फारूक अब्दुल्ला के चीन प्रेम पर भाजपा ने जमकर विरोध जताया

भाजपा शहर जिलाध्यक्ष प्रियशील हाड़ा ने कहा कि नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां) अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला ने अपने इंटरव्यू में चीन की विस्तारवादी मानसिकता को न्यायोचित ठहराया है जिस पर पलटवार करते हुए हाड़ा ने कहा कि फारूक अब्दुल्ला कहते हैं कि यदि चीन का हमला हुआ तो इसकी एक ही वजह होगी कि अनुच्छेद 370 को हिन्दुस्तान ने हटाया।
फारूक अब्दुल्ला का यह कहना कि अच्छा होगा यदि हम चीन के साथ मिल जाएं। फारूक अब चीन की विस्तारवादी मानसिकता को न्यायोचित ठहरा रहे हैं। क्या ये देश विरोधी बातें नहीं हैं? देश की संप्रभुता पर सवाल उठाना, देश की स्वतंत्रता पर प्रश्नचिह्न लगाना क्या एक सांसद को शोभा देता है? फारूक अब्दुल्ला का यह बयान देश कतई स्वीकार नहीं करेगा। यह न केवल चिंतनीय है, बल्कि बेहद दुखद है।

हाड़ा ने कहा कि सही मायने में कहा जाए तो यह देश विरोधी बयान है. यह कोई पहली बार नहीं है. कई बार इस प्रकार के उन्होंने बयान दिए हैं. जिनको सुनकर आप दंग रह जाएंगे.’’

हाड़ा ने कहा कि इन्हीं फारूक अब्दुल्ला ने भारत के लिए कहा था कि च्वज्ञ क्या तुम्हारे बाप का है, जो तुम च्वज्ञ ले लोगे, क्या पाकिस्तान ने चूड़ियां पहनी है आज फारूक अब्दुल्ला चीन में हीरो बने हैं। असल में पाकिस्तान व चीन को लेकर जिस प्रकार की नरमी और भारत को लेकर जिस प्रकार की बेशर्मी इनके मन में है यह ढेर सारे सवाल खड़े करती है।

भाजपा ने फारूक अब्दुल्ला के पूर्व के एक और बयान का उल्लेख किया। उन्होंने कहा कि 24 सितंबर को फारूक अब्दुल्ला ने कहा था कि आप यदि जम्मू-कश्मीर में जाकर लोगों से पूछेंगे कि क्या वह भारतीय हैं, तो लोग कहेंगे कि नहीं हम भारतीय नहीं हैं। अब वहीं फारूक अब्दुल्ला देशद्रोही बयान देते हैं कि भविष्य में हमें यदि मौका मिला तो हम चीन के साथ मिलकर अनुच्छेद 370 को वापस लाएंगे। जबकि अपने देश, प्रधानमंत्री और आर्मी के विरोध में बयानबाजी करते हैं। यह कहां तक सही है।

अनीश मोयल
मीडिया प्रभारी
भाजपा शहर जिला अजमेर

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!