एक स्वप्निल शहर

जिन्दगी की डगर, एक स्वप्निल शहर, चाहता हूँ मैं जो, मिल जाये कही अगर, हम कहे, वो भी हो, जो चाहे, वो भी हो, हो वो सब, जो जरुरत, कोशिश उसी की हो, जिन्दगी की डगर, एक स्वप्निल शहर, स्वस्थ सब ही रहे, सद्भाव भी हो, लोग आगे बढे, वैसा काम भी हो, जिन्दगी की … Read more

कभी सोचा न था

भाषा इतनी बदल जाएगी, कभी सोचा न था। सोच इतना नीचे आ जाएगी, कभी सोचा न था। आज सबको बस, खुद को, सही साबित करने की होड है। होड इस हद तक बढ जाएगी, कभी सोचा न था। जिस तरह आज, मानवीय मूल्यों का पतन हो रहा है, ऐसा भी होगा, कभी सोचा न था। … Read more

जीवन जीने की कला है योग

“योग स्वयं की स्वयं के माध्यम से स्वयं तक पहुँचने की यात्रा है, गीता “ योग के विषय में कोई भी बात करने से पहले जान लेना आवश्यक है कि इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह है कि आदि काल में इसकी रचना, और वर्तमान समय में इसका ज्ञान एवं इसका प्रसार स्वहित से अधिक सर्व … Read more

कुछ तो ऐतबार उसने भी अपने दिल का किया होगा

कुछ तो असर मेरी मुहोब्बत का भी रहा होगा, वर्ना लोग कहा करते थे कि वो तंग दिल था, और आज तुम बदलने लगे हवाओं का रूख देखकर, फिजा में बढेगी रौनके तुम पर ये असर देखकर। कुछ गुस्ताखियां, कुछ शिकवे, कुछ मुहब्बतें, बहुत कुछ मुझमें भी टूटता होगा, वो जो आए हैं आज मेरी … Read more

भीड़तंत्र का हत्यारा बन जाने का दर्द

महाराष्ट्र के औरंगाबाद जिले के चंदगांव में सोशल मीडिया पर फैलाये जा रहे फर्जी मेसेज पर यकीन करके भीड़ द्वारा दो लोगों को पीट-पीट के हत्या कर दिये जाने का मामला सामने आया है। इससे पहले असम के कार्बी आंग्लोंग जिले में भीड़ ने बच्चा चोरी के संदेह में पेशे से साउंड इंजीनियर नीलोत्पल दास … Read more

खवाब तुम्हारा आता है

जब भी दिल में दर्द उठे, खालीपन आ जाता है, तेरी ही यादों का एक, मौसम सा छा जाता है, तुम दुर गए हो मुझसे, एक नया जीवन जीने को, कैसे हो तुम, ये सवाल फिर यादों में आ जाता है, कुछ तो बातें पहले वाली अब भी तुम करती होगी, सोचकर वही सब बातों … Read more

कैसे रक्खें महिलायें ? अपने स्वास्थ्य का ख्याल

विभिन्न डाइटीशियनों के मुताबिक साधारणतया स्त्रीयों के स्वास्थ्य को मुख्यतया तीन बातें प्रभावित करती हैं। (1) एनीमिया यानी शरीर में लौह तत्व (आयरन) की कमी (2) कैल्शियम की कमी और(3) ओबेसिटी यानी मोटापा। महिलाओं को इन तीन बातों पर विशेष ध्यान देना चाहिए। दूध, दही, पनीर, छाछ और दूध से बने खाद्य पदार्थ कैल्शियम के … Read more

स्व-प्रेरणा की मिसालों से बनता समाज

कहते हैं कि जिसके सिर पर कुछ कर गुजरने का जुनून सवार होता है तो फिर वो हर मुश्किल हालात का सामना करते हुए अपनी मंजिल को हासिल कर ही लेता है। ऐसे लोग अपने किसी भी काम के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं होते बल्कि वो आत्मनिर्भर होकर अपने सभी कामों को अंजाम देते … Read more

नौकरशाही में नये प्रयोग की सार्थकता

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नया भारत निर्मित करना चाहते हैं, इसके लिये देश के प्रशासनिक क्षेत्र को सशक्त बनाने एवं नौकरशाही को दक्ष, प्रभावी एवं कार्यकारी बनाने की तीव्र आवश्यकता है। नौकरशाही को प्रभावी, सक्षम एवं कार्यक्षम बनाने और उसमें नए तौर-तरीकों को समाहित करने के इरादे से संयुक्त सचिव पद के स्तर पर निजी क्षेत्र … Read more

काश अबतक इलाज की अन्य पद्धतियों को भी विकसित किया गया होता !!

2009 की बात है , शनिवार और रविवार को बच्‍चों की छुट्टियों की वजह से नींद देर से ही खुलती है । हां , कभी कभार फोन की घंटी नींद अवश्‍य तोड दिया करती है। ऐसे ही एक शनिवार भोर की अलसायी हुई नींद के आगोश में थी कि अचानक फोन की घंटी बजी। फोन … Read more

राष्ट्रवाद और प्रणव दा

कभी कभी जीवन ऐसे क्षण भी आते है जब अपने करीबी लोग और पारिवारिक सदस्य भी उनको समझने में , उनकी योग्यता के आंकलन में भूल कर जाते है और ऐसा अक्षर जीवन के अंतिम पड़ाव में अधिक होता हुआ देखा गया है । कुछ ऐसा ही प्रणव मुखर्जी पूर्व राष्ट्रपति के साथ इस सप्ताह … Read more