संतों के दर्शन से तर सकते हैं: मुनिश्री सुमति कुमारजी

गंगाशहर। संत दीपक के समान होते हैं, जो चारों दिशाओं में रोशनी फैलाते हैं। यह बात मुनिश्री सुमति कुमार ने आज तेरापंथ भवन में आयोजित स्वागत समारोह को सम्बोधित करते हुए कही। उल्लेखनीय है कि इस बार तेरापंथ भवन में मुनिश्री सुमति कुमार ने अपने सहवर्ती साधुओं के साथ नैतिकता का शक्तिपीठ से तेरापंथ भवन तक एक भव्य जुलूस में पहंुचकर चातुर्मासिक प्रवास प्रारम्भ किया। इस अवसर पर आयोजित स्वागत समारोह में मुनिश्री ने कहा कि संत सरिता के समान होते हैं जो जन मानस को हरा भरा करते हैं। उन्होंने कहा कि संत दर्शन से भवसागर तर सकते हैं। मुनिश्री ने कहा कि गंगाशहर मेरी जन्मभूमि है, यहां आकर ऐसा लग रहा है कि बहुत कार्य की आवश्यकता है, जागृति लानी है। उन्होंने उपस्थित जनसमुदाय से आह्वान किया कि अधिक से अधिक धर्म आराधना करके आध्यात्मिक लाभ उठावें।
मुनिश्री शान्तिकुमारजी एवं मुनिश्री विमलबिहारी जी ने भीनासर से पधाकर मुनिवृन्दों का स्वागत किया तथा कहा कि आप घोरतपस्वी ताराचन्द के सहवर्ती रहे हैं अतः तपस्या की अलख जगाएं।
समारोह को सम्बोधित करते हुए आचार्य महाप्रज्ञ जन्म शताब्दी समारोह समिति के सदस्य जैन लूणकरण छाजेड़ ने कहा कि इस वर्ष को ‘‘ज्ञान चेतना वर्ष’’ के रूप में मनाया जा रहा है, इसलिए इस संदर्भ में विशेष कार्य किया जाए। छाजेड़ ने मुनिश्री सुमतिकुमार, मुनिश्री देवार्य एवं मुनिश्री आदित्य कुमार का स्वागत करते हुए कहा कि आप सभी युवा मुनि हैं, अतः गंगाशहर में अध्यात्म की लहर आएगी। समारोह को सम्बोधित करते हुए गंगाशहर के मुनिश्री आदित्यकुमार जी ने कहा कि समय का पता नहीं चलता कब चला जाता है, अतः सभी समय के महत्व को समझें एवं चातुर्मास काल में ज्ञानार्जन, जप व तप में अपना विशेष योगदान देवें।
मुनिश्री देवार्यकुमारजी ने कहा कि आचार्यश्री महाश्रमणजी के आदेशानुसार गंगाशहर में चातुर्मास करने के लिए आए हैं।
इस अवसर पर तेरापंथी सभा, गंगाशहर के डॉ. पी.सी. तातेड़, आचार्य तुलसी शान्ति प्रतिष्ठान से बसन्त नौलखा, महिला मंडल से ममता रांका, अणुव्रत महासमिति से प्रकाश भंसाली, जय तुलसी फाउण्डेशन से हंसराज डागा, किशोर मंडल से भव्य संचेती, अणुव्रत समिति से राजेन्द्र बोथरा, तेयुप अध्यक्ष पवन छाजेड़, अभातेयुप से मनीष बाफना ने भी स्वागत करते हुए अपने विचार रखे। समारोह का शुभारम्भ महिला मंडल द्वारा गीतिका के संगान से हुआ। कन्या मंडल ने स्वागत गान एवं नाटक के माध्यम से अभिव्यक्ति दी। डागा, मरोटी एवं आंचलिया परिवार की महिलाओं ने स्वागत गीत का संगान किया। एकता एवं कोमल पुगलिया ने ‘मुनिवर जी घर आये नई रोशनी लाये, शासन का गौरव घर आया’ गीत प्रस्तुत किया। तेयुप मंत्री देवेन्द्र डागा ने कहा कि जेटीएन कार्ड प्रत्येक रविवार को सुबह 9 बजे से बनाए जाएंगे। समरोह का संचालन तेरापंथी सभा के मंत्री अमरचन्द सोनी ने किया।

अमरचन्द सोनी
मंत्री

Leave a Comment