कष्यप बंधुओं के गायन ने मन मोहा

bhajan sandhyaविदिषा-09 अक्टूबर 2017/ पं. गंगाप्रसाद पाठक ललिता कला न्यास ने नगर के संगीताचार्य स्व. मथुरा मोहन श्रीवास्तव की पुण्य स्मृति संध्या पर बनारस घराने के गायक प्रभाकर कष्यप और दिवाकर कष्यप का शास्त्रीय गायन कार्यक्रम आयोजित किया। कार्यक्रम के आरंभ में शास्त्रीय गायन सुदिन श्रीवास्तव के षिष्य उदित नेमा, नीलेष राठौर, ऋतिक जैन और कु. प्रतिष्ठा श्रीवास्तव ने राग यमन कल्याण में व मध्यलय तीनताल की बंदिष ‘दरसन देव शंकर महादेव‘ और एक तराना प्रस्तुत किया। हारमोनियम पर आयुष जैन और तबले पर सुदिन श्रीवास्तव ने संगत की। प्रभाकर कष्यप और दिवाकर कष्यप ने अपने गायन का आरंभ राग मालकौंस की विलंबित एकताल में निबद्ध बंदिष ‘जिनके मनराम विराजे‘ से किया। अपनी खुली आवाज में राग मालकौंस के गंभीर आलाप छोटे स्वर समूह में पेचीदा हरकतों में साथ-साथ आपके बोल आलापों बहलावों में लचीली मुरकियों में गायकी के बनारसीपन की स्पष्ट झलक मिल रही थी। सरगम और बोलतानों, द्रुत तानों से विलंबित ख्याल को सजाते हुए आपने मध्यलय तीनताल में ‘मुख मोर मोर मुस्कात जात के बाद दु्रत तीनताल में ‘आबन नहीं देत मोहे कन्हाई‘ के अपनी स्पष्ट और द्रुत तानों से सजाया। पं. राजन मिश्र एवं पं. साजन मिश्र के सुयोग्य षिष्य प्रभाकर कष्यप और दिवाकर कष्यप ने अपने गायन का समापन राग भैरवी में ‘धन्य भाग सेवा का अवसर पाया‘ भजन से किया। कष्यप बंधुओं के साथ तबले पर भोपाल के उमाषंकर तिवारी और हारमोनियम पर हमारे नगर के यषवंत शर्मा ने अनुकूल संगत की।
कार्यक्रम से पूर्व स्वतंत्रता संग्राम सेनानी रघुवीरचरण शर्मा, पूर्व वित्तमंत्री राघवजी भाई, चक्रवर्ती जैन एवं अतिथि कलाकारों ने माँ सरस्वती के चित्र के समक्ष दीप प्रज्जवलन कर स्व. मथुरा मोहनजी के चित्र पर पुष्पाजंलि समर्पित की। कार्यक्रम में डॉ.शीलचंद पालीवाल, प्रकाष पाठक, संजय दुबे, दिनेष जैन, संजय जैन, श्रीमती मंजरी जैन, श्रीमती नीरा जैन, पं. घनष्याम शर्मा, एमसी सोनी, भुवनेष श्रीवास्तव पूर्व एसजीएम अविनाष तिवारी, रामषरण ताम्रकार, उदय ढोली, आषुतोष ठाकुर, अरविंद द्विवेदी, अनंतसिंह, प्रदीप निगम, संतोष श्रीवास्तव, श्रीमती स्मिता तिवारी, श्रीमती सुषमा श्रीवास्तव, ब्रज श्रीवास्तव, श्रीमती मुक्ता श्रीवास्तव, बलराम चौधरी, अनिल श्रीवास्तव, महेष श्रीवास्तव, रीतेष आचार्य आदि उपस्थित रहे। कार्यक्रम का संचालन न्यास के कार्यकारणी अध्यक्ष गोविन्द देवलिया ने और आभार प्रदर्षन सचिव सुनील जैन ने किया।

Leave a Comment