अन्तिम कतार में खड़े व्यक्ति को राहत देना सर्वोच्च प्राथमिकता

अजमेर, 10 अक्टूबर। जिला प्रभारी मंत्री तथा खान एवं गोपालन मंत्री श्री प्रमोद जैन भाया ने अधिकारियों को निर्देश दिए हैं कि वे जन समस्याओं को प्राथमिकता से निपटाएं तथा निचले स्तर के व्यक्तियों को राजकीय योजनाओं का लाभ पहुंचाने का पूरा प्रयास करें।

जिला प्रभारी मंत्री गुरूवार को अजमेर कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित जिला स्तरीय अधिकारियों की बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत की भावना के अनुरूप सरकार कतार में खड़े अन्तिम व्यक्ति को राहत देना चाहती है। उसी अनुरूप समस्त अधिकारी जिम्मेदारी के साथ अपनी अपनी विभागीय योजनाओं का लाभ आमजन तक पहुंचाए। उन्होंने कहा कि कई योजनाओ में समीक्षा के दौरान कम प्रगति पाई गई है। जिसमें अधिकारी विशेष ध्यान देकर गति लाए। जहां कहीं कठिनाई हो तो उसकी रिपोर्ट जिला कलक्टर को दें ताकि योजना में अच्छी प्रगति हो सके।

उन्होंने इस बार अच्छी वर्षा पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि इस बार बीसलपुर बांध लबालब है जिससे पानी की कोई कठिनाई नहीं आएगी। अधिक वर्षा के चलते उन्होंने मौसमी बीमारियों से भी निजात पाने के लिए विशेष प्रयास करने के निर्देश दिए। इसके लिए उन्होंने विशेष बैठक लेकर कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए ताकि सभी को समय पर उपचार एवं दवाईयां सुलभ हो सके। उन्होंने विद्युत विभाग से भी कहा कि वे विद्युत वितरण मैंटीनेंस का कार्य दीपावली से पूर्व पूर्ण कर लें ताकि सभी को अच्छी गुणवत्ता की निर्बाध बिजली मिल सके।

प्रभारी मंत्री ने कहा कि अच्छी वर्षा के कारण इस बार रबी की फसल भी अधिक क्षेत्र में होगी। इसके लिए किसानों को कोई कठिनाई ना हो इसके लिए पर्याप्त मात्रा में बीज एवं यूरिया की उपलब्घता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कृषि उपज की अधिक आवक की संभावना को देखते हुए सरकारी खरीद के लिए भी कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऋण माफी योजना में कोई तकनीकी खामी के कारण वंचित नहीं रहना चाहिए। इसके लिए समीक्षा कर वंचितों को लाभ दिलाया जाए। उन्होंने विद्यालयों में भी रिक्त पदो पर समायोजन करने के निर्देश दिए।

श्री भाया ने कहा कि पंचायत समिति स्तर पर आवारा पशुओं के लिए अच्छी संस्थाओं को तैयार किया जाए। इसके लिए गौशाला के लिए यदि जमीन आवंटन की जरूरत हो तो उस पर भी विचार किया जाए ताकि आवारा पशुओं की समस्या से निजात मिल सके। उन्होंने नगर निगम / पालिका क्षेत्र में भी आवारा पशुओं पर ध्यान देने के निर्देश दिए।

बैठक में जिला प्रभारी सचिव श्री हेमन्त कुमार गेरा ने कहा कि विकास कार्यों के राशि उपयोगिता प्रमाण पत्र शीघ्र भिजवाए जाए। अधूरे पड़े कार्य को शीघ्र पूर्ण किया जाए। राजकीय चिकित्सलयों में भामाशाह स्वास्थ बीमा की प्रभावी क्रियान्विति हो तथा राजस्थान सम्पर्क पर एक वर्ष से अधिक के प्रकरणों को तत्काल निस्तारित किया जाए। उन्होंने विद्युत अभियंताओं को आईपीडीएस योजना में अपूर्ण कार्यों को शीघ्र पूरा करने के भी निर्देश दिए। विकास कार्यों की समीक्षा के दौरान उन्होंने कहा कि कोई भी कार्य का टेण्डर किए जाने से पूर्व भूमि की उपलब्घता सुनिश्चित कर ली जाए। बिना भूमि के कार्य के टेण्डर किया जाना गम्भीर है। उन्होंने किशनगढ़ पेयजल योजना का प्रभावी पर्यवेक्षण करने ेलिए अधीक्षण अभियंता को निर्देश दिए।

