30 सालों के लिए तैयार करें स्मार्ट सिटी की डीपीआर

एडीए को नोडल एजेंसी बनाने तथा पुष्कर व किशनगढ़ को योजना में शामिल करने का प्रस्ताव भेजा जाएगा राज्य सरकार को
अमेजिंग अजमेर वेबसाइट का शुभारम्भ

ajmer smart cityअजमेर, 04 जून। स्थानीय निकाय विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री मंजीत सिंह ने कहा कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत करवाए जाने वाले विकास कार्यों की डीपीआर और मास्टर प्लान आगामी 30 सालों की आवश्यकताओं को ध्यान में रखकर तैयार करवाया जाए। स्मार्ट सिटी कार्ययोजना के तहत बुनियादी विकास, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, जलापूर्ति सहित अन्य विकास कार्य की डीपीआर तैयार करवायी जाए। योजना के तहत यह तैयारी अभी से करके रख ली जाए ताकि तुरन्त काम शुरू हो सके। योजना के तहत एडीए को नोडल एजेंसी बनाने तथा पुष्कर व किशनगढ़ को योजना में शामिल करने का प्रस्ताव राज्य व केन्द्र सरकार को भेजा जाएगा।
स्मार्ट सिटी योजना के तहत गठित कमेटी की पहली औपचारिक बैठक गुरूवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में सम्पन्न हुई। बैठक को संबोधित करते हुए श्री मंजीत सिंह ने कहा कि स्मार्ट सिटी योजना अजमेर, पुष्कर व किशनगढ़ के विकास में मील का पत्थर साबित होगी। इसकी विभिन्न विकास योजनाओं से जुड़े कार्यों की डीपीआर तैयार करवा ली जाए। यह डीपीआर आगामी 30 वर्षों की आवश्यकताओं पर आधारित हो ताकि लम्बे समय तक इन कार्यों की उपयोगिता बनी रहे।
उन्होंने कहा कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत सीवरेज, जलापूर्ति, पब्लिक ट्रांसपोर्ट, फ्लाईओवर, मल्टीलेवल फ्लाईओवर, पार्किंग, मजबूत ईको सिस्टम आदि पर ध्यान दिया जाए। अजमेर को साईकिल सिटी के रूप में विकसित किया जा सकता है। इसके प्रावधान भी डीपीआर में रखे जाए। इसी तरह नए प्रस्तावित निर्माणों को भी स्मार्ट सिटी कार्ययोजना में शामिल किया जाए।
श्री सिंह ने कहा कि अजमेर के विकास के लिए जितने भी कार्यों की आवश्यकता है उन सबका मास्टर प्लान विशेषज्ञों की देखरेख में ही तैयार हो। सिटी ट्रेफिक मास्टर प्लान में विविध आयामों को शामिल करते हुए इन्हें विशेषज्ञों से तैयार करवाया जाए। शहर को ग्रीन सिटी के रूप में विकसित करने के लिए भी प्रयास अभी से शुरू हो जाए।
बैठक को संबोधित करते हुए संभागीय आयुक्त डाॅ. धर्मेंद्र भटनागर ने कहा कि अजमेर में स्मार्ट सिटी योजना को लेकर तैयारियां कर ली गई है। स्मार्ट सिटी कार्ययोजना के लिए शहर के विभिन्न वर्गों से चर्चा कर विजन डाक्यूमेंट तैयार किया गया है जिसके आधार पर डीपीआर तैयार करवायी जाएगी।
उन्होंने बताया कि योजना के तहत अजमेर में आई.टी. व एज्यूकेशन हब तैयार करने, सिटी हार्टीकल्चर का विकास, सिटी ट्रेफिक प्लान, इन्फ्रास्ट्रक्चर का विकास, पर्यटन विकास सहित अन्य कार्यों की योजना तैयार की जा रही है। स्मार्ट सिटी बैंच मार्क के अनुसार विभिन्न विभागों को योजना तैयार करने को कहा गया है। इन कार्यों के लिए 24 सब ग्रुप तैयार किए गए हंै जो अपने-अपने क्षेत्रा के विशेषज्ञों से चर्चा कर योजना तैयार करेंगे।
उन्होंने बताया कि स्मार्ट सिटी योजना के तहत अजमेर विकास प्राधिकरण को नोडल एजेंसी बनाने तथा पुष्कर व किशनगढ़ को योजना क्षेत्रा मे ंशामिल करने के प्रस्ताव केन्द्र व राज्य सरकार को भेजे जाएंगे। बैठक में भी इस पर सर्वसम्मति से निर्णय हुआ। बैठक में जिला कलक्टर डाॅ. आरूषी मलिक, एडीए आयुक्त श्रीमती स्नेहलता पंवार, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री किशोर कुमार, श्री हरफूल सिंह यादव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।
अमेजिंग अजमेर वेबसाईट का शुभारम्भ
नगरीय विकास विभाग के प्रमुख शासन सचिव श्री मंजीत सिंह ने गुरूवार को संभागीय आयुक्त कार्यालय में स्मार्ट सिटी योजना के तहत अमेजिंग अजमेर वेबसाईट का शुभारम्भ किया। इस वेबसाईट में अजमेर से जुड़ी विभिन्न जानकारियां दी गई है। साथ ही आमजन से सुझाव भी आमंत्रित किए गए है। श्री सिंह ने वेबसाईट को बहुत प्रशंसनीय कदम बताया। संभागीय आयुक्त डाॅ. धर्मेंन्द्र भटनागर ने वेबसाईट के बारे में जानकारी दी। इस अवसर पर जिला कलक्टर डाॅ. आरूषी मलिक, एडीए आयुक्त श्रीमती स्नेहलता पंवार, अतिरिक्त जिला कलक्टर श्री किशोर कुमार, श्री हरफूल सिंह यादव सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Comment