पुष्कर पालिका अध्यक्ष पद का चुनाव सीधे लडऩे वालों के मनसूबों पर फिरा पानी

राजस्थान में स्थानीय निकाय चुनाव में नगरपालिकाओं, निगमों के प्रमुखों का चुनाव अप्रत्यक्ष प्रणाली से ही करवाए जाने के निर्णय के साथ पुष्कर नगर पालिका में सीधे चुनाव के जरिए पालिका अध्यक्ष बनने के सपने देख रहे दावेदारों के मनसूबों पर पानी फिर गया है।
असल में सरकार ने पहले ये घोषणा की थी कि निकाय प्रमुख का चुनाव प्रत्यक्ष मतदान प्रणाली से होगा। हालांकि पुष्कर नगर पालिका के अध्यक्ष पद के लिए लॉटरी नहीं निकलने के कारण ये भी पता नहीं था कि अध्यक्ष किस कैटेगिरी का होगा, बावजूद इसके संभावनाओं के इस दंगल में शिरकत करने के लिए तकरीबन सात दावेदारों ने तो खुल्लम खुल्ला दावेदारी जताने का मानस बना लिया, वहीं तकरीबन नौ ने सपने संजो रखे थे कि लॉटरी निकलेगी, उसी के अनुरूप निर्णय लेंगे। दिलचस्प बात ये है कि कई नेताओं ने तो गुट बना कर हर विकल्प खुला छोड़ रखा था। जैसे ही लॉटरी खुलती, वे अपना पत्ता खोलते।
ज्ञातव्य है कि यदि लॉटरी सामान्य पुरुष के लिए निकलने की स्थिति में सबसे पहले व प्रबल दावेदार स्वाभाविक रूप से मौजूदा अध्यक्ष कमल पाठक होते। मगर वे अपना मन नहीं बना पा रहे थे। उसकी वजह कदाचित ये रही होगी कि पिछली बार तो पार्टी हाईकमान की सरपरस्ती में पार्षदों के बहुमत के आधार पर अध्यक्ष बन गए, लेकिन सीधे चुनाव में जीत का गणित क्या होगा, उसको ले कर संशय था। खैर, अब ये देखना होगा कि अध्यक्ष पद सामान्य पुरुष के लिए आरक्षित होता है तो उस स्थिति में वे दुबारा अध्यक्ष बनने के लिए पार्षद पद के लिए दावेदारी करते हैं या नहीं।
अध्यक्ष पद के प्रबल दावेदार भी वार्ड का चुनाव लडऩे का मानस तभी बनाएंगे, जबकि अध्यक्ष पद सामान्य पुरुष के लिए आरक्षित होगा। इसी प्रकार अरुण वैष्णव अध्यक्ष बनने को बेहद आतुर हैं, इस कारण वे भी किसी न किसी वार्ड से तैयारी करेंगे। वार्ड नंबर 2 की पार्षद रही मंजू डोलिया यूं तो नवनिर्मित वार्ड 17 या 15 से पार्षद का चुनाव लडऩे का मन बना चुकी हैं। बाबूलाल दगदी व जयनारायण को भी अपने लिए वार्ड तलाशने होंगे।
नेता प्रतिपक्ष के रूप में भी अपनी उपस्थिति दर्ज करवा चुके शिवस्वरूप महर्षि 5-6 पार्षदों का जाल बिछा कर अपनी दावेदारी सुनिश्चित कर चुके थे। बदली परिस्थिति में दुबारा वार्ड चुनाव लडऩे की तैयारी करेंगे।
सीधे चुनाव में अध्यक्ष पद की दौड़ में शामिल पुष्कर नारायण भाटी व वार्ड नंबर 15 के पार्षद कमल रामावत भी सारा ध्यान वार्ड चुनाव पर देंगे। इसी सिलसिले में रामजतन चौधरी, जगदीश कुर्डिया, गोपाल तिलोनिया, राजेंद्र महावर आदि भी लॉटरी निकलने का इंतजार कर रहे हैं, तभी आगे की रणनीति बनाएंगे।

Leave a Comment

error: Content is protected !!