ईईएफ 2022 के तहत क्रिएटिव बिजनेस फोरम का हुआ आयोजन

नई दिल्ली, सितम्बर 2022 : सातवें ईस्टर्न इकोनॉमिक फोरम के तहत ‘उत्तरी क्षेत्रों के लोगों के सामाजिक-सांस्कृतिक विकास’ पर रचनात्मक बिजनेस फोरम काआयोजन हुआ. रूस के सुदूर पूर्व और आर्कटिक क्षेत्र के विकास से जुड़े मंत्रालय के सहयोग से रॉसकांग्रेस फाउंडेशन के सामाजिक मंच (सोशल प्लेटफॉर्म) इनोसोसियम फाउंडेशन ने इस फोरम का आयोजन किया. 2021-2023 के बीच आर्कटिक काउंसिल की रूस की चेयरमैनशिप के तहत आयोजित होने वालेकार्यक्रमों के तहत इस फोरम का आयोजन हुआ. इसका आयोजन रॉसकांग्रेस फाउंडेशन द्वारा किया जा रहा है.

रचनात्मक बिजनेस फोरम के तहत आयोजित बिजनेस प्रोग्राम उत्तरी क्षेत्रों के लोगों के सामाजिक आर्थिक विकास से जुड़ा हुआ था. इसके साथ ही यह रचनात्मकउद्योगों के आशाजनक क्षेत्रों एवं उत्तरी क्षेत्रों में सोशल सेक्टर के विकास पर केंद्रित था. इन सत्रों में हिस्सा लेने वालों ने उत्तरी शहरों के विकास, औद्योगिकआर्कटिक डिजाइन, मूल लोगों की परंपराओं, पर्यटन, उत्तरी क्षेत्र में जीवन पर टेक्नोलॉजी के असर, क्षेत्रीय फिल्म एवं एनिमेशन इंडस्ट्री, नेशनल कुज़ीन, स्थानीयस्तर पर आर्ट रेजिडेंस एवं आर्ट हब के सृजन पर चर्चा की. सत्रों के दौरान युवाओं और मूल लोगों को सपोर्ट किए जाने के सामाजिक पहलुओं पर भी बहुत अधिकफोकस किया गया.

रूस के राष्ट्रपति के सलाहकार और ईईएफ 2022 ऑर्गनाइजिंग कमिटी के एग्जीक्यूटिव सेक्रेटरी अंतोन कोबिकोव ने कहा, “रचनात्मक उद्योगों (क्रिएटिवइंडस्ट्रीज) के विकास के लिए एक महत्वपूर्ण टूल के रूप में क्रिएटिव बिजनेस फोरम जिस प्रकार प्रभावी तरीके से काम करता है, उसका सीधा असर रचनात्मकउद्यमशीलता, खासकर बदलते आर्थिक एवं भूराजनीतिक माहौल में, के प्रोत्साहन पर देखने को मिलता है. इकोनॉमी के विशेष सेक्टर में सोशल कम्युनिकेशन केविकास से सामाजिक समावेशन को बढ़ावा देने, बिजनेस कॉन्टैक्ट स्थापित करने और आधुनिक इकोनॉमी के वाहक के तौर पर क्रिएटिव इंडस्ट्री की प्रतिष्ठा कोमजबूती देने में मदद मिलती है.”

आधिकारिक ईईएफ बिजनेस प्रोग्राम में ये सत्र शामिल थेः ‘नॉर्थ – साउथः यूजिंग एथनोकल्चर हैरिटेज एज ए रिसोर्स फॉर सस्टेनेबल डेवलपमेंट,’ ‘द क्रिएटिपोटेंशियल ऑफ द नॉर्थ. हाऊ टू अट्रैक्ट यंग पीपुल इन द आर्कटिक रीजन?,’ और ‘सोशल एजेंडा ऑफ द रीजन्सः न्यू ग्लोबल क्रॉसरोड्स.’ हाउस ऑफ इंडिजिनसपीपुल्स पैवेलियन, उत्तर के मूल लोगों की संस्कृति को समर्पित नए प्लेटफॉर्म, के ‘फार ईस्ट स्ट्रीट’ में आयोजित बिजनेस प्रोग्राम से इतर क्रिएटिव बिजनेस फोरमके सत्रों का आयोजन हुआ. क्रिएटिव बिजनेस फोरम के तहत इन सत्रों का आयोजन हुआः ‘रशियन आर्कटिक स्टाइलः फ्रॉम द ईपीऑस टू द प्रोडक्ट,’ ‘टेमिंगकोल्डः स्पेशल एस्पेक्ट्स ऑफ डेवलपिंग नॉर्दर्न सिटीज,’ ‘टूरिज्म ऑर अ चैलेंजः व्हाट अट्रैक्ट्स पीपुल टू द आर्कटिक?,’ ‘फ्रॉम द म्यूजियम टू अ क्रिएटिवक्लस्टरः हाउ पब्लिक स्पेसेज शेप अ क्रिएटिव लाइफ,’ ‘फिल्म इंडस्ट्री एंड एनिमेशन ऑफ द नॉर्थ एंड ईस्टः न्यू मार्केट्स एंड टेक्नोलॉजीज,’ और ‘गैस्ट्रोनॉमीऑफ द आर्कटिक, साइबेरिया, एंड द फार ईस्ट- हाऊ टू सरप्राइज अ पिकी गेस्ट?’