उन्होंने कहा कि सड़कों पर खुदाई कार्य की अनुमति जिला कलक्टर की अध्यक्षता में गठित कमेटी से प्राप्त होने पर ही की जाए। वर्षा में टूटी सड़कों के पैचवर्क प्राथमिकता से किए जाए। उनकी प्रभावी मॉनिटरिंग हो। उन्होंने कहा कि बजट अभाव में यदि कोई कार्य बंद है तो उसके लिए विभागीय स्तर पर प्रयास करें । उन्होंने अजमेर विकास प्राधिकरण को नियमन की बकाया चल रही प्रत्रावलियों को शीघ्र निपटाने, वाटर शैड विभाग को बीज के मिनि कीट वितरण करने तथा सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग को पालनहार (अनुसूचित जाति) में गत वर्ष के मुकाबले कम उपलब्धि की समीक्षा कर जिला कलक्टर को रिपोर्ट भेजने के निर्देश दिए।

बैठक में जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने जिला प्रभारी मंत्री एवं प्रभारी सचिव को आश्वस्त किया कि उनके दिए निर्देशो की पूर्ण पालना होगी। उन्होंने बताया कि जिले में नरेगा योजना में जिला प्रथम रैंक पर आता रहा है। योजना में ग्रुप सिस्टम फोलो करने के लिए जेटीओ को जिम्मेदारी दी गई है ताकि श्रमिक को अधिकतम मजदूरी मिल सके। उन्होंने पुष्कर मेले में पर्याप्त बजट उपलब्ध कराने का भी अनुरोध किया।

इस मौके पर स्लाईड प्रदर्शन द्वारा चिकित्सा, विद्युत, जलदाय, सिंचाई, सार्वजनिक निर्माण विभाग, आरएसआरडीसी, आयुर्वेद, राष्ट्रीय राजमार्ग, वाटर शैड, जिला परिषद, अजमेर विकास प्राधिकरण, नगर निगम, स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट, शिक्षा, उद्यान, कृषि, पशुपालन, सहकारिता, रसद, वन, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता तथा आरएसएलडीसी की विभिन्न योजनाओं में हुई प्रगति की समीक्षा की।

बैठक में किशनगढ़ के विधायक श्री सुरेश टांक, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री कैलाश चंद शर्मा एवं श्री कैलाश चंद लखारा, उप वन संरक्षक श्रीमती सुदीप कौर, एडीए के आयुक्त श्री गौरव अग्रवाल, नगर निगम की आयुक्त चिन्मयी गोपाल, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री गजेन्द्र सिंह राठौड़, अध्यक्ष विजय जैन एवं समस्त जिला स्तरीय अधिकारीगण उपस्थित थे।

जिला जन अभियोग एवं सतर्कता समिति की बैठक सम्पन्न

अजमेर, 10 अक्टूबर। जिला जन अभियोग एवं सतर्कता समिति की बैठक गुरूवार को कलेक्ट्रेट स्थित राजीव गांधी सभागार में सम्पन्न हुई। बैठक में जिला प्रभारी सचिव श्री हेमन्त कुमार गेरा भी उपस्थित थे।

बैठक में जिला कलक्टर श्री विश्व मोहन शर्मा ने 19 प्रकरणों पर विस्तार से विचार विमर्श कर आवश्यक निर्णय लिए तथा अधिकारियों को आवश्यक दिशा निर्देश दिए। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे सतर्कता समिति में दर्ज प्रकरणाें का प्राथमिकता के साथ निस्तारण करें ताकि आमजन को समस्या से निजात मिल सके।

बैठक में गांव नूरियावास में विद्यालय आवंटन व चारागाह और नदी में फसल बुवाई के संबंध में रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए उपखण्ड अधिकारी पीसांगन, जिला शिक्षा अधिकारी एवं सीबीईओ को निर्देशित किया। वहीं ग्राम बिसूंदनी तहसील व थाना सांवर में कुल 38 ऎयर के संबंध में उपखण्ड अधिकारी केकड़ी को रिपोर्ट प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। अधिकांश मामलों में अतिक्रमण हटाने के संबंध में संबंधित उपखण्ड अधिकारी एवं तहसीलदार को निर्देशित किया गया। ग्राम पंचायत तिलोनिया में वर्ष 2014 में अनुसूचित जाति व गरीब भूमिहीन परिवारों के लिए आवंटित चारागाह भूमि पर अतिक्रमण के संबंध में जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी को टीम भेजकर मौका जांच करने के निर्देश दिए गए।

इस मौके पर मसूदा के विधायक श्री राकेश पारीक, किशनगढ़ के विधायक श्री सुरेश टांक, मसूदा के प्रधान श्री नारायण सिंह, जिला पुलिस अधीक्षक कु. राष्ट्रदीप, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री कैलाश चंद शर्मा एवं श्री कैलाश चंद लखारा, एडीए के सचिव श्री किशोर कुमार सहित समस्त विभागों के अधिकारीगण उपस्थित थे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!