भारत में रहमान, उठ सकती है हाफिज सईद को सौंपने की मांग

पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक के दौरे से पहले भारत ने संकेत दिए हैं कि वह मुंबई आतंकी हमले [26/11] की जांच को आगे बढ़ाने के लिए पाकिस्तान के न्यायिक आयोग को गवाहों से पूछताछ की इजाजत दे सकता है। यहीं नहीं इसके साथ ही रहमान और भारतीय गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे के बीच होने वाली वार्ता के एजेंडे में मुंबई हमले की जांच, हाफीज सईद को भारत सौंपने की बात और भारत-पाक के बीच हुए वीजा समझौते पर हस्ताक्षर भी शामिल है।

गौरतलब है कि पाक के आंतरिक सुरक्षा मंत्री रहमान मलिक दो दिन के दौरे पर शुक्रवार दोपहर भारत पहुंच रहे हैं। रहमान मलिक आज गृह मंत्री सुशील कुमार शिंदे से मुलाकात करेंगे। इस मुलाकात में दोनों भारत-पाक के बीच गहराये कई तरह के मुद्दों पर चर्चा करेंगे।

माना जा रहा है कि 26/11 की जांच रिश्तों में गतिरोध का सबब न बने इसके लिए ही भारत पाकिस्तानी न्यायिक आयोग को दूसरी बार दौरा कर गवाहों से पूछताछ की इजाजत देगा। साथ ही पाक से दोषियों के खिलाफ कार्यवाही प्रक्रिया तेज करने के लिए भी कहेगा।

भारतीय खेमा अजमल कसाब का बयान दर्ज करने वाले मजिस्ट्रेट, 26/11 के जांच अधिकारियों और पोस्टमार्टम करने वाले दो डॉक्टरों से पूछताछ की इजाजत के लिए तो राजी है। लेकिन, उसकी आशंकाएं इस बात को लेकर हैं कि अगर पाकिस्तानी अदालत ने सभी 500 गवाहों और 50 डॉक्टरों से पूछताछ की मांग कर दी तो स्थिति पेचीदा हो सकती है। महत्वपूर्ण है कि इससे पहले पाकिस्तान का न्यायिक आयोग एक बार भारत आ चुका है। पाकिस्तान में 26/11 की जांच और मुकदमे की धीमी रफ्तार को लेकर भारत कई बार अपनी नाखुशी जाहिर कर चुका है।

दोनों देशों के गृह मंत्रियों की मुलाकात के दौरान भारतीय खेमा पाकिस्तान को सौंपी गई मोस्ट वांटेड सूची में शामिल अपराधियों को सौंपने की मांग भी दोहराएगा। इसके अलावा पाकिस्तान के रास्ते भारत में आ रहे नकली नोट और मादक पदार्थो की रोकथाम पर भी बात होगी। भारतीय खेमे ने पाकिस्तान की ओर से हर बार उठने वाले समझौता एक्सप्रेस मामले पर भी जवाब तैयार कर लिया है। इस संबंध में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) की ओर से दाखिल चार्जशीट पर पाकिस्तान को जानकारी दी जाएगी।

मलिक के इस दौरे में दोनों मुल्कों के बीच हुए वीजा समझौते को लागू किया जाएगा। पत्नी के साथ भारत आ रहे मलिक आगरा और अजमेर भी जा सकते हैं। शनिवार को उनकी प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, नेता विपक्ष सुषमा स्वराज और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार शिवशंकर मेनन से मुलाकात संभव है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!