक्षण को विधानसभा चुनावों के दौरान भाजपा के विजन दस्तावेज में किए गए वादे की याद दिलाते हुए गोशाला प्रबंधकों, गोप्रेमी संतों तथा गौसेवकों की ओर से मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे को ज्ञापन प्रेषित किया गया है।

श्रीपुष्कर गौ आदि पशुशाला के नेतृत्व में गौभक्तों ने मंगलवार को जिला कलक्टर को सौंपे ज्ञापन में बताया कि प्रदेश के गांवों, कस्बों और नगरों में गरीब गोपालक किसानों द्वारा निराश्रित छोडा हुआ गोवंश यहां वहां भटक रहा है। भूख से व्याकुल अखाद्य पदार्थ खाकर रोगग्रस्त और सडकों पर दुर्घटनाग्रस्त हो रहा है।

इस तरह भटकते गोवंश के आश्रय व आहार की अत्यंत आवश्यकता है। प्रदेश में गोसेवा प्रेमियों द्वारा निराश्रित गोवंश के लिए स्थापित व संचालित गोशालाओं में भी पौष्टिक आहार तथा चारे का संकट बना रहता है। ऐसे में गोवंश की हालत बिगडती जा रही है।

ज्ञापन में याद दिलाया गया कि बीजेपी ने चुनाव पूर्व जारी घोषणापत्र में निराश्रित गोवंश के संरक्षण, सम्पोषण एवं संवर्धन के लिए 15 बिन्दुओं पर कार्य करने का संकल्प लिया था।
चुनाव बाद पार्टी की सरकार बनने पर इस घोषणा पत्र को सरकार ने विजन दस्तावेज बनाया था। इस दस्तावेज में गोसेवा संवर्धन एवं संरक्षण से संबंधित 15 विषयों का विवरण है। इसमें से कुछ पर कार्य हुआ लेकिन आधा अधूरा। चार साल की अवधि पूरी हो चुकी है, प्रदेश के सभी गोशाला प्रबंधक, गोप्रेमी संत महात्मा और नागरिकों का आग्रह है कि गो सेवा के अधूरे कार्यों को अतिशीघ्र पूरे करावें।

ज्ञापन देने वालों में विष्णु मिश्रा, लक्ष्मी नारायण हटुका, पंडित किशन भाई, भीमदत्त शुक्ला, लेखराज सिंही राठौड, सरदारमल जैन, कल्याण सिंह, आशुतोष शर्मा, परमेश्वर शर्मा, चन्द्रप्रकाश शर्मा समेत बडी संख्या में शामिल थे।

Leave a Comment