प्रातः 8 बजे शुरू होगी मतगणना

अजमेर, 22 मई। लोकसभा चुनाव के लिए कल 23 मई को होने वाली मतगणना की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं। लोकसभा क्षेत्र के आठों विधानसभा क्षेत्रों की मतगणना 89 गणना टेबल पर सम्पन्न कराई जाएगी। मतगणना प्रातः 8.00 बजे शुरू होगी। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए अलग-अलग भवनों में मतगणना की व्यवस्था की गई है।
जिला निर्वाचन अधिकारी श्री विश्व मोहन शर्मा ने आज मतगणना स्थल की तैयारियों को अन्तिम रूप दिया। उन्होंने बताया कि मतगणना 89 टेबलों पर सम्पन्न होगी। डाक मत पत्रों की गणना के लिए 8 टेबल राजकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय के सिविल ब्लॉक सी-13 में निर्धारित की गई है। इसी तरह दूदू विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर सिविल ब्लॉक सी-14 में होगी। किशनगढ़ विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर सिविल ब्लॉक कमरा नम्बर सी 5 में होगी। पुष्कर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम 32 (फस्र्ट फ्लोर) में होगी। अजमेर उत्तर विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर ईएल-7 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी। अजमेर दक्षिण विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर आईई-17 प्रथम तल में होगी। नसीराबाद विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर इलैक्ट्रॉनिक ब्लॉक कमरा नम्बर ईएल-09 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी। मसूदा विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 12 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम-37 प्रथम तल में होगी। केकड़ी विधानसभा क्षेत्र की मतगणना 9 टेबलों पर मेन ब्लॉक कमरा नम्बर एम-21 ग्राऊण्ड फ्लोर में होगी।

कहां कितने मतगणना टेबल व राउंड
उन्होंने बताया कि किशनगढ़ में 269 मतदान केन्द्रों के लिए 12 टेबल पर 23 राउंड मतगणना होगी। दूदू में 269 मतदान केन्द्रों के लिए 12 टेबल पर 23 राउंड मतगणना होगी। अजमेर उत्तर में 200 मतदान केन्द्रों के लिए 9 टेबल पर 23 राउंड मतगणना होगी। नसीराबाद में 233 मतदान केन्द्रों के लिए 9 टेबल पर 26 राउंड मतगणना होगी। अजमेर दक्षिण में 181 मतदान केन्द्रों के लिए 9 टेबल पर 21 राउंड मतगणना होगी।
इसी तरह केकड़ी में 272 मतदान केन्द्रों के लिए 9 टेबल पर 31 राउंड मतगणना होगी। पुष्कर में 242 मतदान केन्द्रों के लिए 9 टेबल पर 27 राउंड मतगणना होगी। मसूदा में 285 मतदान केन्द्रों के लिए 12 टेबल पर 24 राउंड मतगणना होगी।
उन्होंने बताया कि संसदीय क्षेत्र में 3 हजार 530 सर्विस वोटर ईटीपीबीएस जारी किए गए थे। इनमें से 2 हजार 378 ईटीपीबीएस प्राप्त हुए है। इसी प्रकार 5 हजार 516 डाकमत पत्र जारी किए गए थे। इनमें से 3 हजार 896 डाकमत पत्र बुधवार सायं तक प्राप्त हुए।

मीडिया सेन्टर पर लगातार अपडेट होता रहेगा परिणाम
जिला निर्वाचन विभाग ने चुनाव के परिणाम के लिए विशेष व्यवस्था की है। पॉलीटेक्निक महाविद्यालय में मीडिया सेन्टर की स्थापना की गई है। यहां एलईडी स्क्रीन लगायी गई है। जहां पर लगातार परिणाम अपडेट होता रहेगा।

