दुर्ग छतीसगढ सिन्धी युवकों के साथ अमानवीय घटना की निंदा

अजमेर- 3 अप्रेल -दुर्ग छतीसगढ में सिन्धी युवकों को अमानवीय तरीके से पकडकर खुले आम हथकडी लगाकर बाजार में घुमाने की घटना व नवभारत के दुर्ग भिलाई संस्करण में 25 मार्च को प्रकाशित समाचार पर हमले को लेकर एक समाचार में पाकिस्तानी सिंधियों को लेकर प्रकाशित एक टिप्पणी का उद्देश्य समाज की भावनाओं को ठेस पहुंची है। समाज की ओर से सिन्धी समाज अजमेर ने निन्दा करते हुये मुख्यमंत्री, छतीसगढ को पत्र लिखकर पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्यवाही करने के साथ ऐसी घटनाओं की पुनरावृति ना हो इसकी भी कार्यवाही की जाये अन्यथा पूरे देश में आन्दोलन किया जायेगा।
सिन्धी समाज ने शहीद हुये हेमू कालाणी का इतिहास व सिन्धुपति महाराजा दाहरसेन का बलिदान व जोहर हुई रानी लाडी व वीरांगना सूर्यकुमारी व परमाल अभिमान व संत कंवर की सेवाओं और समर्पण पर गर्व करता है। आजादी के बाद सनातन संस्कृति को बचाने के लिये अपनी मातृभूमि को छोडकर देश भर में सिन्धी समाज मानव सेवा में समर्पित समाज, दूध में शक्कर से घुल जाने वाले समाज ,जिस समाज के ऊपर 70 साल में कोई देश द्रोह का आरोप न लगा सके, मानवहित में ज़ररूरतमंद के हित में सेवा कार्य करने के साथ समाज की दरबारों में सभी पंथों का सम्मान करता है।
मांग करने वालों में महन्त स्वरूपदास, महन्त हनुमानराम, स्वामी आत्मदास, स्वामी ईसरदास, सांई ओमप्रकाश, स्वामी अर्जुनदास, दादी मोहिनी देवी, भाई फतनदास, दादा नारायणदास के साथ समाज के कंवल प्रकाश किशनानी, भगवान कलवाणी, गिरधर तेजवाणी, हरी चन्दनानी, महेन्द्र कुमार तीर्थाणी, जगदीश अबिचंदाणी, राधाकिशन आहूजा, जी.डी. वृदांणी, प्रकाश जेठरा, रमेश टिलवाणी, जगदीश भाटिया, नवलराय बच्चाणी, महेश तेजवाणी, हरीश वर्याणी, जोधा टेकचंदाणी, राजा ठारवाणी, वासुदेव मंघाणी, हरीश झामनाणी, अशोक तेजवाणी,पुष्पा साधवाणी, दिशा किशनाणी,
मोहन तुलसियाणी, नारायण सोनी, के.जे. ज्ञानी, खेमचन्द नारवाणी, वासुदेव कुंदनाणी, राजा जेठाणी, तरूण टिक्याणी, भगवान साधवाणी, मोहन चेलानी, जयकिशन लख्याणी, महेश टेकचंदाणी, गोविन्द जैनाणी, अशोक चिबराणी, दिलीप थदाणी, दिलीप बूलचंदाणी, कमल लालवाणी, राम खूबचन्दाणी, चन्द्र बालाणी, हरकिशन टेकचन्दाणी, वासदेव लालवाणी, हरीश खेमाणी, अनिल चांडवाणी, किशन नेभवाणी, दिलीप मंघनाणी, मंघाराम, जयप्रकाश मंघनाणी, वासुदेव लालवाणी, दीपक चन्दनाणी, चन्द्र गोकलाणी, ईश्वर शिवनाणी, मोहन लालवाणी, मोती जेठाणी, अनिल तेजवाणी आदि शामिल हैं।

Leave a Comment