राष्ट्र के अदम्य साहस की प्रतीक थी इन्दिरा जीः-मार्शल

02बीेेकानेर रविवार, 19 नवम्बर 2017 आज जिला देहात कांग्रेस कार्यालय, बीकानेर में प्रातः 11 बजें देश की प्रथम महिला प्रधानमंत्री स्व. श्रीमती इन्दिरा गांधी की जयन्ती वरिष्ठ उपाध्यक्ष नारायणसिंह चारण की अध्यक्षता में मनायी गई। जिसके तहत सर्वप्रथम वन्दे मातरम गायन से कार्यक्रम का शुभारम्भ किया गया, तत्पश्चात इन्दिरा गांधी जी के तेल चित्र पर माल्यार्पण व पुष्पांजलि अर्पित की गई।
इस अवसर पर मार्शल प्रहलादसिंह ने सम्बोधित करते हुवे कहा कि देशभर में कांग्रेसजनों द्वारा 19 नवम्बर 2016 से इन्दिरा गांधी के जन्म शताब्दी वर्ष के अवसर पर वर्षभर में विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया गया था, उन कार्यक्रमों का आज समापन करते हुए जयन्ति मनाई जा रही है। राष्ट्र के अदम्य साहस की प्रतीक श्रीमती इन्दिरा गांधी का जन्म आज से 100 साल पहले 19 नवम्बर 1917 के दिन पिता पं. जवाहर लाल के एवं माता श्रीमती कमला नेहरु के घर हुआ था, बचपन से ही देश सेवा के प्रति सम्रपित भावना थी, जब से देश की प्रधानमंत्री बनी तब से कई ऐतिहासिक निर्णय देश हित में लिये, चाहे पाकिस्तान के टुकड़े करना हो चाहे बैंको का राष्ट्रीयकरण हो और चाहे वो शिमला समझोता हो, इस प्रकार के अनेक निर्णय इन्दिरा गांधी ने देशहित में लिये थे, वो आज भी आयरन लेडी के नाम से विश्वविख्यात हैं।
इस अवसर पर वरिष्ठ उपाध्यक्ष नारायणसिंह चारण ने इन्दिरा गांधी जी के जीवन चरित्र के बारे में बताते हुवे कहा कि देश की एक ऐसी पहली महिला प्रधानमंत्री थी जिनकी रुचि बचपन से ही देश की सेवा में समर्पित थी।
इस अवसर पर उपाध्यक्ष हनुमान चौधरी ने कहा कि स्व. श्रीमती इन्दिरा गांधी विलक्षण नेतृत्वकर्ता और प्रबल निर्णायक इच्छा शक्ति की धनी थीं।
इस अवसर पर देहात महिला अध्यक्ष शशिकला राठौड ने कहा कि उन्होने राष्ट्रीय एकता और अखण्डता के लिये अपने अमूल्य जीवन का बलिदान कर दिया।
इस अवसर पर प्रदेश महिला कांग्रेस महासचिव सुषमा बारूपाल ने कहा कि उनके विचारो को प्रचारित व प्रसारित करे ताकि देश की जनता को सही रास्ता मिल सके।
इस अवसर पर सम्भाग अध्यक्ष अम्बाराम मेधवाल ने कहा कि उन्होने अपने पिता प. जवाहर लाल नेहरु जी के आर्शीवाद से देश की सेवा में अग्रिणी रहकर कार्य किया, हमें इन्दिरा जी के विचारो को अपने जीवन में अपनाना हैं।
इस अवसर पर प्रवक्ता ओमप्रकाश सेन ने इन्दिरा गांधी जी के जीवन चरित्र के बारे में बताते हुवे कहा कि देश की एक ऐसी पहली महिला प्रधानमंत्री थी जिनकी रुचि बचपन से ही देश की सेवा में समर्पित थी।
प्रवक्ता ओमप्रकाश सेन बताया कि देहात उपाध्यक्ष मोहनलाल भादु, रामेश्वारलाल जाखड़, सरपंच दानाराम भादू, पूर्व प्रधान भागूराम सहू, जि.प.स.हरीराम बाना, सेवादल मुख्य संगठक प्रेमलता राठौड, वरिष्ठ कांग्रेस नेत्री राजभटनागर, हजारीराम देवाडा, डां.हैदर बैग मिर्जा, महसचिव श्रवणकुमार मदेरणा, सचिव पुनमचन्द भाम्भू, लक्ष्मणराम खिलेरी, रतीराम, का.का.सदस्य सुरेन्द्रसिंह कस्वां, ओबीसी प्रकोष्ठ के अध्यक्ष पुरखाराम गेधर, ब्लॉक अध्यक्ष पुखराज गोदारा, देहात विधी प्रकोष्ठ अध्यक्ष ओमप्रकश जाखड़, आईटीसेल चित्रेश गहलोत, पुराराम राठी, भवानीशंकर भारिया, याकूब अली कलर, रामगोपाल डेलू, गौरीशकर, नित्यानद पारिक, श्रीराम डेलू, श्यामवीरसिंह राधव, आलम बानो, सोहनलाल, बालूराम चौहान, गाणेशाराम दावां, श्रवणकुमार गाट, जोराराम चौटिया, गाफुरखान, भवरलाल सोनी, प्रमेश्वर, पूर्व सरपंच प्रभूराम, वार्ड पंच भवरलाल, सुरजाराम, सन्तोष आसोप, जगदीश नागर, सहीराम बाना, गुलाराम मुण्ड, भव्य भाटीया, श्याम बीठनोक सहित कांग्रेजन मौजूद रहे।

(ओमप्रकाश सैन)
प्रवक्ता
देहात कांग्रेस कमेटी

Print Friendly

One thought on “राष्ट्र के अदम्य साहस की प्रतीक थी इन्दिरा जीः-मार्शल

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>