लू और तापघात से बचने के लिए करें विशेष जतन

अजमेर, 10 जून। जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने जिले के निवासियों से गर्मी के मौसम में विशेष सावधानी रखने की अपील की है। उन्होंने कहा कि आमजन गर्मी में खानपान एवं अन्य सावधानियों का ध्यान रखें तो इससे होने वाली बीमारियों से बचा जा सकता है। लू और तापघात घातक साबित हो सकते है। प्रत्येक व्यक्ति इसके प्रति विशेष सावधानी बरते।
जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने अजमेर जिले के लोगों से कहा है कि वर्तमान में भीषण गर्मी पड़ रही है। आगामी दिनों में भी इसके कम होने के कोई आसार नहीं है। इसलिए आमजन विशेष सावधानी रखें। उन्होंने कहा कि आमजन किसी भी स्थिति में बगैर कुछ खाए घर से न निकलें। खुले शरीर बाहर न निकले, टोपी पहने, कानों को ढंककर रखे और आंखों पर धूप का चश्मा जरूर लगाएं। एयर कंडीशनर से निकलते ही एकदम धूप या गर्मी में न जाएं। ज्यादा से ज्यादा पानी पिएं। जिससे पसीना आकर शरीर का तापमान नियमित हो सके तथा शरीर में जल की कमी न हो।गर्मी में मौसमी फल, फलों का रस, दही, मठ्ठा, जीरा छाछ, जलजीरा, लस्सी, आम का पना आदि का सेवन करें। हल्का व शीघ्र पचने वाला भोजन करें। नरम, मुलायम, सूती कपड़े पहनें जिससे हवा और कपड़े शरीर के पसीने को सोखते रहे। इन सब के अलावा समय समय पर आवश्यकता के अनुसार ग्लुकोज का सेवन करते रहे और अपनी ऊर्जा का इस्तेमाल अनावश्यक न करें।
उन्होंने कहा कि गर्मियों के मौसम में शरीर में लवण एवं पानी अपर्याप्त होने पर विषम गर्म वातावरण में तापघात हो सकता है। सिर का भारीपन व सिरदर्द, अधिक प्यास लगना व शरीर में भारीपन के साथ थकावट, जी मिचलाना, सिर चकराना, शरीर का तापमान बढ़ना, पसीना आना बंद होना, मुंह का लाल हो जाना, त्वचा का सूखा होना, बेहाशी आना आदि तापघात के लक्षण है। समय पर समूचित उपचार नहीं मिले तो पीड़ित की मृत्यु भी हो सकती है। ऎसे में प्रत्येक व्यक्ति सावधानी बरते।
उन्होंने कहा कि लू तापघात से कुपोषित बच्चे, वृद्ध, गर्भवती महिलाएं एवं श्रमिक आदि शीघ्र प्रभावित हो सकते है। इन्हें प्रातः 10 बजे से शाम 6 बजे तक छायादार व ठण्डे स्थान पर रहने तथा अन्य उपाय करने का प्रयत्न करना चाहिए। अगर कोई व्यक्ति तापघात से प्रभावित है तो उसे तुरन्त छायादार स्थान पर लिटाएं। रोगी की त्वचा को गीले कपड़े से पोछते रहे तथा उसके कपड़ों को ढीला कर दें। अगर वह होश में है उसे तुरन्त ठण्डा पेय पदार्थ दें एवं नजदीकी चिकित्सा संस्थान में उपचार के लिए लेकर जाए।
जिला कलक्टर श्री शर्मा ने चिकित्सा विभाग को भी निर्देश दिए है कि अस्पतालों में लू एवं तापघात के रोगियाें के लिए बैड आरक्षित रखें जाएं। वार्ड का वातावरण कूलर व पंखें से ठण्डा रखें। मरीजों व उसके परिजनों के शुद्ध व ठण्डा पेयजल रखें तथा चिकित्सा एवं नर्सिंग स्टाफ दवाओं के साथ सतर्क रहे।

