इंडियास्किल्‍स 2021 रीजनल कॉम्‍पीटिशंस के लिये राज्‍य और केन्‍द्र शासित प्रदेश तैयार

देश के सबसे बड़े स्किल इवेंट में 1,500 उम्‍मीदवार हिस्‍सा लेंगे

नई दिल्‍ली, अक्‍टूबर 2021: इंडियास्किल्‍स 2021 रीजनल कॉम्‍पीटिशंस 20 अक्‍टूबर से शुरू होंगे। देश के सबसे बड़े इस स्किलिंग इवेंट में 30 राज्‍यों/ केन्‍द्र शासित प्रदेशों के 1500 लोग भाग लेंगे। इंडियास्किल्‍स 2021 को 250,000 से ज्‍यादा रजिस्‍ट्रेशंस मिल चुके हैं और जिला तथा राज्‍य-स्‍तरीय प्रतियोगिताओं की शुरूआत अगस्‍त-सितंबर में हुई थी। रीजनल प्रतियोगिताएं पाँच ज़ोन्‍स में होंगी, जिनके विजेता दिसंबर 2021 में होने जा रही इंडियास्किल्‍स नेशनल कॉम्‍पीटिशन में भाग लेंगे।
रीजनल कॉम्‍प‍ीटिशंस में भाग लेने वाले उच्‍च आर्थिक वृद्धि की 54 कुशलताओं में प्रतिस्‍पर्द्धा करेंगे, जैसे फैशन टेक्‍नोलॉजी, ऑटोमोबाइल टेक्‍नोलॉजी, ऑटोबॉडी रिपेयर, वाटर टेक्‍नोलॉजी, प्‍लम्बिंग और हीटिंग, आदि। इन 54 कुशलताओं में नये युग की सात कुशलताओं को जोड़ा गया है और यह कुशलताएं हैं- मोबाइल रोबोटिक्‍स, इंफोर्मेशन टेक्‍नोलॉजी (आईटी) सॉफ्टवेयर सॉल्‍यूशंस फॉर बिजनेस, क्‍लाउड कंप्‍यूटिंग, साइबर सिक्‍योरिटी, इंडस्‍ट्री 4.0, आदि। पूर्व और उत्‍तर-पूर्व के लिये पटना, बिहार में पहली रीजनल कॉम्‍प‍ीटिशन 20 से 23 अक्‍टूबर को होगी। पश्चिम की रीजनल कॉम्‍पीटिशन गांधीनगर में 29 अक्‍टूबर से 1 नवंबर को होगी, जबकि उत्‍तर के लिये इवेंट चंडीगढ़ में 15 से 18 नवंबर को होगा। दक्षिण के लिये अंतिम ज़ोनल कॉम्‍पीटिशन 1 से 4 दिसंबर को विशाखापटनम में होगी।
नेशनल स्किल डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन (एनएसडीसी) के चीफ ऑपरेटिंग ऑफिसर वेद मणि तिवारी ने कहा, ‘’भारत के युवाओं में जबर्दस्‍त प्रतिभा है, जिसे सही दिशा और इंडियास्किल्‍स जैसा एक प्‍लेटफॉर्म चाहिये, ताकि वह अपनी पूरी क्षमता का दोहन कर सके। यह प्रतियोगिता कुशलताओं का ओलंपिक है और इसका लक्ष्‍य है युवाओं को अंतर्राष्‍ट्रीय पहचान और अवसर देना और उन्‍हें अंतर्राष्‍ट्रीय मानकों के कुशलता प्रशिक्षण से युक्‍त करना। इसका लक्ष्‍य है कुशल पेशेवरों का वैश्विक प्रोफाइल बनाना और उन्‍हें मान्‍यता दिलवाना तथा उनके कैरियर के रास्‍तों का विस्‍तार करना।‘’
इंडियास्किल्‍स प्रतियोगिता के विजेता श्रेणी में सर्वश्रेष्‍ठ उद्योग प्रशिक्षण से गुजरेंगे, जिसका संचालन विभिन्‍न सेक्‍टरों के संरक्षक, कोच और उद्योग विशेष करेंगे, ताकि उन्‍हें अक्‍टूबर 2022 में होने जा रहे वर्ल्‍डस्किल्‍स शंघाई, चीन के लिये तैयार किया जा सके। अभ्‍यर्थियों को बूट कैम्‍पस और परियोजना-आधारित प्रशिक्षण, उद्योग एवं कॉर्पोरेट प्रशिक्षण, उद्योगों का दौरा, माइंड कोचिंग जैसे प्रोग्राम्‍स द्वारा बहु-स्‍तरीय उद्योग प्रशिक्षण मिलेगा। सेक्‍टर स्किल काउंसिल्‍स (एसएससी) और अपने भागीदारों के माध्‍यम से एनएसडीसी अभ्‍यर्थियों को न केवल प्रतियोगिता के लिये प्रशिक्षित करता है, बल्कि भविष्‍य के प्रयासों के लिये भी, ताकि वे रोजगार के लिये तैयार रहें।
वर्ल्‍डस्किल्‍स कुशलता में उत्‍कृष्‍टता का गोल्‍ड स्‍टैण्‍डर्ड है। यह दो वर्ष में एक बार होने वाला आयोजन है, जिसमें 80 से ज्‍यादा देश भाग लेते हैं। दुनियाभर के कुशल और प्रतिभावान युवा विभिन्‍न उद्यमों में अंतर्राष्‍ट्रीय मंच पर प्रतिस्‍पर्द्धा करते हैं। साल 2019 में कज़ान, रूस में वर्ल्‍डस्किल्‍स के पिछले संस्‍करण, यानि वैश्विक आयोजन में भाग लेने वाले 63 देशों में भारत ने 13वां स्‍थान प्राप्‍त किया था। 1350 से ज्‍यादा अभ्‍यर्थियों ने 56 कुशलताओं में भाग लिया था और टीम इंडिया ने चार मेडलों (एक गोल्‍ड, एक सिल्‍वर और दो ब्रॉन्‍ज मेडलों) के साथ 15 मेडलियंस ऑफ एक्‍सीलेंस जीतकर अपना सर्वश्रेष्‍ठ प्रदर्शन किया था।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!