ऊर्जा का रचनात्मक उपयोग सीखें विद्यार्थी- प्रांजलि येरिकर

zविद्यार्थी जीवन की ऊर्जा का उपयोग रचनात्मक कार्यों में हो तथा यह सकारात्मकता भारत के निर्माण में लगे। भारत में जन्में स्वामी विवेकानन्द जो सिंह की भूख मिटाने के लिए भी आत्मत्याग को प्रवृत्त थे किंतु आज उसी देश के विद्यार्थी अपनी भारत माँ को याद करने के लिए वर्ष में दो बार छुट्टी की बाट जोहते हैं। विद्यार्थी के सामने आज यह प्रश्न है कि क्या वह स्वयं सक्षम बन सकता है तथा अपने भीतर सक्षमता के निर्माण के लिए उसे किन गुणों की आवश्यकता होगी। उक्त विचार विवेकानन्द केन्द्र की प्रान्त संगठक एवं जीवन व्रती कार्यकर्ता सुश्री प्रांजलि येरिकर ने केन्द्रीय विद्यालय संख्या 1 में 8वीं से लेकर 11वीं के विद्यार्थियों के साथ विद्यालय में आयोजित ‘‘मैं ही भारत’’ विषय पर आयोजित संवाद के अंतर्गत मुख्य वक्ता के रूप में व्यक्त किए।
संवादात्मक सत्र में सुश्री प्रांजलि ने स्वामी विवेकानन्द के जीवन से जुड़े अनेक प्रसंगों का उल्लेख करते हुए बताया कि स्वामीजी की स्मरण शक्ति फोटोग्राफिक थी। वे जिस भी पृष्ठ को एक बार पढ़ लेते थे उसे उम्रभर नहीं भूलते थे। विद्यार्थी भी ऐसी स्मरण शक्ति पा सकता है किंतु उसे इसके लिए विधिवत प्रशिक्षण एवं आचरण की आवश्यकता होती है। विद्यार्थियों के मध्य युवा की व्याख्या करते हुए बताया कि आज का युवा काले बाल वाला बूढ़ा हो गया है तथा गुलामी की मानसिकता के चलते अपने ही देश की बुराई को बड़े चाव से सुनता है तथा उसका प्रतिकार करने की शक्ति भी नहीं जुटा पाता। स्वामी विवेकानन्द के जीवन से प्रेरित होकर छात्र आदर्श आचरण कर सकता है।
इस अवसर पर विवेकानन्द केन्द्र कन्याकुमारी राजस्थान प्रान्त के प्रशिक्षण प्रमुख डॉ. स्वतन्त्र शर्मा ने विद्यार्थियों को स्मरण शक्ति बढ़ाने के लिए केन्द्र द्वारा आयोजित योग प्रतिमान ‘‘परीक्षा दें हँसते-हँसते’’ के विषय में जानकारी दी। इस अवसर पर प्राचार्य श्री वी पी शर्मा ने इस योग प्रतिमान को विद्यालय के विद्यार्थियों हेतु आयोजित करने की सहमति प्रदान की। संवाद सत्र का संयोजन अनिल शर्मा ने किया तथा संचालन योग प्रमुख अंकुर प्रजापति ने किया।

(रविन्द्र जैन)
नगर प्रमुख
9414618062

Leave a Comment

error: Content is protected !!