थानाध्यक्ष पूरण मीणा जी के हत्याकांड पर नागौर पुलिस मौन

पूरणमल मीणा
पूरणमल मीणा
स्वर्गीय पूरणमल मीणा S I थानाध्यक्ष श्री बालाजी थाना नागौर, मीणा जी नागौर पुलिस तो नहीं पर हम आपके मित्रगण शर्मिंदा हैं , अभी तक आपके कातिल जिन्दा हैं , अपराधियों में विश्वास और आम जनता में भय , का नारा साकार कर रहे हैं आपके नागौर पुलिस के अफसर और साथी गण थानेदार तथा पुलिस कर्मी , नागौर में आपकी जात और समाज नहीं है इसलिए आपके लिये ना तो वहाँ कोई बोल रहा है और ना आंसू बहा रहा है , पुलिस में तो जातिवाद का जहर पहले ही इतना था जिसकी कोई हद नहीं , पता नहीं आपको थाना कैसे मिल गया था,
अब तो प्रदेश की यशस्वी मुख्यमंत्री महोदया जातिगत आधार पर अजमेर में जनसंवाद कर रही है , जातियों और समाजों के आधार पर लोगों से मिल रही है , ये जातिवाद को बढावा दे रही है सामाजिक समरसता को समाप्त कर रही है*
,
*आपके पुलिस अधिकारी मुख्यमंत्री महोदया से मिलवाने से पहले व्यक्ति कि भाजपा पार्टी के प्रति निष्ठा और सदस्यता की जांच कर उसे प्रमाण पत्र देते हैं की पार्टी एंव पार्टी के नेताओं , मंत्रियों , M l a , निगम , बोर्डों के अध्यक्षों के खिलाफ नहीं बोलेगा तभी उसे मिलाया और बुलाया जाता है*
* और पार्टी के जिसभी नेता या संगठन के पदाधिकारियों ने उसे मिलाने और बुलाने के लिये समाज और व्यक्ति का नाम दिया होता है उससे Under Taking ली जाती है की मेडम के सामने वो कुछ भी खिलाफ नहीं बोलेगा और सरकार एवं अफसरों की भी तारीफ करेगा , राज के गुणगान करेगा , और मायड संस्कृति के अनुरूप मंत्रियों की और भाजपा संगठन की वंशावली बांचेगा , तब C I D zone व्दारा बनाई लिस्ट को क्षैत्रीय विधायक अपरूव करता है तब ही वो व्यक्ति या समाज मेडम से मिल सकता है* ,

*मुझे नहीं लगता कि ऐसी नादिरशाही वाली व्यवस्था में मेरे प्रिय भाई स्वर्गीय पूरणमल मीणा जी , बहुत दुख के साथ कहना पड रहा है शायद ही आपके हत्यारे पकडे जायेंगे क्योंकि नागौर में मीणा जनसंख्या ना के बराबर है और कोई समाज आजकल की व्यवस्था के अनुरूप आपके दवाब बना रहा है , ऐसे में प्रिय भाई भगवान आपको अपने चरणों में स्थान दे और आपके परिवार को ये व्रज पात सहने की शक्ति दे , ओम शांति*

*आपका अपना बरसों पुराना भाईयों जैसा मित्र राजेश टंडन अजमेर* ।

Leave a Comment