दास्तानें पुलिस

*गैरों पे करम अपनों पे सितम ऐ जाने वफा ये जुल्म ना कर* *ऐ री मैं तो प्रेम दिवानी मेरा दर्द* *ना जाने कोय ?* *पूरे दिन में कोर्ट की evidence.* *शाम को crime review meeting.* *पूरी रात patrolling.* *फिर सुबह High Court.* *शाम को पेशी with Case Files.* *फिर picket checking.* *फिर रात की … Read more

देश रक्षा और देश हित के मसलों पर न्यूज़ चैनलों को अदालत न बनने दें

(आतंकवाद और आतंकी के पक्ष में बोलने वाले क्यों बुलवाते हैं कतिपय न्यूज चैनल?) बीकानेर । ये पुलवामा की पुकार है, सोएं नहीं।आतंकवाद, आतंकी और उनके पनपने पनपने का स्थान नेस्तनाबूद कर दें। वह स्थान कहीं भी हो । आतंकी किसी भी समुदाय से हो। आतंकवाद जो भारत के, मानवीयता के और दुनिया के खिलाफ … Read more

क्या संघ तिवाड़ी को कांग्रेस में जाने से रोकेगा?

राजनीतिक गलियारों में एक सवाल गूंज रहा है कि क्या राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ भारत वाहिनी पार्टी के अध्यक्ष घनश्याम तिवाड़ी को कांग्रेस में जाने से रोकेगा? यह सवाल इस कारण उठा है कि प्रदेश में सत्ता परिवर्तन के बाद तिवाड़ी तीन बार मुख्यमंत्री अशोक गहलोत से मुलाकात कर चुके हैं और कयास ये लगाए … Read more

कुंभ मेला : आस्था पर भारी आह…!!

तारकेश कुमार ओझा एक डुबकी आस्था की, एक भाव सद्भाव का… एक समागम संतो का, एक भाव – सद्बाव का…। अपने गृह जनपद प्रतापगढ़ से प्रयागराज की ओर जाते समय रास्ते के दोनों ओर लगे इस आशय के होर्डिंग्स से कुंभ मेले की गहमागहमी का इलाहाबाद पहुंचने से पहले ही मुझे भान होने लगा था। … Read more

सामाजिक न्याय की तरफ एक ठोस कदम

भारत की राजनीति का वो दुर्लभ दिन जब विपक्ष अपनी विपक्ष की भूमिका चाहते हुए भी नहीं नहीं निभा पाया और न चाहते हुए भी वह सरकार का समर्थन करने के लिए मजबूर हो गया, इसे क्या कहा जाए? कांग्रेस यह कह कर क्रेडिट लेने की असफल कोशिश कर रही है कि बिना उसके समर्थन … Read more

बांट तो रहे हैं,… जनता को मिलेगा क्या?

किसानों की कर्ज माफी और अब गरीब सवर्णों को 10% आरक्षण । आरक्षण तो प्रतीक्षित था और इसके लिए सवर्णों ने आंदोलन भी किया । किंतु सवाल यह है कि राजनीतिक दल सत्ता प्राप्ति के लिए चुनाव सिर पर आने पर जो बांटते जा रहे हैं वह जनता तक पहुंचेगा भी या जनता से ही … Read more

डर के बावजूद

हमें खालिस्तान आंदोलन के दिन याद आ रहे हैं जब किसी सिख की कोई बात उसी तरह नज़र से देखी जाती थी जिस नज़र से आजकल मुस्लिम नामधारी किसी व्यक्ति की बातों को देखा जाता है। अभी सज्जन कुमार को सिख हत्याओं के लिए उम्रक़ैद मिली है। जिन्हें याद हो वे बताएँ, कैसे दिन थे। … Read more

राजस्थान रोजवेज की बसे कर रही है निम हकीमो के विज्ञापन

*रोडवेज बसों के ड्राइवर, कंडक्टर, ओर अफसर नही दे रहे है ध्यान* जी हां प्रदेश की अधिकांश रोडवेज की बसों में इस तरह के अनेक विज्ञापन देखने को मिल जाएंगे, जिसके चलते अनेक भोले भाले लोग इन जैसे निमहकीमो द्वारा ठगे जाते है । इस तरह के विज्ञापन के स्टिकर बसों में यहां वहां लगा … Read more

पवनपुत्र को और विराट बनाता एक विवाद

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने एक चुनावी सभा में पवन पुत्र हनुमान को दलित क्या बताया। तब से हनुमान जी की जाति को लेकर नित नये खुलासे हों रहे हैं। उन्हें आदिवासी से लेकर मुसलमान तक बता दिया गया है। भगवान राम के परमसेवक हनुमानजी की जाति बताने को लेकर सियासी बयानबाजी जारी … Read more

जनभावनाओं को नहीं समझ पाई भाजपा

-बाबूलाल नागा- राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, तेलंगाना और मिजोरम में हुए विधानसभा चुनावों के नतीजे आ गए हैं। भाजपा के हाथ से राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ फिसल गए हैं। इन राज्यों की जनता ने वसुंधरा राजे, शिवराज सिंह चैहान और रमन सिंह को नकार दिया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह … Read more

मंदिर निर्माण में आखिर बाधा क्या है?

अजमेर। विश्व हिंदू परिषद की ओर से आज नई दिल्ली में आयोजित धर्मसभा में जुटी भीड़ ने यह साबित कर दिया कि देश में लोग राम मंदिर का निर्माण जल्द से जल्द चाहते हैं। लेकिन यह समझ नहीं आ रहा कि संसद में भाजपा को पूर्ण बहुमत है । उत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की … Read more