जिला स्तरीय जनसुनवाई 13 को
अजमेर, 10 जून। जिला प्रशासन द्वारा प्रत्येक माह के दूसरे गुरूवार को आयोजित होने वाली जिला स्तरीय जनसुनवाई 13 जून को प्रातः 10 बजे कलेक्ट्रेट स्थित राजीव गांधी सेवा केन्द्र पर जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा की अध्यक्षता में आयोजित की जाएगी। इसके पश्चात राजस्थान लोक सेवाओं के प्रदान की गारंटी अधिनियम 2011 तथा राजस्थान सुनवाई का अधिकार नियम 2012 के प्रभावी क्रियान्वयन की बैठक एवं प्रशिक्षण का आयोजन किया जाएगा।

प्रदेश में खसरा-रुबेला अभियान 22 जुलाई से
प्रदेश का कोई भी बच्चा टीकाकरण से नही बचे – मुख्य सचिव
अजमेर, 10 जून। खसरा और रूबेला एक गम्भीर बीमारी है जो पोलियो से भी बड़ी चुनौती है। इसे केवल टीकाकरण के माध्यम से ही रोका जा सकता है। प्रदेश में खसरा रूबेला अभियान 22 जुलाई से प्रारम्भ होगा। जो आगामी 5 अगस्त तक चलेगा।
मुख्य सचिव श्री डी बी गुप्ता ने प्रदेश में शुरु होने वाले खसरा -रुबेला अभियान के सफल क्रियान्वयन के लिए सोमवार को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समस्त जिला कलक्टरों तथा संबंधित अधिकारियों को दिशा- निर्देश दिये।
मुख्य सचिव ने कहा कि देश भर में इस बीमारी से लड़ने के लिए युद्ध स्तर पर टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है। प्रदेश में 22 जुलाई से यह अभियान चलाया जाएगा और इसके तहत लगभग 2 करोड़ 26 लाख बच्चों के टीकाकरण का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने कहा कि हमारा लक्ष्य होना चाहिये कि एक भी बच्चा टीकाकरण से नही बचे।
मुख्य सचिव ने प्रत्येक जिला कलक्टर को इस अभियान के लिए जिला तथा ब्लॉक स्तर पर टास्क फोर्स गठित कर बैठक करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि अभियान की सफलता के लिए अभियान से पहले ग्राम सभाओं तथा स्कूलों में इसका व्यापक प्रचार प्रसार किया जाए। श्री गुप्ता ने कहा कि निजी चिकित्सकों तथा नेहरू युवा केन्द्रों की भी सहायता ली जा सकती है।
मुख्य सचिव ने कहा कि सही तरीके से टीकाकरण किया जाना सबसे अधिक महत्त्वपूर्ण है। उन्होंने चिकित्सा विभाग, शिक्षा विभाग, महिला एवं बाल विकास विभाग, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग तथा जनजाति क्षेत्रीय विकास विभाग के अधिकारियों से आपसी समन्वय के साथ कार्य योजना तैयार कर काम करने के लिये कहा। उन्होंने कहा कि इस अभियान की सफलता प्रदेश के लिए एक चुनौती है और सभी के सहयोग से इसे सफल बनाया जा सकता है।
इस मौके पर एन एच एम मिशन के निदेशक डॉ. समित शर्मा ने बताया कि यह केन्द्र सरकार का एक महत्वपूर्ण अभियान है। देश भर में इससे अब तक लगभग 30 करोड़ बच्चे लाभान्वित हो चुके हैं। उन्होंने कहा प्रदेश में यह अभियान 22 जुलाई से शुरु होकर 6 सप्ताह तक चलेगा, जिसके तहत 9 माह से लेकर 15 वर्ष के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। श्री शर्मा ने कहा कि अभियान के विभिन्न चरणों में निजी और सरकारी स्कूलों तथा मदरसों में पढ़ने वाले बच्चों, कच्ची बस्ती में रहने वाले, स्कूल नही जाने वाले बच्चों तथा र्इंट भट्टों, घुमन्तु आबादी के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा।
वीडियो कॉफ्रेंस में स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख शासन सचिव आर. वेंकेटेश्वरन्, आयुक्त सूचना एवं जनसंपर्क विभाग श्री एनएल मीणा, श्रम एवं नियोजन विभाग सचिव श्री नवीन जैन, अतिरिक्त मिशन निदेशक एनएचएम श्री शंकर लाल कुमावत, नगरीय विकास विभाग के संयुक्त सचिव श्री एम एल योगी, अजमेर में जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा, मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. के.के.सोनी तथा संबंधित विभागों के अधिकारी उपस्थित थे।

