विश्व बैंक की टीम का भ्रमण, राष्ट्रीय पोषण अभियान में हुए कार्य को देखा

अजमेर, 02 फरवरी। राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत महिला एवं बाल विकास विभाग मंत्रालय भारत सरकार तथा विश्व बैंक के संयुक्त तत्वावधान में शनिवार को विश्व बैंक की टीम ने अजमेर जिले का दौरा कर यहां हुए कार्यों को देखा तथा संतोष व्यक्त किया।
विश्व बैंक के दल के सदस्यों ने अजमेर के घूघरा, गगवाना प्रथम तथा गगवाना द्वितीय की आंगनबाड़ियों का अवलोकन किया। घूघरा में राजकीय सीनियर उच्च माध्यमिक विद्यालय परिसर में स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र में दल के सदस्य पहुंचे। जबकि गगवाना में राजकीय बालिका माध्यमिक विद्यालय तथा ग्राम स्थित आंगनबाड़ी केन्द्र पर दल के सदस्य पहुंचे। विश्व बैंक के तीनों दलों का अजमेर पहुंचते ही माल्यार्पण व तिलक लगाकर स्वागत किया गया। उन्होंने आंगनबाड़ी केन्द्रों का अवलोकन किया तथा संधारित रिकॉर्ड को भी देखा। बालकों की स्थिति देखी वहीं बच्चों के खिलौने तथा उन्हें दिए जाने वाले पोषण के संबंध में भी जानकारी प्राप्त कर संतोष प्रकट किया।
दल के सदस्यों ने सभी तीनों स्थानों पर राष्ट्रीय पोषण अभियान के तहत लगायी गई प्रदर्शनी का भी अवलोकन किया तथा अभियान के तहत किए जाने वाले कार्याें की जानकारी प्राप्त की। समारोह स्थल पर कॉमन एपलीकेशन सॉफ्टवेयर, इंक्रीमेंटल लर्निंग एपरोच, बीहेवियर चेंज कॉम्यूनीकेशन, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, न्यूट्रीशन, ग्रोथ मॉनिटरिंग, मातृ एवं शिशु हैल्थ एण्ड न्यूट्रीशन, हॉटीकल्च्रल तथा अर्ली चाइल्ड हुड एज्यूकेशन की प्रदर्शनी लगायी गई थी। प्रत्येक प्रदर्शनी की स्टॉल पर अभियान के तहत हुए कायोर्ं को विस्तार से दल के सदस्यों को बताया गया।
समारोह में समुदाय को पोषण अभियान से जोड़ने तथा जागरूकता पैदा करने के लिए गोद भरायी की रस्म भी अदा की गई। दल के सदस्यों ने गोद भरायी महिलाओं को माल्यार्पण व तिलक लगाया। गोद भरायी रस्म में दल के सदस्यों ने भी बढ़चढ़कर भाग लिया उन्होंने महिलाओं को पोषक पदार्थो को भेंट किया। सदस्यों की उत्सुकता गुड़ के प्रति विशेष रूप से रही। उन्होंने इसके उत्पादन एवं उपयोगिता के बारे में विस्तारपूर्वक जाना। इस मौके पर नुक्कड़ नाटक एवं सामूहिक गीत की प्रस्तुति भी की गई।
गगवाना केन्द्र पर जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने सभी सदस्यों का स्वागत किया तथा बताया कि जिले में पेाषण अभियान के तहत महिला एवं बाल विकास विभाग का जो काम हुआ है। उसे देखने आज विश्व बैंक की टीम आयी है ताकि यहां हुए नवाचारों को अन्य स्थानों पर भी क्रियान्वित किया जा सके।

सभी दलों का हुआ विचार विमर्श
समारोह के पश्चात तीन दलों के सदस्यों के साथ जिला प्रशासन के अधिकारियों से पोषण अभियान के संबंध में विचार विमर्श हुआ।
इस मौके पर जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने जिले में पोषण कार्यक्रम के तहत किए गए कार्यों को विस्तार से बताया। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय पोषण अभियान महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की फ्लेगशिप योजना में है। विभिन्न विभागों के समन्वय से इसमें अनेक गतिविधियां की गई। जिनमें आंगनबाड़ी मेला, प्रधानमंत्री मातृ वंदना योजना, स्कीम फॉर एडोलिसेंट गल्र्स, जननी सुरक्षा योजना, नेशनल हैल्थ मिशन, स्वच्छ भारत मिशन, पब्लिक ढिस्ट्ररीब्यूशन सिस्टम, महानरेगा तथा पेयजल एवं स्वच्छता मिशन प्रमुख है।
उन्होंने बताया कि अभियान जब आरम्भ हुआ तब अजमेर जिले में एनिमिया, जन्म दर काफी कम थी लेकिन अभियान के तहत लक्ष्य तय कर कार्य प्रारम्भ किया गया। उसे सभी विभागों के सामुहिक प्रयासों से तय किया गया। इसके लिए प्रभावी फर्म वेतन एवं मूल्यांकन कर डाटा एकत्र किए गए। उसे साप्ताहिक में त्रैमासिक रूप से समीक्षा की गई। पूरे अभियान को एक चैलेंज के रूप में स्वीकार करते हुए मियमित फिल्ड भ्रमण, फिल्ड में काम करने वाली एजेंसियों से विचार विमर्श किया गया। मॉनिटरिंग के लिए कॉमन एप्लीकेशन सोफ्टवेयर तैयार कर डाटा फिडिंग किए गए। तत्पश्चात उसे नियमित रूप से समीक्षा की जाती रही।
जिला कलक्टर ने बताया कि आज 0 से 6 वर्ष के 59 बच्चों, 61 हजार 818 प्रसूताओं तथा 24 हजार 287 धात्री महिलाओं तक पहुंच कर लाभान्वित किया है। 81 प्रतिशत बच्चों का वजन एव ंऊचांई की मॉनिटरिंग जनवरी माह तक की जा चुकी है। समस्त अभियान में अजमेर जिला प्रदेश में द्वितीय स्थान पर है। उन्होंने सभी को आश्वस्त किया कि जिला अभिसरण योजना समिति की नियमित त्रैमासिक बैठक में समीक्षा कर कुपोषण व एनिमिया को कम करने का प्रयास किया जाता रहेगा।
इस मौके पर तीनों दलों के प्रतिनिधियों ने अभियान के संबंध में जिला कलक्टर से विचार विमर्श भी किया।
प्रारम्भ में राष्ट्रीय पोषण अभियान की नताशा खुराना ने स्वागत किया वहीं अंत में आभार उपखण्ड अधिकारी श्रीमती अंजली राजोरिया ने व्यक्त किया।
इस मौके पर महिला एवं बाल विकास विभाग की प्रमुख शासन सचिव श्रीमती गायत्री राठौड़, महिला एवं बाल विकास विभाग की निदेशक सुषमा अरोड़ा, जेपीसी डॉ. धर्मवीर मीना, डॉ. मंजू यादव, डॉ. ऋचा चतुर्वेदी, जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा, विश्व बैंक की टीम के सदस्यगण, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री अबु सूफियान चौहान, उपखण्ड अधिकारी श्रीमती अंजली राजोरिया, उप निदेशक महिला एवं बाल विकास विभाग की डॉ. अनुपमा टेलर, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.के.सोनी सहित प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित थे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!