वोटर हैल्पलाइन मोबाइल एप पर मिलेगी मतगणना की सम्पूर्ण जानकारी
लोकसभा आम चुनाव 2019 के मतगणना दिवस पर भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार किए गए वोटर हैल्पलाइन मोबाइल एप पर मतगणना के रूझान एवं परिणामों की जानकारी मिल सकेगी। जिसे आमजन आसानी से देख सकेगा।
जिला निर्वाचन अधिकारी श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा तैयार किए गए वोटर हैल्पलाइन मोबाइल एप को कोई भी व्यक्ति अपने मोबाइल पर गुगल प्ले स्टोर में जाकर डाउनलोड कर सकता है। इस एप के द्वारा मतगणना की नवीनतम जानकारी दलवार उपलब्ध रहेगी। उन्होंने बताया कि इस बार राज इलेक्शन पोर्टल पर मतगणना की सूचना नहीं डाली जाएगी।

वीवीपेट के लिए स्पेशल काउंटिंग बूथ
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि इस बार मतगणना के दौरान प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के 5-5 पोलिंग बूथ पर हुए मतदान की वीवीपेट की पर्चियों से मिलान किया जाएगा। अजमेर संसदीय क्षेत्र में कुल 8 विधानसभा क्षेत्र है। प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के लिए एक-एक स्पेशल वीवीपेट काउंटिंग बूथ बनाया गया है। इस तरह से कुल 40 पोलिंग बूथ पर हुए मतदान की पर्चियों की गणना का मिलान किया जाएगा। इसके बाद परिणाम जारी होगा।

सर्वप्रथम होगी डाकमत पत्रों की गणना
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि डाक मतपत्रों की गणना सर्वप्रथम आरम्भ की जाएगी। इसके आधे घण्टे पश्चात ईवीएम से मतगणना आरम्भ होगी। डाकमत पत्रों की गणना तथा ईटीपीबीएस की स्केनिंग का कार्य साथ -साथ चलेगा। अन्तिम से पहले राउंड की ईवीएम की गणना डाकमत पत्रों की गिनती पूरी होने पर ही की जाएगी। डाकमत पत्रों का लिफाफा खोलकर घोषणा पत्र की संवीक्षा की जाएगी। सही पाए जाने पर ही छोटे लिफाफे को खोलकर मतगणना होगी। एक ही उम्मीदवार के कॉलम में एक से अधिक निशान होने पर भी मत वैध माना जाएगा। एक से अधिक उम्मीदवारों पर निशान अंकित होने तथा मतदाता की पहचान प्रकट होने की स्थिति में इसे अवैध मत माना जाएगा। प्रथम दो उम्मीदवारों के मध्य जीत का अंतर डाक मतपत्रों की संख्या से कम होने की स्थिति में समस्त डाकमत पत्रों की दुबारा गिनती व जांच रिटर्निंग ऑफिसर तथा पर्यवेक्षक की उपस्थिति में होगी। भले ही किसी उम्मीदवार ने आवेदन नहीं किया हो।
उन्होंने बताया कि ईवीएम के कंट्रोल यूनिट के मताें की गणना के लिए विधानसभावार राउंड निर्धारित किए गए है। समस्त टेबलों पर मतगणना पूर्ण होने के उपरान्त ही अगला राउंड किया जाएगा। प्रत्येक राउंड मे से दो ईवीएम की रैण्डमली जांच पर्यवेक्षक के द्वारा की जाएगी। उस राउंड के परिणाम की घोषणा एआरओ एवं पर्यवेक्षक के निर्धारित हस्ताक्षरों के बाद की जाएगी। ईवीएम मशीन के कंट्रोल यूनिट में दर्ज मतों की संख्याओं को अभिकर्ता को दिखाकर रिजल्ट शीट में नोट करना चाहिए। रिजल्टशीट में एजेण्ट के साइन करवाकर एआरओ को सौंपी जाएगी।
उन्होंने बताया कि जिन मतदान केन्द्रों के लिए आयोग द्वारा कंट्रोल यूनिट के स्थान पर वीवीपेट पर्चियों से मतगणना की अनुमति दी गई है। उन मतदान केन्द्रों की कंट्रोल यूनिट को ईवीएम मतगणना के सामान्य राउंड में टेबलों पर नहीं भेजा जाएगा। ऎेसे मतदान केन्द्रों के लिए पर्चियों से गणना सभी राउंड के समाप्त होने के बाद की जाएगी। कंट्रोल यूनिट में बैटरी कमजोर होने की स्थिति में इसे बदला भी जा सकेगा। कंट्रोल यूनिट में समस्या आने की स्थिति में भारत इलेक्ट्रोनिक्स के विशेषज्ञों द्वारा तुरन्त तकनीकी समाधान किया जाएगा। परिणाम को आवश्यकता होने पर रिजल्ट बटन दबाकर पुनः भी देखा जा सकेगा। किसी मतदान बूथ पर एक से अधिक कंट्रोल यूनिट काम आने पर सभी को एक साथ टेबल पर लाया जाएगा।

