“देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है बल्कि दुनिया भर में प्रतिभाशाली और कुशल भारतीयों की बढ़ती हुई मांग है ”: श्री राजीव चंद्रशेखर

नई दिल्ली, सितंबर 2022: सरकार की स्किल इंडिया पहल के हिस्से के रूप में, इलेक्ट्रॉनिक्स सेक्टर स्किल काउंसिल ऑफ इंडिया (ईएसएससीआई) ने आज सैमसंग इंडिया के साथ एक स्किलिंग इनिशिएटिव के लिए एक एमओयू साइन किया, जिसका उद्देश्य उभरती टेक्नोलॉजी डोमेन्स में इन्डस्ट्री रेलेवेन्ट स्किल्स के साथ युवाओं को उनकी रोजगार क्षमता बढ़ाने के लिए सशक्त बनाना है।
प्रोग्राम, “सैमसंग इनोवेशन कैंपस” का उद्देश्य फ्यूचर टेक्नोलॉजीज़ जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, इंटरनेट ऑफ थिंग्स, बिग डेटा और कोडिंग और प्रोग्रामिंग में 18-25 वर्ष की आयु के 3,000 से अधिक बेरोजगारयुवाओं को आगे बढ़ाना है।
ईएसएससीआई जो राष्ट्रीय कौशल विकास निगम (एनएसडीसी) द्वारा अनुमोदित की गई एन्टिटी है, अपने अनुमोदित प्रशिक्षण और एजुकेशन पार्टनर्स के राष्ट्रव्यापी नेटवर्क के माध्यम से प्रोग्राम को क्रियान्वित करेगी।
इस अवसर पर केंद्रीय इलेक्ट्रॉनिक्स, इन्फार्मेशन टेक्नोलॉजी और कौशल विकास राज्य मंत्री श्री राजीव चंद्रशेखर, ने कहा, “स्किलिंग केवल युवाओं को रोजगार योग्य स्किल्स से लैस करने के बारे में नहीं होनी चाहिए, बल्कि रोजगार और रोजगार के गेटवे के रूप में उनके पासपोर्ट टू प्रोस्पैरिटी के रूप में कार्य करनी चाहिए। जितनी अधिक रोजगारोन्मुखी स्किलिंग होगी, यह छात्रों और युवा भारतीयों के लिए उतनी ही अधिक आकांक्षी होगी।”
उन्होंने कहा कि स्किलिंग पर सरकार का जोर तेजी से डिजिटाइज्ड दुनिया में अवसरों को तैयार करने और भारत को टैलेंट पूल बनाने पर रहा है। उन्होंने कहा, “देश में प्रतिभा की कोई कमी नहीं है बल्कि दुनिया भर में प्रतिभाशाली और कुशल भारतीयों की मांग बढ़ रही है।“
राज्य मंत्री ने राष्ट्रीय कौशल विकास निगम और मंत्रालय से स्थायी समाधान के लिए इन्डस्ट्री और स्किलिंग ईकोसिस्टम के बीच घनिष्ठ भागीदारी विकसित करने की योजना बनाने का आग्रह किया।
यह कहते हुए कि यह माननीय प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी का विज़न है कि डिजिटल अवसर प्रत्येक भारतीय के लिए समान रूप से उपलब्ध होना चाहिए, श्री चंद्रशेखर ने कहा कि न केवल प्रमुख शैक्षणिक संस्थानों के साथ बल्कि टियर 2 और टियर 3 शहरों में विश्वविद्यालयों और संस्थानों के साथ भी प्रयास किए जाने चाहिए।
युवा भारतीयों को स्किल्स के साथ सशक्त बनाने के लिए ईएसएससीआई के साथ सैमसंग की पहल का स्वागत करते हुए, उन्होंने कहा कि यह भारत और भारतीयों के लिए एक अच्छा भागीदार होने की एक सच्ची पहचान है। उन्होंने उनसे टियर 2 और टियर 3 शहरों में अपने कार्यक्रमों का हेडक्वार्टर बनाने का आग्रह किया ताकि इन स्थानों के सैकड़ों हजारों छात्रों के लिए स्किलिंग के अवसर सुनिश्चित किए जा सकें।
सैमसंग साउथवेस्ट एशिया के प्रेसिडेंट एंड सीईओ मिस्टर केन कांग और ईएसएससीआई की सीओओ डॉ. अभिलाषा गौर ने एमओयू एक्सचेंज किया।
समारोह में उपस्थित अन्य गणमान्य व्यक्तियों में श्री अतुल कुमार तिवारी, सचिव, कौशल विकास और उद्यमशीलता मंत्रालय; श्री वेद मणि तिवारी, सीओओ, एनएसडीसी, श्री अमृत मनवानी, अध्यक्ष, ईएसएससीआई; श्री पीटर री, डिप्टी मैनेजिंग डायरेक्टर, सैमसंग इंडिया और श्री पार्थ घोष, हेड, सीएसआर, सैमसंग इंडिया शामिल रहे।

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

error: Content is protected !!