मानव तेरी अद्भुत माया

नटवर विद्यार्थी
वायुमण्डल आज विषैला ,
नदियों का पानी मटमैला ।
धरती पेड़-लताओं के बिन ,
चहुँ ओर है मरुस्थल फैला ।

धरती माँ को ख़ूब रुलाया ।
मानव तेरी अद्भुत माया ।।

सागर को तुमने झंझोड़ा ,
पर्वतमाला को नहीं छोड़ा ।
जंगल में भी महल बनाए ,
पशु-पक्षी सारे घबराए ।

सबको तुमने बहुत सताया ।
मानव तेरी अद्भुत माया ।।

खेतों में विष को फैलाया ,
फैलाकर खाद्यान्न उगाया ।
जितनी पैदावार बढ़ाई ,
उतनी ही बीमारी आई ।

बीमारी का ग्राफ़ बढ़ाया ।
मानव तेरी अद्भुत माया ।।

तुमने अंतरिक्ष को चूमा ,
चाँद और ग्रहों पर घूमा ।
नित कुछ करने की तैयारी ,
मुट्ठी में नभ-धरती सारी ।

जिसको चाहा उसे दबाया ।
मानव तेरी अद्भुत माया ।।

अनगिन मौतों के संवाहक ,
परमाणु युद्धों के नायक ।
तुमने बहुत तरक़्क़ी की है ,
दुःख की बहु सौगातें दी है ।

जीने को अभिशाप बनाया ।
मानव तेरी अद्भुत माया ।।
– कवि नटवर पारीक, डीडवाना

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!