इस तरह होगी वीवीपेट की पर्चियों की गणना
जिला निर्वाचन अधिकारी ने बताया कि ईवीएम से मतगणना के बाद वीवीपेट की पर्चियों की गणना होगी। प्रत्येक विधानसभा के 5 मतदान केन्द्रों की वीवीपेट पर्चियों की गणना के लिए मतदान केन्द्रों का चयन रिटर्निंग ऑफिसर द्वारा पर्यवेक्षक एवं उम्मीदवार अथवा उसके निर्वाचन अभिकर्ता की उपस्थिति में लॉटरी से किया जाएगा। यह लॉटरी विधानसभा क्षेत्र के मतगणना कक्ष में ही अन्तिम राउंड के तुरन्त बाद निकाली जाएगी। लॉटरी के लिए विधानसभा क्षेत्र, विधानसभा क्षेत्र संख्या, विधानसभा क्षेत्र का नाम, मतदान की दिनांक तथा मतदान केन्द्र संख्या मुद्रित कार्ड का उपयोग किया जाएगा। पूर्व में पर्चियों की गणना कंट्रोल यूनिट खराब होने अथवा निर्वाचन आयोग की अनुमति से हो जाने वाले मतदान बूथों की संख्या को इसमें से हटा दिया जाएगा। शेष बचे कार्डों को फोर फोल्ड करके कंटेनर में डाला जाकर लॉटरी निकाली जाएगी।
उन्होंने बताया कि पर्चियों की गणना के परिणाम का कंट्रोल यूनिट के परिणाम से मिलान किया जाएगा। अंतर होने की स्थिति में कंट्रोल यूनिट के परिणाम अथवा पर्चियों के दो समान परिणाम आने तक पुर्नगणना की जाएगी। सम्पूर्ण गणना प्रक्रिया की वीडियोग्राफी होगी। पर्चियों की गणना के आधार पर परिणाम में संशोधन किया जाएगा। प्रिंटर में अटकी पर्ची तथा आधी कटी पर्ची को निर्वाचन आयोग के निर्देशानुसार गणना में शामिल नहीं किया जाएगा।
उन्होंने बताया कि पर्चियों को उम्मीदवारों, नोटा तथा टेस्ट स्लिप के अनुसार अलग-अलग किया जाकर 25-25 के बण्डल बनाए जाएंगे। गणना के पश्चात इन बण्डलों को ड्रॉप बॉक्स में रखकर सील किया जाएगा। इस पर अभिकर्ता अपनी सील भी लगा सकते है। समस्त ईवीएम, वीवीपेट यूनिट को कंट्रोल यूनिट के पावर पैक एवं वीवीपेट के पेपर रोल को निकाले बिना चुनाव याचिका की निर्धारित अवधि तक स्ट्रांग रूम में सील कर रखा जाएगा।

