पत्रकार रहिए,जज मत बनिए

ऐसा लगता है,न्यूज चैनलों ने कांग्रेस और इसके नेताओं को निपटाने की सुपारी ली है? एंकर और रिर्पोटर पता नहीं सुबह-सुबह क्या पीकर आते हैं कि दिन भर बोलने की जगह चीखते हैं और बहस में कोई नेता या एक्सपर्ट कांग्रेस के पक्ष में कुछ बोल दें,तो उसके कपड़े फाडने लग जाते हैं। किसी नेता … Read more

जीवन व्यस्त हो, अस्तव्यस्त नहीं

असन्तुलन एवं अस्तव्यस्तता ने जीवन को जटिल बना दिया है। बढ़ती प्रतियोगिता, आगे बढ़ने की होड़ और अधिक से अधिक धन कमाने की इच्छा ने इंसान के जीवन से सुख, चैन व शांति को दूर कर दिया है। सब कुछ पा लेने की इस दौड़ में इंसान सबसे ज्यादा अनदेखा खुद को कर रहा है। … Read more

चौकीदार पुराण

वह युगल जोडी भी प्रहरी ऊर्फ चौकीदार ही थी. उनके नाम थे, जय-विजय. श्रीमद भागवत के तीसरें स्कंध-अध्याय में वर्णित कथा है, जिसे शुकदेवजी महाराज ने पांडवों के वंशज राजा परिक्षित को सुनाई थी जो सातवे दिन अपनी आसन्न मृत्यु की प्रतिक्षा कर रहे थे. कथा कुछ यों है. एक बार जय-विजय वैकुन्ठ द्वार पर … Read more

अपार धन प्राप्ति के लिए आज करें ये छह सरल उपाय.

आज शुक्रवार यानी मां लक्ष्मी का दिन है। आपकी पूजा-अर्चना से मां लक्ष्मी जितना प्रसन्न होती हैं उससे अधिक भगवान विष्णु की आराधना से खुश होती हैं। अतः जल्दी करोड़पति होने की इच्छा रखने वाले लोगों को शुक्रवार के दिन दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर भगवान विष्णु का अभिषेक करना चाहिए। इससे जल्दी ही सौभाग्य … Read more

कल तक वो रीना थी लेकिन आज “रेहाना” है

दिन की शुरुआत अखबार में छपी खबरों से करना आज लगभग हर व्यक्ति की दिनचर्या का हिस्सा है। लेकिन कुछ खबरें सोचने के लिए मजबूर कर जाती हैं कि क्या आज के इस तथाकथित सभ्य समाज में भी मनुष्य इतना बेबस हो सकता है? क्या हमने कभी खबर के पार जाकर यह सोचने की कोशिश … Read more

मेरी पुस्तक का कौन सा संस्करण आपके पास है ?

पाठकों से अनुरोध है कि यदि उनके पास मेरी पुस्तक है तो यह जानकारी दें कि उसमे कौन सा एडिशन लिखा गया है। हमारे पाठकों में प्रकाशक भी हैं, लेखक भी। वकील भी हैं और पाठक भी। मुझे एक और विचार देने का कष्ट करें कि इस परिस्थिति में मुझे क्या कदम उठाना चाहिए ? … Read more

चरणामृत और पंचामृत में क्या अंतर है..?

मंदिर में या फिर घर/मंदिर पर जब भी कोई पूजन होती है, तो चरणामृत या पंचामृत दिया जाता हैं। मगर हम में से ऐसे कई लोग इसकी महिमा और इसके बनने की प्रक्रिया को नहीं जानते होंगे। चरणामृत का अर्थ होता है भगवान के चरणों का अमृत और पंचामृत का अर्थ पांच अमृत यानि पांच … Read more

हम कैसे भुला दें आजादी के परवानों को

*हम कैसे भुला दें आजादी के परवानों को, भगतसिंह, सुखदेव व राजगुरु को आज के दिन हुई थी फांसी* *जब भी वीर सपूतों की बात होती है भगतसिंह पहले याद आते हैं, आज भी वे हमारे आदर्श हैं !* भारत की आजादी के लिए आज ही के दिन हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूलने वाले … Read more

राजनीति में चुनाव और चुनाव की राजनीति

तारकेश कुमार ओझा कद्दावर नेता के निधन की सूचना ऐसे समय आई जब समूचा देश चुनावी तपिश में तप रहा था। काल कवलित नेता की प्रोफाइल चीजों को अलग नजरिए से देखने की सीख दी गई। शिक्षा – दीक्षा ऐसी थी कि राजनीति से दूर रहते हुए ऐशो – आराम की जिंदगी जी सकते थे। … Read more

अपनी सादगी और कर्मठता के लिए याद किये जाएंगे मनोहर पर्रिकर

मनोहर पर्रिकर ऐसे व्यक्ति थे जिन्होंने गोवा में भारतीय जनता पार्टी को ऊंचाइयों पर पहुँचाया इसके साथ ही गोवा में भाजपा को एक अहम् पहचान दिलाई। मनोहर पर्रिकर ऐसे जमीन से जुड़े हुए व्यक्ति थे जो हमेशा सादगी से रहना पसंद करते थे। हमेशा आधे बाजू की शर्ट और स्लीपर में नजर आने वाले मनोहर … Read more

अखिलेश, मुलायम विरासत के अकेले हकदार नहीं!

-संजय सक्सेना, लखनऊ- मुलायम की सियासी विरासत के हकदार केवल अखिलेश यादव ही कैसे हो सकते है,जितना हक उनका है उतना ही मुलायम के दूसरे बेटे प्रतीक का भी होना चाहिए। मुलायम की विरासत से उस भाई को कैसे बेदखल कर दिया गया जिसके कंधे का सहारा लेकर मुलायम ने वोट बैंक की पूंजी कमाई … Read more