जाह्नबी फूकन फिक्की एफएलओ की राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त

नयी दिल्ली, मई, 2020ः सुश्री जाह्नबी फूकन को फिक्की लेडीज़ ऑर्गनाइजेशन (एफएलओ) का राष्ट्रीय अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। फिक्की एफएलओ महिलाओं के नेतृत्व और उन पर केंद्रित दक्षिणपूर्व एशिया का बिजनेस चैंबर है और शीर्ष चैंबर फेडरेशन ऑफ इंडियन चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) की महिला शाखा है। फूकन ने 36वें एफएलओ वार्षिक सत्र-राइजिंग एबव कोविड चैलेंजेस में माननीय लोकसभा स्पीकर श्री ओम बिड़ला की उपस्थिति में निवर्तमान राष्ट्रीय अध्यक्ष सुश्री हरजिंदर कौर तलवार से कार्यभार ग्रहण किया। फिक्की एफएलओ देशभर में 17 चैप्टर्स से 8,000 से अधिक महिला उद्यमियों और पेशेवरों का प्रतिनिधित्व करता है और महिलाओं के लिए आर्थिक सशक्तिकरण एवं समान अवसरों को बढ़ावा देने की दिशा में आक्रामक ढंग से काम करता है।
सुश्री जाह्नबी फूकन फिक्की एफएलओ की 37वीं राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं। राष्ट्रीय अध्यक्ष के तौर पर वह उद्यमशीलता क्षमताओं और पेशेवर उत्कृष्टता के साथ महिलाओं को सशक्त बनाने पर ध्यान केंद्रित करेंगी जिससे ये महिलाएं कोविड के उपरांत नए वातावरण में नयी चुनौतियों का सामना कर सकें और अवसरों का लाभ उठा सकें।
अपनी नयी भूमिका के बारे में सुश्री जाह्नबी फूकन ने कहा, मुझे जो जिम्मेदारी सौंपी गई है, उसको लेकर मैं सम्मानित महसूस कर रही हूं और आभार प्रकट करती हूं। फिक्की एफएलओ में हम विभिन्न स्तरों पर महिलाओं को आर्थिक रूप से सशक्त करने की दिशा में काम करते हैं, लेकिन आगे चलकर और मौजूदा समय के मुताबिक हमारा लक्ष्य महिलाओं के लिए टिकाऊ आजीविका के निर्माण पर ध्यान केंद्रित करना होगा जिससे आगे और सशक्त हो सकें। हम देशभर में महिलाओं के बीच उद्यमशीलता और पेशेवर उत्कृष्टता को प्रोत्साहित कर हमारे लक्ष्य की दिशा में बढ़ेंगे और मैं इस यात्रा को लेकर उत्साहित हूं।
महिला सशक्तिकरण को लेकर जुनूनी जाह्नबी महिलाओं के आर्थिक उत्थान के लिए टिकाऊ आजीविका के निर्माण की दिशा में अथक प्रयास किए जाने की जबरदस्त वकालत करती हैं।
जाह्नबी एक उद्यमी हैं और नेशनल टूरिज्म अवार्ड विजेता दो कंपनियों-जंगल ट्रैवेल्स इंडिया और जेटीआई ग्रुप के तहत असम बंगाल नेविगेशन कंपनी की सह-संस्थापक हैं। उनकी कंपनियां यात्रा एवं आतिथ्य के क्षेत्र में अग्रणी हैं जिसमें बुटीक रीवर क्रूजिंग, छोटे समूह के विशेष टूर, टी एवं टेक्सटाइल्स शामिल हैं। इन सभी से युवा लोगों खासकर महिलाओं और उनके समुदायों का सशक्तिरण होता है।