रॉसकांग्रेस फाउंडेशन की डिप्टी सीईओ और इनोसोसियम फाउंडेशन की डायरेक्टर येलेना मारिनीना ने कहा, “फोरम ने मौजूदा अवसरों को प्रदर्शित किया कि रूसके उत्तरी क्षेत्रों में किस प्रकार रचनात्मक उद्योगों का विकास किया जाना है. हमारे पास इस एरिया को विकसित करने और बेहतरीन प्रैक्टिस को और बेहतर करनेकी भविष्य से जुड़ी योजनाओं पर चर्चा करने का मौका मिला ताकि लोगों की रचनात्मक क्षमताओं का इस्तेमाल इकोनॉमिक ग्रोथ के प्रभावी संसाधन के रूप मेंकिया जा सके.”

रूस के विज्ञान और उच्च शिक्षा मंत्रालय और खांटी-मानसी ऑटोनोमस डिस्ट्रिक्ट के सपोर्ट से ‘द सोल ऑफ रशिया. द नॉर्थ’ यूथ मल्टीमीडिया और डिस्कशनकैम्पस का आयोजन हुआ. कैम्पस में एक यूथ प्रेस सेंटर भी था, जिसने विभिन्न मल्टीमीडिया प्रोजेक्ट्स और एक इंटरैक्टिव मैप को प्रस्तुत किया. इसके साथ हीताबीज, नेशनल डॉल्स, वुड और बोन कार्विंग बनाने एवं लेदर एवं बिर्च बार्क की प्रोसेसिंग पर एक मास्टर क्लास को होस्ट भी किया. डिस्कसन जोन में रचनात्मकक्षेत्र के प्रतिनिधियों के बीच सार्वजनिक स्तर पर विचार-विमर्श हुआ.

रूस के विदेश मामलों के मंत्रालय में अम्बैस्डर-एट-लार्ज और सीनियर आर्कटिक ऑफिशियल्स के चेयर निकोलय कोरचुनोव ने कहा, “आर्कटिक काउंसिलरचनात्मक उद्योगों के विकास से जुड़ी समस्याओं पर लगातार ध्यान दे रहा है. उत्तर के मूल लोगों का असोसिएशन इस काम में विशेष योगदान देता है. रूस कीपहल के आधार पर मूल लोगों की सांस्कृतिक विरासत को बचाने और और विकसित करने के साथ-साथ उनके पारंपरिक क्राफ्ट और जीवन जीने के रास्ते कोमेंटेन करने के लिए कई प्रोजेक्ट्स विकसित हो रहे हैं. इनमें डिजिटल म्यूजिम प्रोजेक्ट का आइडिया भी शामिल है, जिसके तहत म्यूजिम कॉम्प्लेक्स को एकप्लेटफॉर्म पर लाना है. इससे आम लोगों को उत्तर के मूल लोगों की सांस्कृति विरासत के बारे में सीखने को मिलेगा.”

फोरम के कार्यक्रमों में पायलट ‘सोल ऑफ रशिया. द नॉर्थ’ जैसा ऑडियोविजुअल कल्चर फेस्टिवल भी शामिल रहा, जिसमें ईईएफ में हिस्सा लेने वालों ने उत्तरीक्षेत्रों की उपलब्धियों की जानकारी हासिल की और उत्तर के मूल लोगों की सदियों पुरानी परंपराओं और महाकाव्यों के बारे में भी जाना. इस कार्यक्रम में शिरकतकरने वालों ने युवा एवं प्रतिष्ठित कलाकारों के जरिए ये जानकारी हासिल की. इस कार्यक्रम में किट जा और मोसकिला के ईवन पीपुल की धुनों के साथवनयाकान इकेकान ने अपनी प्रस्तुती दी.

