विधानसभा में उठाया विश्वविद्यालय में 9 माह से कुलपति नहीं होने का मामला

प्रो. वासुदेव देवनानी
अजमेर, 8 जुलाई। राजस्थान विधान सभा में आज अजमेर के महर्षि दयानन्द सरस्वती विश्वविद्यालय में गत 9 माह से कुलपति नहीं होने का मामला उठाया गया। अजमेर उत्तर से विधायक वासुदेव देवनानी ने विधान सभा कार्य संचालन एवं प्रक्रिया के नियम 295 के अन्तर्गत यह मामला उठाते हुए कहा कि प्रोफेसर आर.पी.सिंह ने 6 अक्टूबर 2018 को विश्वविद्यालय में कुलपति पद पर कार्यग्रहण किया तथा 5 दिन बाद ही 11 अक्टूबर 2018 को माननीय उच्च न्यायालय जोधपुर द्वारा कुलपति पद से सम्बंधित कार्यों के सम्पादन हेतु प्रो. सिंह पर रोक लगा दी। तब से आज तक किसी अन्य कुलपति को यहां का अतिरिक्त प्रभार नहीं सौंपा गया हैै। कुलपति के नहीं होने से विश्वविद्यालय के विभिन्न शैक्षणिक व प्रशासनिक कार्य बाधित हो रहे है।
रजिस्ट्रार का पद भी गत 4 माह से रिक्त
देवनानी ने विधान सभा में कहा कि अजमेर के विश्वविद्यालय में रजिस्ट्रार का पद भी गत 4 माह से रिक्त चल रहा है। यहा कार्यरत आरएएस अनिता चैधरी का स्थानान्तरण अन्यत्र हो जाने से यह पद रिक्त चल रहा है। प्रदेश सरकार द्वारा गत दिनों आरएएस अधिकारियों की कई स्थानान्तरण सूचियां जारी की गई है, परन्तु किसी अधिकारी को विश्वविद्यालय में रजिस्ट्रार पद पर लगाना सरकार ने आवश्यक नहीं समझा जबकि यहां पर कुलपति भी नहीं है।
विद्यार्थी, शिक्षक, कर्मचारी, अभिभावक, महाविद्यालय संचालक सब परेशान
देवनानी ने विधानसभा में कुलपति के अभाव में विद्यार्थियों, शिक्षकों, कर्मचारियों, अभिभावकों व महाविद्यालय संचालकों को हो रही परेशानियों का हवाला देते हए कहा कि विश्वविद्यालय के कर्मचारियों को 7वें वेतनमान का लाभ व सेवानिवृत कर्मचारियों को पेंशन का लाभ नहीं मिल पा रहा है। उत्तीर्ण विद्यार्थियों को डिग्रियां व नये महाविद्यालयों को मान्यता व सम्बद्धता नहीं मिल पा रही है। इसके अतिरिक्त नए पाठ्यक्रम तो दूर की बात है नये सत्र हेतु सिलेबस का प्रकाशन तथा खेल व शैक्षणिक कैलेण्डर जारी नहीं हो पा रहे है। विश्वविद्यालय की आवश्यक व्यवस्थाओं व कार्यो हेतु एक लाख से अधिक राशि के कार्यो के टंेडर नहीं हो पा रहे है। विश्वविद्यालय में बड़ी संख्या में पद रिक्त होने के बावजूद पूर्व में विज्ञापित शिक्षक भर्ती नहीं हो पा रही है। रूसा (त्न्ै।) के तहत मिले 5 करोड़ की राशि लैप्स होने की सम्भावना है व नये सत्र में प्रवेश प्रक्रिया भी प्रभावित होने सहित कई कार्य बाधित हो रहे है।
देवनानी ने विधान सभा में सरकार से यह आग्रह किया कि म.द.स. विश्वविद्यालय अजमेर में रजिस्ट्रार पद पर आरएएस अधिकारी का पदस्थापन शीघ्र कराने के साथ ही जब तक यहां के कुलपति के कार्यो पर माननीय उच्च न्यायालाय की रोक है, तब तक के लिए किसी अन्य विश्वविद्यालय के कुलपति को यहां का अतिरिक्त प्रभार अतिशीघ्र दिलवाया जाए जिससे शैक्षणिक व प्रशासनिक कार्य सुचारू हो सके।
पूर्व में इस मामले में राज्यपाल से भी मिले थे देवनानी
विधायक अजमेर उत्तर वासुदेव देवनानी ने बताया कि इस मामले में गत 5 जून को उन्होंने राजस्थान के माननीय राज्यपाल महोदय श्री कल्याण सिंह जी से भी जयपुर स्थित राजभवन में मुलाकात की थी तथा विश्वविद्यालय में विभिन्न शैक्षणिक व प्रशासनिक कार्यो के सम्पादन में आ रही कठिनाईयों से राहत दिलाने के लिए किसी अन्य विश्वविद्यालय के कुलपति को यहां का अतिरिक्त प्रभार दिलाने का आग्रह किया था।

Leave a Comment

error: Content is protected !!