आरबी के हार्पिक ने की जल प्रतिज्ञा दिवस और विश्‍व शौचालय दिवस पर अपने मिशन पानी अभियान ‘स्‍वच्‍छता और पानी’ की शुरुआत

नई दिल्‍ली, नवंबर, 2020 : स्‍वच्‍छता, कल्‍याण और पोषण को विशेषाधिकार नहीं बल्कि मूलभूत अधिकार बनाने की आरबी की लड़ाई के एक हिस्‍से के रूप में, आरबी के हार्पिक का मिशन पानी अभियान भारत में जल संकट और स्‍वच्‍छता के मुद्दे पर केंद्रित होकर काम कर रहा है। आज, विश्‍व शौचालय दिवस पर, श्री लक्ष्‍मण नरसिम्‍हन, ग्लोबल सीईओ, रेकिट बेंकाइजर ग्रुप और ग्रेमी अवार्ड विजेता ए.आर. रहमान ने ‘जल प्रतिज्ञा दिवस’ पर आयोजित वर्चुअल कार्यक्रम में ‘पानी गीत’ को लॉन्‍च किया।

आरबी अपने टिकाऊ लक्ष्‍यों के अंतर्गत जल संरक्षण और बेहतर सफाई एवं स्‍वच्‍छता की दिशा में जागरूकता बढ़ाने व काम करने के लिए प्रतिबद्ध है। मौजूदा महामारी के दौरान, बीमारी और संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए उचित स्‍वच्‍छता और पानी की उपलब्‍धता बहुत महत्‍वपूर्ण है।

प्रसून जोशी द्वारा लिखित ‘एं‍थम फॉर सेविंग वॉटर’ देश में जल और स्‍वच्‍छता के मुद्दे पर लोगों के व्‍यवहार में बदलाव लाने पर केंद्रित है। ए.आर. रहमान और ऑल-चिल्‍ड्रन क्‍वाइअर के साथ लॉन्‍च किया गया यह गीत पानी बचाने के मिशन में शामिल होने के आह्वान के साथ पूरे देश में दर्शकों तक पहुंचेगा। पूरे देश के स्‍कूली बच्‍चे मिशन पानी अभियान के साथ जुड़ेंगे और पानी बचाने के लिए ‘जल प्रतिज्ञा’ लेंगे।

रेकिट बेंकिज़र ग्रुप के ग्लोबल सीईओ लक्ष्मण नरसिम्हन ने कहा कि, “एक साल पहले हमने एक स्वच्छ और स्वस्थ दुनिया की तलाश में सुरक्षा, उपचार और पोषण के अपने लक्ष्य को एक बार फिर परिभाषित किया है। हमने उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों तक पहुंच सुनिश्चित करने, व्यवहारिक परिवर्तन और उपलब्धता प्रदान करने वाली जानकारी सुनिश्चित करने के लिए अपनी लड़ाई को और भी तेज किया है। पानी हाइजीन और स्वच्छता लाने में मददगार होता है। पानी की उपलब्धता और हाइजीन एवं स्वच्छता के लिए अपनी प्रतिबद्धता के साथ हम इस समस्या को हल करने के लिए अग्रिम पंक्ति की सुरक्षा प्रदान कर सकते हैं। आज विश्व शौचालय दिवस पर, हम जल संरक्षण और स्वच्छता के संदेश के साथ अधिक संख्या में लोगों तक पहुंच रहे हैं। हम सभी पानी और स्वच्छता के राजदूत हो सकते हैं। मैं आप सभी से आग्रह करता हूं कि आज मेरे साथ जल प्रतिज्ञा में शामिल हों।”

इस अभियान में योगदान करते हुए, मिशन पानी के राजदूत श्री अक्षय कुमार ने कहा कि, “हमें अपने जीवन में एक ऐसे दौर पर नहीं पहुँचना चाहिए जहाँ हम पानी के सही मूल्य का एहसास तब करें जब हमारे पास यह उपलब्ध ही न हो। यही कारण है कि हमें एक जिम्मेदार नागरिक बनना होगा और पानी के उपयोग और लाभ के लिए उसके संरक्षण के प्रति दूसरों को भी प्रोत्साहित करना चाहिए। इस तरह की चीजों पर एक स्नो-बॉल प्रभाव होता है, और जब उपलब्ध संसाधनों के उपयोग की बात हो तो हमें अपने कार्यों के परिणामों के बारे में सोचना शुरू करना होगा। मुझे इस बात को लेकर कैंपेन पर पूरा भरोसा है कि समाज में जिस जागरुकता की जरूरत है उसमें यह मददगार साबित होगा। साथ ही उम्मीद है कि इस मुश्किल वक्त में अनगिनत जिंदगियों को बचाया जा सकता है। ध्यान रखें, स्वच्छता और पानी आखिर बचानी है जिंदगानी।”

