विवेकानंद जी और उनके गुरु रामक्रष्णजी के मध्य जिंदगी के के बारे में रोचक सवाल जबाव

डा. जे. के. गर्ग

dr. j k garg
यहाँ प्रश्न कर्ता विवेकानंद जी उत्तर देने वाले रामकृष्ण परमहंसदेव है |
प्रश्न—–जीवन की जटिलता के बीच उत्साह को केसे बनाया रक्खा जा सकता है ?
उत्तर—-जीवन में उसे गिनों जो तुमने पाया है,उसे मत गिनों जिसे तुम हासिल नहीं कर पाते हो | तुम्हें कहाँ पहुँचना कि बजाय की तुम कहाँ पहुंच गये हो |
प्रश्न—–मुझे कई बार लगता है कि मै बेकार में ही प्राथनाएं कर रहा हूँ ? प्रार्थना करने का कोई अर्थ नहीं है |
उत्तर—– तुम शायद डर गये हो, इससे बचो | जीवन कोई समस्या नहीं है, जिसे तुम्हें सुलझाना है | मुझे लगता है कि तुम यह जान जाओ कि जीना कैसे है, तो जीवन बेहद आश्चर्यजनक और सुंदर है
प्रश्न —— आदमी के हमेशा दुखी रहने का क्या कारण है ?
उत्तर—– जीवन की जटिलता से परेशान होना लोगों की आदत बन गई है,यही प्रमुख वजह है लोग खुश नहीं रह पाते हैं |
प्रश्न—– मनुष्य दुखी क्यों रहते हैं ?
उत्तर जिसे तुम दुःख कह रहे हो दरअसल वह एक परीक्षा है,परीक्षा से प्राप्त अनुभव से उनका जीवन बेहतर होता है, बेकार नहीं | रगड़े जाने पर ही हीरे में चमक आती है | आग में तपने के बाद ही सोना शुद्ध होता है |
प्रश्न—- आपका मतलब है कि दुःख अनुभव प्राप्त करने के लिये उपयोगी होता है |
उत्तर — तुम बिलकुल सही समझ रहे हो अनुभव एक कठोर शिक्षक की तरह है | पहले वह परीक्षा लेता है और फिर सीख देता है |

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!