जंगल ट्रैवेल्स इंडिया (जेटीआई ग्रुप) की स्थापना 1989 में की गई जिसका लक्ष्य पर्यटकों और प्रकृति प्रेमियों को पूर्वाेत्तर के अनछुए जंगलों, वन्यजीव, घने जंगलों और जलाशयों की ओर आकर्षित करना था। जेटीआई ग्रुप पूरे पूर्वोत्तर के लिए आईएटीए का पहला प्रतिनिधि था और आज भी यह इस क्षेत्र में सबसे अनुभवी आउटबाउंड एवं इनबाउंड टूर ऑपरेटर बना हुआ है। असम बंगाल नेविगेशन कंपनी (एबीएन) की स्थापना 2003 में की गई। यह भारत में लंबी दूरी की अग्रणी रीवर क्रूज कंपनी है जिसके पोर्टफोलियो में ब्रह्मपुत्र एवं गंगा नदियों में बुटीक रीवर क्रूज शिप, हाउसबोट और सफारी लॉज शामिल हैं। उल्लेखनीय है कि इनके पोर्टफोलियो में बुक किए गए प्रत्येक रूम का 5 प्रतिशत एबीएन फाउंडेशन को अंशदान किया जाता है जो शिक्षा, पर्यावरण एवं सामुदायिक विकास में परियोजनाओं को सहयोग प्रदान करता है।
जाह्नबी ने महिला सशक्तिकरण, समानता, सामाजिक न्याय और कौशल विकास के लिये काम किया है जिससे महिलाओं में अधिक विश्वास पैदा कर उन्हें रोजगार परक और स्वतंत्र बनाया जा सके। उन्होंने असम की महिला बुनकरों की भलाई के लिए काम किया है और 2014 से अपनी खुद की सिग्नेचर लाइन ट्राइबल हेरिटेज और लाहे लूम्स चलाती हैं। जाह्नबी ने पूर्वोत्तर भारत के कारीगरों और बुनकरों के लिए 2008 में नगालैंड से अपने साझीदार के साथ ष्कोनयाकष् प्लेटफॉर्म शुरू किया जिसमें इस क्षेत्र से हैंडलूम, हस्तशिल्प और कलाकृतियों का संग्रह पेश किया। यह प्लेटफॉर्म कारीगरों और बुनकरों को सीखने, नवीनतम डिजाइन और तकनीकियों के साथ तालमेल रखने में मदद के लिए टेक्सटाइल्स और टूरिज्म को प्रभावी ढंग से जोड़ता है जिससे कारीगरों और बुनकरों के लिए आय का नियमित स्रोत बना रहे।
जाह्नबी कलकत्ता युनिवर्सिटी से स्नातक हैं और उन्होंने भारतीय जनसंचार संस्थान (आईआईएमसी) दिल्ली से पीजी डिप्लोमा किया है। वह अमेरिका की इंडियाना युनिवर्सिटी की भी विद्यार्थी रही हैं। अमेरिकी सरकार के एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत वह 2011 से असम के लिए यूएस सिटीजन्स वार्डेन रही हैं। उन्हें ईको टूरिज्म और महिला सशक्तिकरण में उत्कृष्ट कार्य और योगदान के लिए वर्ष 2018 में असम डाउनटाउन युनिवर्सिटी द्वारा डी.लिट की मानद उपाधि से सम्मानित किया गया। सुश्री फूकन 2012 से उद्यमशीलता एवं कौशल विकास मंत्रालय के तहत आने वाले नेशनल बोर्ड ऑफ इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आंत्रप्रिन्योरशिप (आईआईई) की भी सदस्य हैं।
सुश्री फूकन वर्ष 2007 में एफएलओ नॉर्थईस्ट चैप्टर की संस्थापक सदस्य और संस्थापक वाइस चेयरपर्सन थीं। अपने कार्यकाल के दौरान उन्होंने आइकॉनिक वुमेन ऑफ नॉर्थईस्ट अवार्ड्स की अवधारणा पेश की जिसमें पूर्वोत्तर में विभिन्न क्षेत्र की उन 5 महिलाओं को सम्मानित किया जाता है जिन्होंने अपने सपने पूरे करने के लिए कठिनाइयों को शिकस्त दी है। जाह्नबी को दिसंबर, 2013 में एफएलओ आउटस्टैंडिंग वुमेन अचीवर्स अवार्ड से सम्मानित किया गया।

Leave a Comment

error: Content is protected !!