आरबी के साथ जुड़ने पर बोलते हुए, ए.आर. रहमान, म्‍यूजिक कम्‍पोजर और ग्रेमी अवार्ड विजेता, ने कहा, “जल संकट बहुत गंभीर स्थिति है और हमें इस पर ध्‍यान देने की जरूरत है। प्रसून जोशी और मेरे द्वारा बनाया गया ‘पानी गीत’ बच्‍चों द्वारा गाया गया है। यदि आज हम पानी नहीं बचाते हैं तो हमारी नई पीढ़ी को इसका सबसे ज्‍यादा खामियाजा भुगतना पड़ेगा। जल संकट को खत्‍म करने, पानी का कैसे उपयोग और उपभोग करते हैं इसके प्रति जागरूकता बढ़ाने, लोगों को सावधान करने के लिए काम करना आज बहुत महत्‍वपूर्ण है। ऑल-चिल्‍ड्रन क्‍वाइअर हमारे युवाओं की आवाज है, जो एक बदलाव लाना चाहते हैं। पानी बचाने के इस प्रयास में हमें पूरे देश का जल प्रतिज्ञा में शामिल होने की पूरी उम्‍मीद है। ”

गीत लॉन्‍च पर बोलते हुए, श्री नरसिम्‍हन ईश्‍वर, सीनियर वाइस प्रेसिडेंट, आरबी हाईजीन साउथ एशि‍या ने कहा, “आरबी की लड़ाई उच्‍च गुणवत्‍ता वाली सफाई, कल्‍याण और पोषण को एक विशेषाधिकार के बजाये मूलभूत अधिकार का दर्जा देने के लिए है। हार्पिक के साथ, मिलकर हम पिछले कई वर्षों से शौचालय की सफाई के लिए बड़े स्‍तर पर व्‍यवहारिक बदलाव लाने वाले कार्यक्रम का परिचालन कर रहे हैं। आज, विश्‍व शौचालय दिवस पर, पानी और स्‍वच्‍छता पर अधिक केंद्रित हार्पिक मिशन पानी हमारे भागीदारों के साथ मिलकर भारत में जल संकट के प्रति जागरूकता कार्यक्रम चलाएगा और लोगों को जल संरक्षण के साथ ही साथ मजबूती से सफाई तंत्र और अच्‍छी स्‍वच्‍छता आदतों को अपनाने के लिए शिक्षित करेगा। हम लोकप्रियं संसकृति, संगीत, जल योद्धाओं की प्रेरणादायक कहानियों और अन्‍य साधनों का उपयोग कर विभि‍न्‍न माध्‍यमों के शैक्षणिक तरीकों से पानी और स्‍वच्‍छता के प्रति परिवर्तनकारी व्‍यवहार बदलाव पर ध्‍यान देंगे। आज जारी किया गया अद्भुत ‘पानी गीत’ इसी दिशा में उठाया गया एक बड़ा कदम है। ”

इस अवसर पर बोलते हुए, सुश्री सुखलीन अनेजा, सीएमओ और मार्केटिंग डायरेक्‍टर, आरबी हाईजीन, साउथ एशिया ने कहा, “2030 तक, पानी की मांग आपूर्ति से कही अधिक होगी। इसलिए जल संरक्षण की बहुत अधिक जरूरत है। हम जितना बचाएंगे – जितना कम हम बर्बाद करेंगे – उतना हम जल पर्याप्तता के नजदीक पहुंचेंगे। हमारा उद्देश्‍य बचत की दिशा में काम करने के लिए एक ईकोसिस्‍टम का निर्माण करना है। इस प्रयास में, बच्‍चे हमारे प्रचारक होंगे, जो बदलाव का संदेश देंगे। यह हमारे लिए गर्व की बात है कि ए.आर. रहमान और प्रसून जोशी ने पानी बचाने के लिए देश को प्रेरित करने और जल प्रतिज्ञा लेने के लिए एक गीत की रचना की है।”

प्रसून जोशी, गीत के गीतकार ने कहा, “ ‘बदलनी है पानी की कहानी’, ‘स्‍वच्‍छता और पानी’, जब मैंने इन थीम पर काम करना और हार्पिक मिशन पानी के लिए लिखना शुरू किय, तब मुझे एहसास हुआ कि हमनें पानी को कितना हल्‍के में लिया है। हमें सचेत रूप से अपनी नदियों और जल निकायों की रक्षा करने के लिए कदम उठाने चाहिए और हम सभी को जल संरक्षण के लिए प्रयास करना चाहिए। लोगों को बदलाव लाने की जरूरत का एहसास दिलाने के लिए यह गीत हमारा एक जरिया है। जल बचाकर हम जीवन बचा सकते हैं।”

श्री एम. वेंकैया नायडू, भारत के उपराष्ट्रपति; श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, माननीय जल शक्ति मंत्री; श्री रमेश पोखरियाल, माननीय शिक्षा मंत्री सहित अन्य गणमान्य व्यक्तियों ने जलप्रतिनिधि (जल संरक्षण की शपथ) को आगे बढ़ाने के लिए अपना योगदान और समर्थन दिया।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!