समाज सेवा के लिए संतोष गंगेले कर्मयोगी सम्मानित

20180104_151145छतरपुर सीमावर्ती जिला झांसी की तहसील मऊरानीपुर। बुन्देलखंड में झांसी जनपद के मऊरानीपुर तहसील के ग्राम मेढकी में विचार गोष्ठी एवं काव्य पाठ का आयोजन किया गया। यह आयोजन लोक कवि ईसुरी के व्यक्त्वि एवं कृत्वि पर हुआ है। इसका शुभारम्भ मुख्य अतिथि हरगोविंद कुशवाहा उपाध्यक्ष राज्य मंत्री दर्जा प्राप्त अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध शोध संस्थान लखनऊ तथा क्षेत्रीय विधायक बिहारीलाल आर्य क्षेत्रीय प्रबंधक ग्रामीण बैंक श्री सुरेश कुमार व्यास कार्यक्रम के आयोजक श्री अमृत लाल वर्मा श्री प्रदीप खरे ग्राम प्रधान सामाजिक कार्यकर्ता संतोष गंगेले के साथ मध्य प्रदेश एवं उत्तर प्रदेश के साहित्यकार कवियों ने ईसुरी के चित्र पर माल्यार्पण व द्वीप प्रज्वलित कर किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता सर्व यूपी ग्रामीण बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक सुरेश कुमार व्यास ने की। कार्यक्रम के शुभारम्भ में मुख्य अतिथि व विशिष्ट अतिथि ने ईसुरी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए उनके जीवन परिचय का वर्णन किया। इस मौके पर विधायक ने उपस्थित जनसभा को संबोधित करते हुए ईसुरी स्मृति भवन ग्राम में बनवाये जाने की घोषणा की। बुंदेली भाषा को पहचान दिलाने का भी आश्वाशन दिया गया। हरगोविंद कुशवाहा ने कहा कि ईसुरी जी के कारण आज बुंदेली भाषा की पहचान है। उनके योगदान को कभी भुलाया नही जा सकता। कार्यक्रम में सम्मानित अतिथि संतोष गंगेले कर्मयोगी ने लोक कवि ईश्वरी प्रसाद के जीवन पर प्रकाश डाला तथा उनके जन्म स्थान पर स्मारक भवन तथा पुस्तकालय खोलने का सुझाव रखा जिसे क्षेत्रीय नेताओं ने करने पर बल दिया इसके पूर्व छतरपुर जिले के महाविद्यालय से पधारे प्रोफेसर बहादुर सिंह परमार ने लोक कवि ईसुरी के जीवन पर प्रकाश डाला तथा उनके कब चौकड़िया के माध्यम से सभी को अवगत कराया ज्ञात हो कि बहादुर सिंह परमार ने ईश्वरी के जीवन पर शोध किया है इस अवसर पर आयोजन समिति ने बहादुर सिंह परमार को मिला लोक कवि ईश्वरी सम्मान समाज सेवा के लिए संतोष गंगेले कर्मयोगी को सम्मानित किया गया.

कार्यक्रम में दूर दराज से आये कवि डॉ केएल विंदु, डॉ शिवाजी चौहान, डॉ डीआर वर्मा , विवेक वरसेया, जयप्रकाश खरे, वृन्दावन लाल वर्मा, छतरपुर महाराजा कॉलेज के प्रोफेसर बहादुर सिंह परमार, अमृत वर्मा आदि ने अपनी रचनाओं के माध्यम से लोगो को मंत्र मुग्ध कर दिया। इस मौके पर चन्द्रप्रकाश खरे, सुखदेव व्यास, अवध किशोर जड़िया, प्रदीप खरे, संतोष गंगेले सुदीप दीक्षित, मुगल तिवारी, रामप्रकाश रावत, मानसिंह कुशवाहा, श्यामलाल मिश्रा, ज्ञानप्रकाश त्रिपाठी,सुरेंद्र विश्वकर्मा, बृजविहारी पाल, राजेन्द्र कुशवाहा, सहित सैकड़ांे की संख्या में ग्रामीण मौजूद रहे कार्यक्रम में पधारे सभी साहित्यकारों कवियों और समाजसेवियों का संस्था की ओर से सम्मान किया गया

Leave a Comment