‘फार ईस्ट स्ट्रीट एक्जीबिशन’ के मंच पर इवेंकी डीजे गुदेक्यों और ईवन की गायिक प्योत्र कीमेतिनोव ने भी अपनी प्रस्तुति दी. इसके साथ-ही-साथ क्रिएटिवबिजनेस फोरम ने क्सेनिया चिलिंगारोवा के आइकॉनिक आर्कटिक एक्सप्लोरर आउटरवियर ब्रांड और युग्रा एवं याकुतिया के युवा डिजायनर्स के लोकप्रियकलेक्शन्स का प्रदर्शन भी किया. फेस्टिवल के फिनाले में चुलिम, कितो और सेल्कअप और साइबेरिया मूल के लोगों ने आधुनिक संगीत कार्यक्रमों को परफॉर्मकिया. इसमें उन्होंने गले से पारंपरिक संगीत की प्रस्तुति दी और एल्क स्किन से ड्रम बजाया.

खांटी-मानसी ऑटोनोमस डिस्ट्रिक्ट की सरकार के सपोर्ट से फोरम के बिजनेस एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया.

युग्रा के गवर्नर नतालया कोमारोवा ने कहा, “क्रिएटिव इंडस्ट्रीज की आर्थिक क्षमताओं की हमारी समझ काफी हद तक स्पिरिट ऑफ फायर इंटरनेशनल फेस्टिवलऑफ फिल्म डेब्यू से प्रभावित थी, जो आखिरकार युग्रा में फिल्म इंडस्ट्री के विकास का मुख्य प्लेटफॉर्म बन गया. रचनात्मक उद्योगों को विकसित करने को लेकरअपने नियम लागू करने वाले हम पहला क्षेत्र हैं और हमने 2030 तक के लिए विकास की एक रणनीति का मसौदा तैयार किया है. हमारी योजना है कि ग्रॉसरीजनल प्रोडक्ट में इस सेक्टर की हिस्सेदारी 2.7 फीसदी हो और तेल एवं गैस की वजह से हमारा ग्रॉस प्रोडक्ट काफी महंगा है. क्रिएटिव इंडस्ट्रीज सेक्टरइकोनॉमी का एक पूर्ण रूप से सक्षम सेक्टर बनता जा रहा है. हालांकि, इसकी सभी गतिवधियां अभी एक स्ट्रक्चर में शामिल नहीं हैं लेकिन यह प्रतिभाशालीलोगों के लिए अवसर पैदा करता है. हमारा काम ऐसे लोगों के लिए अधिक से अधिक प्रतिस्पर्धी माहौल तैयार करना है.”

वर्ष 2021-2023 के बीच आर्कटिक काउंसिल की रूस की चेयरमैनशिप की मुख्य प्राथमिकताओं में क्षेत्र में नॉर्थ के मूल लोगों सहित ह्युमन कैपिटल का विकासशामिल है. रूस उत्तर के लोगों की स्थिरता एवं व्यवहार्यता को बनाए रखने के लिए खास ध्यान देता है, उन्हें जलवायु परिवर्तन के अनुकूल बनाने के साथ-साथलोगों के कल्याण, स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर में सुधार के साथ-साथ पूरे क्षेत्र के टिकाऊ सामाजिक आर्थिक विकास के लिए प्रयास कर रहा है. रूस ने नॉर्थके मूल लोगों की सांस्कृतिक और भाषायी विरासत को डिजिटाइज करने, अक्षय ऊर्जा के स्रोत विकसित करने और कार्बन-फ्री एनर्जी पर चलने वाले इंटरनेशनलआर्कटिक रिसर्च स्टेशन क्रिएट करने और आर्कटिक में जैव-सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए परियोजनाएं शुरू की है. इसके साथ-ही-साथ रूस मूल लोगों कीपारंपरिक दवाओं और आर्कटिक में क्रिएटिव इंडस्ट्री के विकास के लिए मसौदा प्रस्ताव तैयार कर रहा है. इसके साथ-ही-साथ वह आर्कटिक में डिजिटल म्यूजियमक्रिएट करने की पहल पर भी काम कर रहा है.

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!