पुष्कर पुलिस को इस बार भी होली महोत्सव पर करनी होगी विशेष सुरक्षा व्यवस्था

*बीते साल हजारो बाहरी युवकों के आ जाने के चलते नाकाम साबित हो गई थी सुरक्षा , कई जगह विदेशी युवतियों के साथ हुई थी अश्लील हरकतें •••*

राकेश भट्ट
शनिवार की रात से पुष्कर में एक बार फिर धूमधाम से होली महोत्सव की विधिवत शुरुआत हो चुकी है । ढोल की थाप पर युवाओ ने डांडिया खेलकर 2018 की होली का आगाज कर दिया है । इस होली के रंग में सराबोर होने के लिए देश और दुनिया से भारी संख्या में देशी विदेशी सैलानियों के पुष्कर आने का सिलसिला भी शुरू हो गया है । वही ऐहतियात के तौर पर पुष्कर पुलिस ने भी शांति समिति की बैठक लेकर आने वाले पर्यटकों को सुरक्षा देने की तैयारियां शुरू कर दी है ।

जिस तरह से साल दर साल पुष्कर की होली दुनियाभर में प्रसिद्ध हो रही है और यहां आने वाले पर्यटकों की तादात तेज रफ्तार से बढ़ रही है उसे देखते हुए ना सिर्फ पुष्कर पुलिस और यहां के प्रशासनिक अधिकारियों की जिम्मेदारी बढ़ती जा रही है बल्कि पुष्कर के हर एक नागरिक की भी जवाबदेही बढ़ रही है । अब पुष्कर के नागरिकों सहित होली महोत्सव के आयोजकों पर अपने काम धंधे के साथ साथ आने वाले पर्यटकों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने की भी जिम्मेदारी है ताकि होली की मस्ती के नाम पर यहां आने वाले मनचले युवक पर्यटकों के साथ कोई ऐसी घटना को अंजाम ना दे सके जिसके चलते पुष्कर की गरिमा धूमिल हो ।

यह बात में इसलिए भी कह रहा हूँ क्यों कि बीते साल पुलिस के जवानों की मौजूदगी के बावजूद अजमेर सहित आसपास के इलाको से आये हजारो युवाओ की भीड़ ने 4 , 5 घंटो तक पुष्कर के बाजार में जमकर हुड़दंग मचाया । उन्होंने ना सिर्फ पर्यटकों को जमकर परेशान किया बल्कि विदेशी युवतीयो को देखते ही पागल भेड़िये की तरह रंग लगाने की होड़ में लगे रहे । वराह घाट चौक से लेकर रामधाम तिराहे तक और स्टेट बैंक से लेकर हैलोज़ रोड तक हर जगह केवल बाहरी युवकों का ही आतंक नजर आ रहा था और ताज्जुब की बात है इस पूरे इलाके में मुझे सिवाय कुछ स्थानीय युवकों के अलावा एक भी पुलिस कर्मी नजर नही आया जो उन्हें काबू में कर सके ।

बीते साल भी पर्यटकों को सुरक्षा की देने के लिए आयोजन समिति के साथ साथ सैकड़ों स्थानीय युवकों ने कमान संभाल रखी थी । लेकिन वे भी नाकाफी साबित हो रहे थे इसलिए जरूरत है इस साल और भी ज्यादा सतर्क और मुस्तैद रहने की । पुलिस प्रशासन को भी भीड़ के बढ़ते दबाव को देखते हुए इस साल और ज्यादा जवानों का जाप्ता लगाने की जरूरत है ताकि किसी भी अप्रिय घटना से बचा जा सके । साथ ही हर होटल और गेस्ट हाऊस की भी सघनता से जांच करनी चाहिए ताकि संदिग्धों की धरपकड़ की जा सके ।

एक बात और पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को पूर्व की भांति इस साल भी पुष्कर में प्रवेश करने वाले सभी रास्तो पर कड़ी नाकाबंदी करनी होगी ताकि कोई असामाजिक तत्व यहां प्रवेश ना कर पाए । यदि विदेशियों की सुरक्षा में जरा सी भी चूक हुई और गलती से भी किसी के साथ कोई अश्लील छेड़छाड़ की घटना घटी तो पुष्कर का नाम बदनाम होने में देर नही लगेगी । इसलिए होली का त्यौहार जरूर मनाये परंतु इसके साथ साथ एक जागरूक नागरिक होने का परिचय देते हुए बाहरी तत्वों पर नजर भी रखे और जरूरत लगने या शक होने पर तुरंत पुलिस के आला अधिकारियों को भी इसकी सूचना दें ताकि किसी भी अप्रिय घटना को रोक जा सके ।

*राकेश भट्ट*
*प्रधान संपादक*
*पॉवर ऑफ नेशन*
*मो 9828171060•••*

Leave a Comment