‘‘द्विवेदी अभिनंदन ग्रंथ स्वयं में एक विष्व हिंदी सम्मेलन है’’

DSCN2683‘‘ पंडित महावीर प्रसाद द्विवेदी युग निर्माता और युग प्रेरक थे। उन्होंने प्रेमचद, मैथिलीषरण गुप्त जैसे लेखकों की रचनाओं में संषोधत किए। उन्होंने विभिन्न बोली-भाशा में बंटी हिंदी को एक मानक रूप में ढालने का भी काम किया। वे केवल कहानी-कविता ही नहीं, बल्कि बाल साहित्य, विज्ञान, किसानों के लिए भी लिखते थे। हिंदी में प्रगतिषील चेतना की धारा का प्रारंभ द्विवेदीजी से ही हुआ।’’ यह उद्गार थे प्रख्यात लेखक व साहित्य आकदेमी के अध्यक्ष डा. विष्वनाथ प्रसाद तिवारी के। वे आज से 83 साल पहले छपे व आज दुर्लभ महावीर प्रसाद द्विवेदी अभिनंदन ग्रंथ के पुनर्प्रकाषन के विमोचन समारोह में मुख्य अतिथि की आसंदी से बोल रहे थे। राश्ट्रीय पुस्तक न्यास, आचार्य महावीर प्रसाद द्विवेदी राश्ट्रीय स्मारक समिति, रायबरेली और राइटर्स एंड जर्नलिस्ट एसोसिएषन, दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में संपन्न इस समारोह की अध्यक्षता प्रख्यात आलोचक प्रो मैनेजर पांडे कर रहे थे। इस आयोजन में पद्मश्री रामबहादर राय, प्रो. पुश्पिता अवस्थी, नीदरलैंड , अनुपम मिश्र और न्यास की निदेषक डा. रीटा चौधरी विषेश अतिथि थे।
उल्लेखनीय है कि सन 1933 में काषी नागरी प्रचारिणी सभा द्वारा आचार्य द्विवेदी के सम्मान में प्रकायिात इस ग्रंथ में महात्मा गांधी से लेकर ग्रियर्सन तक और प्रेमंचद से ले कर सुमित्रानंदन पंत व सुभद्रा कुमारी चौहान तक देष-दुनिया के सभी विषिश्ट लोगों ने आलेख लिखे थे। कई दुर्लभ चित्रों से सज्जित यह ग्रंथ उस दौर की भारतीय संस्कृति व सरोकार का आईना था। इस दुर्लभ पुस्तक को राश्ट्रीय पुस्तक न्यास ने फिर से प्रकाषित किया है जिसकी भूमिका प्रो. मैनेजर पांडे ने लिखी है। अपने उद्बोधन में प्रो. पांडे ने इस ्रगंथ को भारतीय साहित्य का विष्वकोष निरूपित किया। उन्होंने आचार्यजी की अर्थषास्त्र में रूचि व ‘‘संपत्ति षास्त्र’’ के लेखन, उनकी महिला विमर्षं और किसानों की समस्या पर लेखन में भूमिका पर विस्तार से प्रकाष डाला। श्री अनुपम मिश्र ने पुस्तक में प्रस्तुत चित्रों को अपने विमर्ष का केंद्र बनया। उन्होंने नंदलाल बोस की कृति ‘‘रूधिर’’ और अप्पा साहब की कृति ‘‘मोलभाव’’ पर चर्चा करते हुए उनकी प्रासंगिकता पर विचार व्यक्त किए। श्री मिश्र ने अच्छे कामों के केंद्र को विकेंद्रीकृत करने पर जोर दिया।
नीदरलैड से पधारीं हिंदी विदुशी प्रो. पुश्पिता अवस्थी ने कहा कि इस ग्रंथ को कई-कई बार पढ़ कर ही सही तरीके से समझा जा सकता है। उन्होंने कहा कि हिंदी का असली ताकत उन घरों में है, उन मस्तिश्कों में है जहां भारतीय संस्कृति बसती है। राश्ट्रीय पुस्तक न्यास की निदेषक व साहित्य अकादेमी पुरस्कार से सम्मानित लेखिका डा. रीटा चौधरी ने कहा कि यह अवसर न्यास के लिए बेहद गौरवपूर्ण व महत्वपूर्ण है कि हम इस अनूठे ग्रंथ के पुनर्प्रकाषन के कार्य से जुड़ पाए। उन्होंने ऐसी विषिश्ट पुस्तकों का अनुवाद सभी भारतीय भाशाओं में करने पर बल दिया। डा चौधरी ने कहा कि यह ग्रंथ हिंदी का नहीं बल्कि भारतीयता का ग्रंथ है और उस काल का भारत दर्षन है।
प्रख्यात पत्रकार रामबहादुर राय ने इन दिनों मुद्रित होने वाले नामीगिरामी लोगों के अभिनंदन ग्रंथों की चर्चा करते हुए कहा कि ऐसे ग्रंथों को लोग घर में रखने से परहेज करते हैं, लेकिन आचार्य द्विवेदी की स्मृति में प्रकाषित यह ग्रंथ हिंदी साहित्य, समाज, भाशा, ज्ञान का विमर्ष करते हैं नाकि आचार्य द्विवेदी की प्रषंसा मात्र। उन्होंने इस ग्रंथ को अपने आप में एक ‘‘विष्व हिंदी सम्मेलन’’ निरूपित किया।
कार्यक्रम के प्रारंभ में श्री गौरव अवस्थी ने महावीर प्रसाद द्विवेदी से जुड़ी स्मृतियों का एक पॉवर पाईंट प्रेजेंटेषन किया, जिसमें बताया गया कि किस तरह से रायबरेली का आम आदमी, मजदर, किसान भी आर्चाय द्विवेदी जी को समझाता और सम्मान करता है। अंत में पत्रकार अरविंद कुमार सिंह ने इस ग्रंथ के प्रकाषन हेतु राश्ट्रीय पुस्तक न्यास व इस आयोजन के लिए रायबरेली की जनता को धन्यवाद किया। कार्यक्रम का ंसंचालन पंकज चतुर्वेदी ने किया।

Print Friendly

Choose your typing language Ajmer Hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <s> <strike> <strong>