अदाणी विद्या मंदिर को एसोचैम एजुकेशन एक्‍सिलेंस अवार्ड मिला

· अदाणी फाउंडेशन द्वारा पूरे भारत में 600 स्कूलों और बालवाड़ियों के माध्यम से 100,000 बच्चों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा

· कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्रों के लिए सप्ताह भर चलने वाले इंडस्‍ट्री एक्‍सपोजर प्रोग्राम की सुविधा उपलब्‍ध

अदाणी विद्या मंदिर (एवीएम), अहमदाबाद को ‘बेस्ट एजुकेशन इनिशिएटिव (स्कूल सर्विंग सोशल कॉज)’ के रूप में शिक्षा में उत्कृष्टता लाने के लिए एसोचैम एजुकेशन एक्‍सिलेंस अवार्ड 2019 प्रदान किया गया।

आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा गया है – ‘अदाणी विद्या मंदिर को यह पुरस्कार उसके संचालन में उत्कृष्टता लाने और शिक्षा के क्षेत्र में संस्‍थान द्वारा किये जा रहे बहुत बड़े योगदान की मान्यता के रूप में प्रदान किया गया है। यह आप की तरह ही है जिनकी वजह से देश और समाज गौरवान्वित महसूस करता है।’

अदाणी विद्या मंदिर को यह पुरस्कार कोलकाता में आयोजित एडुमेट 2019 और शिक्षा उत्कृष्टता पुरस्कार वितरण के दौरान प्रदान किया गया।

अदाणी फाउंडेशन की चेयरपर्सन डॉ. प्रीति अदाणी ने बताया कि “जिस तरह से हम आज अपने बच्चों को शिक्षित करते हैं, वह अनिवार्य रूप से कल हमारे देश की नियति तय करेगा। सामूहिक रूप से, हम सभी पर अपने बच्चों, विशेष रूप से कम-विशेषाधिकार प्राप्त पृष्ठभूमि के बच्चों को सक्षम करने की बड़ी जिम्मेदारी है, ताकि हम उज्जवल, गरिमापूर्ण और न्यायसंगत भविष्य बना सकें।”

अदाणी विद्या मंदिर, अहमदाबाद (एवीएमए) भारत का पहला लागत-मुक्‍त विद्यालय है जिसे भारतीय गुणवत्ता परिषद (क्‍यूसीआई) के अंतर्गत एनएबीईटी मान्यता प्राप्त है। इसके अलावा, कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस के सहयोग से ‘कोडिंग सैंडपिट’ को अपने नियमित पाठ्यक्रम के हिस्से के रूप में शामिल करने वाला यह भारत का पहला स्कूल भी है।

स्कूल में स्मार्ट प्रयोगशाला, आधुनिक पुस्तकालयों, सुविधाजनक परिवहन प्रणाली, खेल और अतिरिक्त पाठ्यचर्या संबंधी गतिविधियों की सुविधाएं, समुचित रूप से संचालित कैंटीन, गतिविधि कक्ष आदि उपलब्‍ध हैं। इसके अलावा, कक्षा 11वीं और 12वीं के छात्र सप्ताह भर चलने वाले इंडस्‍ट्री एक्‍सपोजर प्रोग्राम में भी भाग लेते हैं, ताकि प्रत्येक छात्र अपनी अच्छी तैयारी कर सकें और अपने सपनों के व्यवसायों का चयन कर सकें।

एवीएमए अब 100% प्रक्रिया-संचालित स्कूल बन गया है जिसमें स्कूल प्रणाली से संबंधित भारत और विदेश की सर्वोत्तम प्रथाओं को शामिल किया गया है। इन प्रक्रियाओं और उनके कार्यान्वयन का ऑडिट और सत्यापन तीसरे पक्ष द्वारा किया जाता है।

एवीएमए की स्‍थापना 2008 में हुई और इसे केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) के साथ संबद्ध किया गया था। इसके सभी छात्र औसत एक लाख रुपये से कम की वार्षिक आय वाले परिवार के हैं।

अहमदाबाद परिसर की तरह, सरगुजा (छत्तीसगढ़) और भद्रेश्वर (गुजरात) में भी मुफ्त शिक्षा देने वाले अदाणी विद्या मंदिर हैं, जो कम आय वर्ग के परिवारों के बच्चों के उज्जवल भविष्य का निर्माण कर रहे हैं।

इन स्कूलों में अत्याधुनिक बुनियादी ढांचा और समुचित तौर पर योग्य और प्रशिक्षित शिक्षक उपलब्‍ध हैं। अदाणी विद्या मंदिर हर वर्ष 2,100 युवाओं को तैयार कर रहे हैं।

तिरोरा (महाराष्ट्र) और कवाई (राजस्थान) में अदाणी विद्यालय, धामरा (ओडिशा) में अदाणी डीएवी पब्लिक स्कूल, मुंद्रा (गुजरात) में अदाणी पब्लिक स्कूल और हजीरा (गुजरात) में नवचेतन विद्यालय सालाना 2,600 छात्रों को सब्सिडी पर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा प्रदान करते हैं। अदाणी फाउंडेशन पूरे भारत में 600 स्कूलों और बालवाड़ियों के माध्यम से 100,000 बच्चों के लिए गुणवत्तापूर्ण शिक्षा की सुविधा प्रदान करता है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!