जिला यातायात प्रबंधन समिति की बैठक 13 को
अजमेर, 10 जून। जिला यातायात प्रबंधन समिति की बैठक गुरूवार 13 जून को सांय 4 बजे जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा की अध्यक्षता में कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की जाएगी। प्रादेशिक परिवहन अधिकारी श्री अर्जुन सिंह राठौड़ ने यह जानकारी दी।

जिला अभिसरण योजना समिति की बैठक
विभाग आपसी समन्वय से पोषण अभियान क्रियान्वित करें – उपखण्ड अधिकारी
अजमेर 10 जनवरी। राष्ट्रीय पोषण मिशन (पोषण अभियान) के प्रशासनिक दिशा निर्देशों के अनुसरण में समेकित बाल विकास सेवाओं की गुणवत्ता में सुधार, प्रबोधन और पर्यवेक्षण तथा विभिन्न विभागों में समन्वयक एवं अभिसरण की दृष्टि से जिला अभिसरण योजना समिति की बैठक सोमवार को अतिरिक्त जिला कलक्टर द्वितीय श्री कैलाश चन्द्र लखारा की अध्यक्षता में कलक्ट्रेट सभागार में आयोजित की गई।
बैठक में उपखण्ड अधिकारी श्रीमती अर्तिका शुक्ला ने सभी विभागों को आपसी समन्वय से पोषण अभियान की सफल क्रियान्विति सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। इसके लिए कार्य योजना बनाकर कार्य संपादित किये जाये।
उपखण्ड अधिकारी ने कहा कि राष्ट्रीय पोषण अभियान के अन्तर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग, युवा मामलात, पंचायतीराज, ग्रामीण विकास, नगरीय, पेयजल, शिक्षा, सूचना, खेल एवं कृषि विभाग के माध्यम से विभिन्न कार्य करवाए जायेगें। इस संबंध में जिले में पोषण अभियान के माध्यम से सही पोषण की आदत विकसित की जानी चाहिए। उन्होंने बताया कि इस मिशन का लक्ष्य कुपोषण और जन्म के समय बच्चों का वजन कम होने संबंधी समस्याओं को प्रत्येक वर्ष दो प्रतिशत तक कम करना है। इस मिशन का उद्देश्य देश में एनिमिया से पीडित बच्चे, महिलाएं तथा किशोरी किशोर की संख्या में प्रतिवर्ष तीन प्रतिशत की कमी लाना है।
उन्होंने कहा कि ग्राम स्तरीय कर्मचारियों को इस अभियान में प्रभावी भूमिका अदा करनी होगी। इसके लिए महिला एवं बाल विकास विभाग प्रशिक्षण की व्यवस्था भी करें। ताकि कर्मचारी पूर्ण आत्म विश्वास के साथ अभियान में काम कर सकें। उन्होंने कहा कि बच्चों की ग्रोथ के संबंध में प्रभावी मोनिटरिंग एवं तत्संबंधी रिपोर्टस का संधारण भी किया जाये। जहां पेयजल की उपलब्धता नहीं है वहां पेयजल विभाग शुद्ध पेयजल उपलब्ध करावें। शिक्षा विभाग भी महिलाओं को एनिमिया से बचाव के लिए आयरन की गोलियां उपलब्ध करावें। प्रत्येक आंगनवाडी केन्द्र पर पर्याप्त मात्रा में दवाईयां एवं पोषण सामग्री उपलब्ध रहे, यह भी सुनिश्चित किया जायें।
इस मौके पर महिला एवं बाल विकास विभाग, शिक्षा, रसद, चिकित्सा, आयोजना सहित संबंधित विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

