दूध का कर्ज

हेमंत उपाध्याय

हेमंत उपाध्याय

पति ने चिंतित होकर पत्नी से कहा- बेटा हमेशा तुमसे कहता है -” माँ ? मै तेरे दूध का कर्ज उतार दूंगा ।” तुमने तो उसे साल भर ही दूध पिलाया वो भी बिना शकर का जबकि मैने तो पन्द्रह साल से सुबह शाम उसके शकर व मलाई युक्त दूध की बंदी लगा रखी है ,पर वो कभी नहीं कहता ,पापा मै तुम्हारे दूध का कर्ज उतार दूंगा। पति से इतना सुनते ही पत्नी तुरंत बोली – मैने अपने खून व पसीने से बना दूध पिलाय है , इस लिए मेरा दूध असरकारी है। तुम उसे सरकारी पैसे का दूध पिलाते हो, इस लिए वो दूध सरकारी जैसा ही है , वो असरकारी नहीं है ।

हेमंत उपाध्याय, व्यंग्यकार व लघु कथाकार साहित्य कुटीर पं . रामनारायण उपाध्याय वार्ड खंडवा म प्र

Print Friendly

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>