डा. ललित के पंवार ने ILD कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति का कार्यभार संभाला

पर्यटन , जनसंपर्क , शिक्षा तथा विशेष रूप से कौशल शिक्षा विशेषक्ष डा. ललित के पंवार ने 12 जुलाई 2017 को राजस्थान राज्य ILD कौशल विश्वविद्यालय के कुलपति का कार्यभार संभाला और जामडोली में ILD परिसर के मात्र एक कमरे में ज़ीरो से विश्वविद्यालय के कार्य की शुरूआत की। “वन मेन आर्मी “ के रूप में कुलपति डा. पंवार ने शिक्षण संस्थाओं को तलाशा फिर इन्हें तराशा और विश्वविद्यालय से जोड़ा।एक्ट बनाया, एफिलियेशन नियम बनाये राज्य सरकार व राज भवन से अनुमोदित कराकर कार्य शुरू किया।एक संस्था का स्वयं ने निरीक्षण किया और उसे प्रोविज़नल एफिलियेशन क्या दिया संस्थानों का जामडोली पंहुचना प्रारंभ हो गया।उधार के लिये अपने निजी सचिव से काम को गति दी।सेवानिवृत्त दो-तीन अधिकारियों को लेकर RSLDC कार्यालय में विश्वविद्यालय का सिटी आफिस शुरू कर विकास यात्रा की मुहीम की तेज़ी से शुरूआत की।यह विश्वविद्यालय राजधानी जयपुर शहर के ह्रदय स्थल और एतिहासिक भवन “ख़ासा कोठी” में और अब “राजीव गांधी विद्या भवन”,शिक्षा संकुल में वट वृक्ष का रूप ले चुकी है।यह विवि देश के प्रथम कौशल विश्वविद्यालय कहलाने का गौरव हांसिल कर चुका है। शून्य संस्थान से प्रारंभ होने वाले इस विश्वविद्यालय से अब तक लगभग 100 संस्थान जुड़ चुके हैं। कई नयी शिक्षण संस्थाओं ने एफिलियेशन के लिये आवेदन किया है जिनके एफिलियेशन देने का कार्य युद्ध स्तर पर चल रहा है। 62संस्थानों के तीन हज़ार विद्यार्थियों हाल ही जनवरी माह में पावस सेमेस्टर 2019 की परीक्षा दी है।सभी परिणाम जारी किये जा चुके हैं।इस परीक्षा का संपूर्ण कार्य पूर्ण हो चुका है।प्रथम व द्वितीय सेमेस्टर की अंकतालिका का वितरण किया जा चुका है। ज़ीरो कोर्स से शुरू हुआ अकेडमिक काम अब 120 कोर्स, 16डीन व बीओएस के साथ कौशल शिक्षा में अपना नाम देश के शिक्षा जगत में स्वर्णिम अक्षरों में स्थापित कर यह विश्वविद्यालय अपने कुशल, दूरदरष्टा,अदम्य साहस, कौशल बेरोज़गारों के भविष्य सँवारने तथा सकारात्मक सोच के धनी कुलपति डा. ललित के. पंवार का कार्यकाल 11जुलाई 2020 को संपूर्ण हो गया। डा ललित के पंवार को हार्दिक शुभकामनायें ।
-प्यारे मोहन त्रिपाठी

Leave a Comment

error: Content is protected !!