माकड़वाली में 1.85 करोड़ की लागत से बनेगा चिकित्सालय

शिक्षा राज्यमंत्री श्री देवनानी ने किया शिलान्यास
माकड़वाली में चार साल में कराए 16 करोड़ के विकास कार्य – श्री देवनानी

अजमेर 25 अपे्रल। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि राज्य सरकार शहरों के साथ ही गांवों के विकास के लिए भी प्रतिबद्ध होकर कार्य कर रही है। अजमेर शहर से सटे माकड़वाली गांव में पिछले चार साल में 16 करोड़ के विकास कार्य कराए गए हैं। हमने क्षेत्र के विकास का जो वादा किया था उसे पूरा कर हम क्षेत्र को अजमेर के सैटेलाइट से सेंटर के रूप में विकसित करने जा रहे हैं।
शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने आज माकड़वाली में 1.85 करोड़ की लागत से बनने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भवन का शिलान्यास किया। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि माकड़वाली गांव शहर से सटा होने के बावजूद दशकाें से विकास की दृष्टि से अछूता था। हमने चुनाव के दौरान क्षेत्र की जनता से वादा किया था कि गांव को प्राथमिकता के आधार पर विकसित करेंगे। पिछले चार साल में हमने दिन रात मेहनत कर गांव को विकास के पथ पर आगे बढ़ाया।
उन्होंने कहा कि माकड़वाली में पिछले चार साल में 16 करोड़ रूपए की लागत से सड़क, पानी, बिजली, शिक्षा एवं चिकित्सा के क्षेत्र में 70 विकास कार्य करवाए गए हैं। राज्य सरकार की यह अभूतपूर्व उपलब्धि है। गांव में बना विवेकानन्द मॉडल स्कूल आज पूरे क्षेत्र में अंग्रेजी माध्यम की शिक्षा का अग्रणी विद्यालय बन गया है। यहां अपने बच्चों को एडमिशन दिलाने के लिए अभिभावकों में होड लगने लगी है।
श्री देवनानी ने कहा कि इसी तरह गांव की सड़क, अन्य विद्यालय तथा आजादी के बाद से चली आ रही पेयजल आपूर्ति की समस्या का भी हमने समाधान किया है। गांव में शेष रही समस्याओं का भी शीघ्र ही योजनाबद्ध समाधान किया जाएगा।
कार्यक्रम में श्री ओमप्रकाश भडाना ने कहा कि राज्य सरकार गांवों के विकास के लिए पूरी तन्मयता से कार्य कर रही है। पिछले चार साल में प्रत्येक क्षेत्र में विकास हुआ है। अध्यक्ष श्री अरविंद यादव ने कहा कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुन्धरा राजे के नेतृत्व में प्रदेश लगातार तरक्की कर रहा है।
इससे पूर्व मंत्रोच्चारण के साथ स्वास्थ्य केन्द्र भवन का शिलान्यास किया गया। यहां पर करीब 6 हजार 800 वर्गफीट क्षेत्रफल में 2 वार्ड, 2 चिक्तिसक कक्ष, एक लैब, ओटी, स्टरलाइजेशन रूम, लेबर रूम, फैमिली वेलफेयर रूम आदि का निर्माण किया जाएगा। इस अवसर पर श्री राजेश शर्मा, श्री महेन्द्र जादम, डॉ. के.के.सोनी सहित अन्य जनप्रतिनिधि, अधिकारी एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

मिड डे मील में अब बच्चों को मिलेगा दूध – श्री देवनानी
माकड़वाली के रा.उ.मा.वि. में 26.60 लाख की लागत से बनेंगे नए कक्ष

अजमेर 25 अपे्रल। शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री श्री वासुदेव देवनानी ने कहा कि प्रदेश के स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों को पोषण के लिए अब मिड डे मील योजना के तहत सप्ताह में तीन दिन दूध भी दिया जाएगा। इसके लिए सभी तैयारियां कर ली गई है। आगामी शैक्षणिक सत्र से सरकारी स्कूलों में यह व्यवस्था लागू हो जाएगी। उन्होंने शिक्षकों एवं ग्रामीणों का आह्वान किया कि अधिक से अधिक बच्चों को स्कूल में नामांकन कराए। मई से अगस्त तक सरकारी स्कूलों में नामांकन अभियान चलाया जाएगा।
शिक्षा एवं पंचायतीराज राज्यमंत्री श्री देवनानी ने आज माकड़वाली के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय में 26.60 लाख की लागत से बनने वाले नए कक्षा कक्षों की आधारशिला रखी। उन्होंने कहा कि शैक्षणिक रूप से राजस्थान की अभूतपूर्व प्रगति के बाद अब प्रदेश के विद्यार्थियों को मिड डे मील में अतिरिक्त पोषण के लिए अब दूध भी दिया जाएगा। कक्षा एक से 5 तक के विद्यार्थियों को 150 ग्राम एवं कक्षा 6 से 8 तक के विद्यार्थियों को 200 ग्राम दूध दिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि राज्य के विद्यालयों में मई से अगस्त तक सघन नामांकन अभियान चलाया जाएगा। इसके तहत शहरी क्षेत्र एवं सभी ग्राम पंचायतों में 6 से 14 आयु वर्ग के सभी बालक-बालिकाओं का चिन्हिकरण कर उनके नामांकन की कार्यवाही की जायेगी। इस बार नवीन प्रवेश हेतु योग्य बालक-बालिकाओं के अभिभावकों को विद्यालय में अध्ययनरत समस्त विद्यार्थियों द्वारा हस्तनिर्मित विद्यालय नामांकन आमंत्रण पत्र भिजवाये जाकर विद्यालय में नामांकन हेतु प्रेरित किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि शहरी क्षेत्रों में ब्लॉक शिक्षा अधिकारी एवं नोडल संस्था प्रधानों के माध्यम से तथा ग्राम पंचायतों में पंचायत शिक्षा प्रसार अधिकारियों के माध्यम से घर-घर जाकर बालक-बालिकाओं का सर्वे किया जाएगा। 6 से 14 आयु वर्ग के शत-प्रतिशत नामांकन वाली ग्राम पंचायतों को ओडीएफ की तर्ज पर डीओएफ यानि ड्रापआउट फ्री घोषित किया जाएगा। इसके लिए जन प्रतिनिधियों की मदद से ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में विशेष अभियान चलाया जाएगा।
इस अवसर पर श्री ओमप्रकाश भडाना, श्री अरविंद यादव, श्री राजेश शर्मा, श्री महेन्द्र जादम, शिक्षा विभाग के अधिकारी, अन्य जनप्रतिनिधि एवं ग्रामीण उपस्थित थे।

जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक आयोजित
अजमेर 25 अपे्रल। अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री अबु सूफियान चौहान की अध्यक्षता में जिला स्वास्थ्य समिति की बैठक स्वास्थ्य संकुल में बुधवार को आयोजित हुई।
बैठक में श्री चौहान ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग के माध्यम से संचालित समस्त राष्ट्रीय कार्यक्रमों की निगरानी एवं सफलता का उत्तरदायित्व लोक मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी का है। इनके द्वारा अपने क्षेत्र में समस्त योजनाओं की एकीकृत मॉनिटरिंग की जानी आवश्यक है। क्षेत्र में कार्यरत चिकित्सा कर्मियों एवं कार्मिकों को योजनाओं की क्रियान्विति में विशेष रूचि लेकर कार्य करना चाहिए।
उन्होंने कहा कि जिले के समस्त आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों को भौतिक एवं मानवीय संसाधनों से परिपूर्ण किया जाए। सराना एवं राजियावास के आदर्श प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रों में संस्थागत प्रसव में अपेक्षा के अनुरूप वृद्धि नहीं होने के कारण संबंधित चिकित्सा अधिकारियों को नोटिस दिया जाएगा।
उन्होंने कहा कि जननी सुरक्षा योजना के लाभार्थियों को शत प्रतिशत भुगतान सुनिश्चित किया जाना चाहिए। जनाना अस्पताल अजमेर, ब्यावर, किशनगढ़ एवं केकड़ी के सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्रों में इस योजना के अन्तर्गत बकाया भुगतान तीन दिन में नहीं करने पर संबंधित के विरूद्ध कार्यवाही की जाएगी।
उन्होंने कहा कि अरांई क्षेत्र में टीकाकरण के लाइन लिस्टिंग डाटा का क्रोस चेक किया जाएगा। इसी प्रकार किशनगढ़ ब्लॉक में पीसीटीएस के पात्र युगलों के टारगेट सर्वे का भी क्रॉस चैकिंग किया जाएगा।
इस अवसर पर मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.के.सोनी, अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एस.जोधा एवं जिला परियोजना प्रबंधक श्री संतोष गुप्ता उपस्थित थे।

मलेरिया के संबंध में कार्यशाला आयोजित
अजमेर 25 अपे्रल। विश्व मलेरिया दिवस के अवसर पर बुधवार को स्वास्थ्य सुकुल भवन में एण्ड मलेरिया फॉर गुड विषय पर कार्यशाला का आयोजन किया गया।
कार्यशाला में अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री अबु सूफियान चौहान एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.के.के.सोनी ने मलेरिया रोग की रोकथाम एवं उपचार पर अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि मलेरिया के उपचार से उत्त्म है। उसके प्रति जन जागरूकता पैदा कर इससे बचा जाए। घरों में कूलर एवं टंकियों में पानी को समय -समय पर बदलते रहना चाहिए। मच्छरों के छूपने एवं प्रजनन के स्थानों में कमी करके रोग से दूर रहा जा सकता है।
उन्होंने कहा कि मलेरिया के प्रति जागरूकता पैदा करना के साथ ही घर-घर सर्वे करके रोगियों को चिन्हित किया गया। रक्त के नमूनों की सलाइड बनाकर जांच की जाएगी। चिन्हित रोगियों को निर्धारित दवाओं के द्वारा उपचारित किया जाएगा।
इस अवसर पर अतिरिक्त मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ.एस.एस.जोधा एवं जिला परियोजना प्रबंधक श्री संतोष गुप्ता, जिले के चिकित्सा अधिकारी, जिला समन्वयक एवं पैरा मेडिकल स्टॉफ उपस्थित थे।

Leave a Comment