लोटस डेयरी का प्लास्टिक थैलियों के बदले अच्छी रकम देने का वादा

लोटस डेयरी ने दूध-पैकेजिंग का प्लास्टिक कचरा कम करने का जिम्मा उठाया, प्लास्टिक थैलियों के बदले अच्छी रकम देने का वादा
अपने खाली प्लास्टिक पाउच 20 रुपए प्रतिकिलो वापस खरीदने की घोषणा

जयपुर, 9 अक्टूबर, 2019ः
पर्यावरण की रक्षा को लेकर फैली जागरूकता के इस दौर में लोटस डेयरी ने प्लास्टिक-मुक्त वातावरण बनाने के उद्देश्य से एक अभियान की घोषणा की है। इस अभियान के तहत कंपनी प्लास्टिक कचरे से होने वाले दुष्प्रभावों के बारे में जनता के बीच जागरूकता पैदा करेगी और यह बताने का प्रयास करेगी कि क्यों रिसाइक्लिंग की तत्काल आवश्यकता है। अभियान के तहत, लोटस डेयरी अपने ग्राहकों से दूध, दही, छाछ आदि के खाली प्लास्टिक पैकेज को वापस करने का आमंत्रण दे रही है। संग्रहण के बाद इस प्लास्टिक को रिसाइकल किया जाएगा। इन पाउच की वापसी को प्रोत्साहित करने के लिए, कंपनी ने अपने खाली प्लास्टिक पाउच प्रति किलोग्राम 20 रुपए की दर से खरीदने का एलान किया है।
सीपीसीबी के अनुसार देषभर में एक दिन में 26,000 टन प्लास्टिक का इस्तेमाल किया जाता है और इसमें से 10,000 टन प्लास्टिक ऐसा है जिसे वापस एकत्र भी नहीं किया जाता। यह प्लास्टिक खुले मैदानों, समुद्र और महासागरों को प्रदूषित करता है। पिछले 70 वर्षों में, 8.3 बिलियन टन से अधिक प्लास्टिक का उत्पादन किया गया है और इसमें से 80 प्रतिशत प्लास्टिक एकल उपयोग गुणों के कारण वापस एकत्र भी नहीं किया जाता। समुद्र में हर साल लगभग 13 मिलियन टन प्लास्टिक डाला जाता है।
लोटस डेयरी के डायरेक्टर श्री अनुज मोदी कहते हैं, “पर्यावरण संकट से निपटने के लिए एक कदम आगे बढ़ाना आवश्यक है। जो कंपनियां भारी मात्रा में प्लास्टिक का उत्पादन करती हैं, उन्हें विशेष रूप से जिम्मेदारी लेनी चाहिए और अपने हरसंभव तरीके से इस मुद्दे से निपटने में मदद करनी चाहिए। इस अभियान के माध्यम से, हम उतने ही प्लास्टिक को रिसाइकल करना चाहते हैं, जितना हम पैदा करते हैं। एक जिम्मेदार डेयरी होने के नाते लोटस डेयरी यह प्रतिज्ञा करती है कि यह अपने प्लास्टिक के जरिये भूमि और समुद्र को प्रदूषित करने में भूमिका नहीं निभाएगी। दरअसल लोटस डेयरी ऐसा कोई काम नहीं करना चाहती, जिससे अपशिष्ट प्रदूषण पैदा हो। और इन सबसे ऊपर यह अभियान बेहतर कल के लिए प्लास्टिक के पाउच को पुनर्चक्रण करने की संभावित शक्ति को प्रकट करता है।”
रिसाइकल की इस प्रक्रिया को शुरू करने के लिए, लोटस डेयरी विभिन्न स्थानों पर प्लास्टिक के पाउच के संग्रह केंद्रों के रूप में अपने खुदरा विक्रेताओं की सेवाएं लेगी। खुदरा विक्रेताओं को प्लास्टिक पाउच एकत्र करने पर 10 रुपए प्रति किलो प्रोत्साहन राषि मिलेगी। कलेक्शन सेंटरों में ऐसे बैनर लगाए जाएंगे, जिनमें बताया जाएगा कि कैसे लोटस डेयरी के ग्राहक खाली पाउच लौटा सकते हैं और पैसे कमा सकते हैं। प्लास्टिक पैकेजिंग के संग्रहण के बाद, लोटस इनके रिसाइकल के लिए अधिकृत रिसाइकिलर्स को इन्हें भेजेगा।
इस अभियान के माध्यम से लोटस डेयरी वर्तमान पर्यावरणीय संकट को उजागर करने के लक्ष्य को हासिल करते हुए लोगों को इस बारे में जागरूक करना चाहती है कि कैसे प्लास्टिक ने इसमें अग्रणी भूमिका निभाई है।

Leave a Comment

error: Content is protected !!