समय बदलने पर किया सावित्री की छात्राओं ने हंगामा

अजमेर। स्कूल का समय बदले जाने से नाराज राजकीय सावित्री कन्या विद्यालय की छात्राओं ने सोमवार को हंगामा खड़ा कर दिया। नाराज छात्राओं ने स्कूल से लेकर क्लेक्ट्रट तक पूरे रास्ते हुड़दंग मचाकर आने जाने वालों के लिये परेशानी खड़ी कर दी। यकायक हुए इस घटनाक्रम से अनजान पुलिस के लिये भी चुनौती खड़ी हो गयी। भारी संख्या में पहुंची छात्राओं ने सड़क पर मानव श्रंखला बनाकर जाम लगा दिया और नारेबाजी करते हुए कलेक्ट्रेट पर प्रदर्शन किया। छात्राओं के आक्रामक तेवर देखने के बाद शिक्षा विभाग ने फिलहाल समय परिवर्तन सम्बन्धी आदेश को वापस ले लिया है। अनुदानित स्कूल के अधिग्रहण के बाद सरकारी बनी सावित्री स्कूल की छात्राओं में इस बात को ले कर आक्रोश था की शिक्षा विभाग ने उनके स्कूल का समय बदल कर सुबह साढ़े दस बजे से शाम चार बजे तक कर दिया है। छात्राओं का कहना था की वे स्कूल के बाद ट्यूशन जाती हंै इसलिए उनके लिए तालमेल बैठाना संभव नहीं है। समय बदले जाने सम्बन्धी अपनी मांग पर अड़ी छात्राओं ने कक्षाओं का बहिष्कार कर स्कूल के सामने वाले मुख्य मार्ग को जाम कर दिया। बाद में सभी छात्राए कलेक्ट्रेट पहुंच गई और वहां भी रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया। छात्राओं का नेतृत्व कर रही आईएसी कोर्डिनेटर कीर्ति पाठक और दो युवा कार्यकर्ताओं को देख पुलिस चौंक्कनी हो गयी और डीएसपी विष्णु देव सामतानी और सिविल लाइन थाना प्राभारी रविन्द्र यादव सहित आरएसी के जाप्ते ने छात्राओं को सड़क पर हुड़दंग मचाने से रोकने का काफी प्रयास किया, लेकिन सफल नहीं हो पाये। छात्राओं के हंगामे को देखने के बाद भी पुलिस ने महिला पुलिस को समय पर नहीं बुलाया और पुरुष पुलिस  ही छात्राओं को धकेलती रही। नाराज छात्राओं ने चेतावनी दी की यदि शिक्षा विभाग ने समय परिवर्तन का आदेश वापस नहीं लिया तो और उग्र आन्दोलन किया जाएगा।
छात्राएं लगभग दो घंटे तक सड़कों पर हंगामा करती रहीं। इस दौरान स्कूल प्रशासन पूरी तरह बेबस सा नजर आया। स्कूल प्राचार्या रंजू पारीक की इत्तला के बाद जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश चंद शर्मा ने स्कूल पहुंच कर छात्राओं के प्रतिनिधिमंडल से वार्ता की। शर्मा ने छात्राओं को समझाने का भी प्रयास किया लेकिन छात्राए अपनी मांग पर अड़ी रही। शर्मा ने निदेशालय से बात करने के बाद व्यवस्था दी की अग्रिम आदेशों तक यह विद्यालय पूर्ववत समय पर ही संचालित किया जाएगा। शर्मा और प्राचार्या रंजू पारीक से जब यह सवाल किया गया की छात्राएं घंटों तक स्कूल परिसर के बाहर रहीं और इस दौरान यदि कोई दुर्घटना हो जाती तो उस का जिम्मेदार कोन होता तो उन्होंने इस बात को स्वीकार किया की छात्राएं बेलगाम हो गई थीं। इस मामले में पुलिस ने दो युवकों को भी हिरासत में लिया है। इन युवकों पर छात्रों को भड़काने का आरोप है। जानकारी यह भी मिली है कि इस पूरे मामले को हवा देने में अभिभावक संघ और स्कूल की कुछ शिक्षिकाओं का भी हाथ है, जो नहीं चाहती हैं कि स्कूल के समय में कोई परिवर्तन हो।

Leave a Comment

error: Content is protected !!