जिला स्तरीय औद्योगिक समिति की बैठक 13 को
अजमेर, 10 जून। जिला स्तरीय औद्योगिक समिति की बैठक गुरूवार 13 जून को दोपहर 12.30 बजे जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा की अध्यक्षता में जिला कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की जाएगी। जिला उद्योग केन्द्र के महाप्रबंधक ने यह जानकारी दी।

प्रदेश में भेड़ निष्क्रमण जुलाई से अक्टूबर माह में होगा
भेड़ निष्क्रमण के संबंध में समस्त व्यवस्थायें सुनिश्चित करें – मुख्य सचिव
अजमेर, 10 जून। मुख्य सचिव श्री डी.बी गुप्ता ने समस्त जिला कलक्टरों कोे निर्देशित किया कि वे आगामी जुलाई माह से होने वाले भेड़ निष्क्रमण के दौरान समस्त व्यवस्थाएं सुनिश्चित करें।
मुख्य सचिव श्री डी बी गुप्ता ने आगामी जुलाई माह से होने वाले भेड़ निष्क्रमण के लिए सोमवार को विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समस्त जिला कलक्टरों तथा संबंधित अधिकारियों को दिशा- निर्देश दिये।
उन्होंनेे कहा कि भेड़ निष्क्रमण के दौरान पशुपालकों एवं भेड़ों की सुरक्षा आवश्यक है। इस दौरान कानून व्यवस्था पूरी तरह मुस्तैद होनी चाहिए। भेड़ों का निष्क्रमण निर्धारित मार्ग से ही हो। उन्होंने बताया कि प्रदेशभर में 90 लाख से अधिक भेड़ों का निष्क्रमण होता है। इसके लिए 18 जिलो में 187 चैक पोस्टे स्थापित कर व्यवस्थाएं सुनिश्चित की जाती है।
उन्होंने कहा कि भेड़ पालकों को उचित मूल्य पर राशन सामग्री उपलब्ध रहे। इसके लिए पोस मशीन की व्यवस्था की जाए। पशुपालन विभाग द्वारा भेड़ों के लिए पर्याप्त मात्रा में दवाएं एवं टीकाकरण सामग्री उपलब्ध रहनी चाहिए। इस कार्य के लिए जिला स्तर पर भेड़ निष्क्रमण के संबंध में नियंत्रण कक्ष की स्थापना की जाए।
इस मौके पर जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने बताया कि जिले में भेड़ निष्क्रमण के लिए नियंत्रण कक्ष स्थापित कर दिया गया है। जिले में भेड़ निष्क्रमण के लिए सात मार्ग निर्धारित किये है। इन मार्गो पर पशु चिकित्सा की आठ स्थानों पर अस्थाई चैक पोस्ट स्थापित की गई है। चैक पोस्टों के लिए नोडल अधिकारी नियुक्त कर दिये गये है।
इस अवसर पर संभागीय आयुक्त श्री एल.एन. मीना, पुलिस महा निरीक्षक श्री संजीव नार्जरी, वन उप संरक्षक श्रीमती सुदीप कौर, पशुपालन विभाग के संयुक्त निदेशक श्री अजय अरोड़ा सहित रसद एवं वन विभाग के विभिन्न अधिकारी उपस्थित थे।

जिला स्तरीय आरसेटी की बैठक 19 को
अजमेर, 10 जून। बड़ौदा स्वरोजगार विकास संस्थान की जिला स्तरीय सलाहकार समिति की बैठक 19 जून को दोपहर 12 बजे जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा की अध्यक्षता में जिला कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित की जाएगी।

पूर्व सैनिकों का समस्या समाधान शिविर 12 को जवाजा में
अजमेर, 10 जून। समस्त पूर्व सैनिकों व वीरांगनाओं / वीर नारियों /आश्रितों की समस्याओं के समाधान के लिए 12 जून बुधवार को पेंशनर्स समाज सभागार पंचायत समिति जवाजा में आयोजित किया जाएगा। जिला सैनिक कल्याण अधिकारी श्री बनवारी लाल ने यह जानकारी दी।

Leave a Comment

error: Content is protected !!