किस थाली की चिंता है जया जी, सिनेमा तो नशे की नाली बन गया है !

बॉलीवुड को बदनाम करने का बयान देते हुए संसद में जया बच्चन भड़क गईं। सिनेमा के नशेड़ियों की करतूतों को उजागर करनेवाले फिल्म कलाकारों को निशाने पर लेते हुए जया ने कहा कि कुछ लोग जिस थाली में खाते हैं, उसी में छेद करते हैं। लेकिन रवि किशन ने कहा कि जिस थाली में जहर … Read more

इनका श्रेय तो अर्नब को जाता है

दो कौडी की पत्रकारिता करके भी कोई देश में कोई नम्बर बन जाता है,तो इसका दोषी वो नहीं है,हम सब हैं। अरनब गोस्वामी को इस बात का तो श्रेय मिलना ही चाहिए कि उन्होंने टीवी पर खबरों की हत्या कर दी। देश को मुद्दों से भटका दिया। तहजीब को भुलाकर बदतमीजी से बोलने (जिसे वो … Read more

विकास एक सतत प्रक्रिया किसी पार्टी या सरकार को नहीं लेना चाहिए श्रेय

अजमेर। विकास का श्रेय यूँ किसी विचारधारा में बंध कर किसी एक नेता या पार्टी को देना गलत है। विकास एक सतत् प्रक्रिया है। यूँ देखा जाए तो वैज्ञानिक तकनीक तो अंग्रेज भारत में लाये थे। वो आये तो हवाई जहाज, समुद्री जहाज आये। (वरना पहले हम तो पाल वाली नौकाओं से सफर करते थे), … Read more

घर के नहीं मरते तो फौज इकट्ठा होती

राजनीतिक परिदृश्य : खुद का चश्मा खरीदे जनता अमित टंडन अजमेर। ये किसी एक सरकार की नही “सरकारों” की विफलता है कि गरीब श्रमिक वर्ग सड़कों पर भटक रहा है। राजनीतिक द्वेष और विरोधी विचारधारा राजनीतिक दलों को एक साथ काम करने में बाधक हो रही है। सबकी अपनी डफली-अपना राग है। सामंजस्य बिठाने में … Read more

इतनी मौतों के बाद अब सुध आई

-काश पहले चेतते तो बेचारे मजबूर मजदूर बेमौत ना मारे जाते 👉महाराष्ट्र के औरंगाबाद में मालगाड़ी से कटकर और मध्यप्रदेश के गुना में सड़क दुर्घटना में मजबूर मजदूरों के बेमौत मारे जाने तथा हजारों मजदूरों के सैकड़ों पैदल चलकर अपने गांव-शहर तक जाने और उनके पैरों में छाले पड़ने के बाद हमारे शासन-प्रशासन की नींद … Read more

*ये तो दोहरी नीति है*

–अमित टंडन *अजमेर।* जब दुकानें खोलने के आदेश ही हो गए तो कैसा लॉक डाउन। सिर्फ प्रभावित एरिया में ही दुकानें नही खुलीं, जैसे मोची मोहल्ला, धान मंडी, दरगाह के आसपास के क्षेत्र, क्योंकि वहीं सबसे ज्यादा मरीज पाए गए। कल, यानी 14 मई को भी 4 नए केस वहीं से आए। बाकी तो नया … Read more

*कहीं भ्रष्टों की भेंट ना चढ़ जाए विशेष पैकेज*

-सारा पैसा वांछितों, जरूरतमंदों तक पहुंचे और जिस मद व मकसद के लिए प्रावधान किया गया है, उसी पर खर्च हो -यदि भ्रष्टाचारी एक पैसा भी डकारने की कोशिश करे तो उसकी हलक में से निकाल लिया जाए 👉प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 12 मई की रात राष्ट्र के नाम संबोधन में की गई 20 लाख … Read more

गोलमाल है भई, गोलमाल है

पांच गुना महंगे बिक रहे हैं बीड़ी-सिगरेट, तंबाकू-गुटखा जब से लॉक डाउन लागू हुआ है, तंबाकू, गुटखा, सिगरेट, बीड़ी आदि पर प्रतिबंध है। यानि कि बनाने और बेचने पर। न बनना चाहिए, न बिकना चाहिए। खाने पर भी। यदि खा कर कहीं थूक दिया तो जुर्माना है। जब कि सच्चाई ये है कि ये सभी … Read more

बहुत कठिन है डगर पनघट की

मित्रों सरकार ने हमें लॉक डाउन में बहुत सारी रियायतें दे दी है।कुछ मजबूरी सरकार को सरकार चलाने की है तो कुछ मजबूरी हमारे समाज के उन लोगों की है जो मौत से ज्यादा अपने ऐशो आराम को महत्त्व दे रहे हैं।जो घूमना चाहते हैं बाहर।कुछ लोगों की आर्थिक स्थिति भी बहुत विकट हो गई … Read more

कोरोना योद्धाओं के वेतन की कटौती कहां तक उचित है

मेरा ये सुझाव मैं माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र जी मोदी व हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री अशोक जी गहलोत को भिजवा रहा हूं।इसमें आपकी सहमति,असहमति या सुझाव जो भी हो जरूर दें। लॉक डाउन की वजह से हमारे देश व प्रदेश की अर्थव्यवस्था पुरी तरह से चरमरा गई है।हम सब इन हालातों को समझ भी … Read more

अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता से मतलब दूसरों का अपमान करना नहीं है

*दी इन्फॉर्मेशन टेक्नोलॉजी अधिनियम की धारा 66 ए को असंवैधानिक घोषित करने के बाद सोशल मीडिया पर फैलने लगी है बेलगाम सांप्रदायिकता* ✍️✍️ *देश की संसद को जरूरत है इस विषय पर कानून बनाने की* दोस्तों! शुभ प्रभात।नमस्कार। आज जमाना सोशल मीडिया का है।हर दूसरे व्यक्ति के पास एंड्रॉइड फोन है।लगभग सभी एंड्रॉइड फोन धारक … Read more

error: Content is protected !!