मतगणना स्थल पर मोबाइल, बीड़ी, सिगरेट, गुटखा इत्यादि पर पूर्ण प्रतिबंध
अजमेर, 22 मई। भारत निर्वाचन आयोग ने गुरूवार को राजकीय पोलिटेक्निक कॉलेज में होने वाली मतगणना के दौरान मतगणना स्थल पर मोबाइल, बीड़ी, सिगरेट, गुटखा इत्यादि पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा।
जिला निर्वाचन अधिकारी श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग से प्राप्त दिशा निर्देशों के अनुसार ऎसा कोई भी व्यक्ति जो सांसद, विधायक, मंत्री, नगरपालिका, परिषद, निगम का सभापति या अध्यक्ष या मेयर, जिला प्रमुख एवं पंचायत समिति प्रधान है, जिसे सुरक्षा कवच प्राप्त है, उन्हें मतगणना अभिकर्ता के रूप में नियुक्त नहीं किया जा सकता है। केवल अभ्यर्थी के रूप में ही ऎसे व्यक्ति को ही मतगणना केन्द्र में आने की अनुमति है किन्तु उनके साथ कोई सुरक्षाकर्मी मतगणना केन्द्र में नहीं आ सकेगा। ऎसी स्थिति में उस अभ्यर्थी को इस आशय का परिवचन भी दिया जाएगा कि उसने मतगणना केन्द्र में आने के लिए अपनी इच्छा से सुरक्षा कवच छोड़ा है।
उन्होंने बताया कि मतगणना स्थल पर मोबाइल, बीड़ी, सिगरेट, गुटखा इत्यादि पर पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। मतगणना अभिकर्ता जिस विधानसभा क्षेत्र में नियुक्त है वे उसी विधानसभा क्षेत्र में अपनी निर्धारित गणन टेबल पर ही बैठ सकेगें उन्हें अन्य गणन टेबल पर अथवा अन्य गण कक्षों में जाने की अनुमति नहीं होगी। सभी अभ्यर्थी, निर्वाचन अभिकर्ता, गणना अभिकर्ता को फोटोयुक्त प्रवेश पत्र लगाना आवश्यक होगा।

12 लाख 56 हजार 710 मतदाता करेंगे नए सांसद का निर्णय
संसदीय क्षेत्र में हुआ 67.10 प्रतिशत मतदान
अजमेर लोकसभा क्षेत्र के नए सांसद का निर्णय कल हो जाएगा। लोकसभा क्षेत्र के 12 लाख 56 हजार 710 मतदाता सांसद का निर्णय करेंगे। सोमवार 29 अप्रेल को आयोजित लोकसभा उपचुनाव के अन्तर्गत संसदीय क्षेत्र में 67.10 प्रतिशत मतदान हुआ था।

मतगणना स्थल पर सुरक्षा रहेगी चाक-चौबंद

लोकसभा चुनाव के मतों के गणना स्थल राजकीय पॉलीटेक्निक महाविद्यालय नसीराबाद रोड़ अजमेर में सुरक्षा की चाक चौबंद व्यवस्था की गई है।
जिला मजिस्टे्रट श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि प्रातः 8 बजे मतगणना आरम्भ होगी। मतगणना स्थल की आन्तरिक एवं बाह्य क्षेत्र में पुलिस उप अधीक्षक स्तर के अधिकारियों को तैनात किया गया है। इसके साथ ही प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र में भी पुलिस उप अधीक्षक मुस्तैद रहेंगे। पासधारकों को ही मतगणना स्थल पर प्रवेश की अनुमति रहेगी।

प्रवेश की व्यवस्था
पॉलीटेक्निक कॉलेज में प्रवेश द्वार संख्या एक से मतगणना में लगे गणना सुपरवाइजर, गणना सहायक, माइक्रो ऑब्जर्वर तथा अन्य व्यवस्थाओं में लगे अधिकारी व कर्मचारी प्रवेश करेंगे। द्वार संख्या 2 से प्रत्याशी एवं उनके द्वारा नियुक्त गणन व निर्वाचन अभिकर्ता प्रवेश करेंगे। मतगणना स्थल पर केवल पासधारी व्यक्तियों को ही प्रवेश दिया जाएगा। वाहनों की पार्किंग गेट नम्बर एक से होते हुए दायीं तरफ रखी गई है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!